सरकार के वादा खिलाफी से आक्रोशित मनरेगा कर्मियों का हड़ताल की धमकी

25
1442
विशद कुमार
 झारखंड राज्य मनरेगा कर्मचारी संघ के प्रदेस अध्यक्ष जॉन पीटर बागे ने एक प्रेस बयान जारी कर कहा है कि पूरा देश और प्रदेश कोरोना महामारी के भयंकर प्रकोप से प्रतिदिन जुझ रहा हैं, ऐसे समय में सरकार के साथ संघ का तोल-मोल करने की मंशा बिल्कुल भी नहीं है। लेकिन सरकार के निष्ठुर और असंवेदनशील रवैये की वजह से और बार-बार सरकार द्वारा दिए गए आश्वासन को पूरा न करने के मद्देनजर तथा कोरोना वायरस के सम्भावित खतरे के दृष्टिगत सामाजिक सुरक्षा एवं जीवन बीमा के लिए हम मनरेगा कर्मी गुहार लगा रहे हैं I
               वर्ष 2020-21 में एवं उसके पूर्व विश्वनाथ भगत, ज्योति सल्गी एक्का, ओविदन टूड्डु, दुलाल सिंह मुण्डा, एवं धनन्जय पुरान सहित हमारे कई साथियों की मृत्यु कार्य बोझ, मानसिक दबाव, हाइपर टेंशन एवं इलाज के अभाव में हो गई। लेकिन सरकार ने उनके आश्रितों को एक रुपये भी मुआवजा अथवा बीमा के रूप में नहीं दिया है, इसी आक्रोश के कारण राज्य के सभी मनरेगा कर्मियों ने पिछले 27/07/2020 से 10/09/2020 तक अनिश्चितकालीन हड़ताल किया था। हड़ताल के दौरान हमारे शीर्ष नेतृत्वकर्ता साथी प्रदेश अध्यक्ष अनिरुद्ध पांडेय और मुकेश राम धनबाद जिला अध्यक्ष को बर्खास्त कर दिया गया। बहरहाल 10/09/2020 को राज्य के मनरेगा कर्मियों ने सरकार के आश्वासन पर भरोसा करके काम पर लौटने का निर्णय लिया था। लेकिन हड़ताल टूटने के 8 माह बाद भी सरकार द्वारा दिए गए आश्वासन (दुर्घटनाबीमा, जीवनबीमा, मृत मनरेगा कर्मियों के आश्रित को मुआवजा, मानदेय बढ़ोतरी, महँगाई भर्ती एवं अन्य मांगों को एक से डेढ़ माह में पूरा करने का आश्वासन दियागयाथा) जो आज तक पूरा नहीं किया गया।
             कोरोना वायरस के दूसरे लहर वर्ष 2021 ने हमारे  छः साथियों को एक-एक करके निगल लिया है, जिनमें 1. अरुणा लकड़ा (राँची), 2. संतोष चौरसिया ( धनबाद), 3. प्रभा एक्का (सिमडेगा), 4. मो0 शमशेर अंसारी (गिरिडीह), 5. जगदीश तिर्की (राँची) और 6. लिट्टू उरांव ( राँची) शामिल हैं।
         बिना सुरक्षा, बिना बीमा एवं अन्य सुविधाओं के मनरेगा कर्मियों से कोरोना ड्यूटी ली जा रही हैं, जिससे कई मनरेगा कर्मी प्रतिदिन संक्रमित हो रहे है, साथ ही साथ अपने परिवार को भी संक्रमित कर रहे हैं। जिस कारण कई कर्मियों के परिवार के सदस्यों की भी मृत्यु हो गई है। साथ ही अर्थाभाव के कारण इलाज नहीं करा पाने से उनकी स्थित दिन व दिन बिगड़ती जा रही हैं। राज्य के मनरेगा कर्मी सरकार की वादा खिलाफी और साथियों के मृत्यु से आक्रोशित होकर अपनी जान बचाने के लिए पुन: हड़ताल पर जाने की मांग कर रहे हैं। बावजूद संघ की ओर से मांग पूरा करने के लिए सरकार को लिखे गए पत्र को सरकार द्वारा बार बार हल्का में लिया जा रहा। अभी तक सरकार की ओर से मनरेगा कर्मियों के लिए किसी प्रकार का कोई सार्थक पहल नहीं किया गया है। ऐसी स्थिती में मनरेगा कर्मियों की समस्याओं को गंभीरता से लेते हुए और हमारी मांगों को पूरा करने के लिए संघ द्वारा सरकार को पुन: मांग पत्र दिया गया है।

25 COMMENTS

  1. Generally I do not read post on blogs, however I wish to say that this write-up very pressured me to take a look at and do so! Your writing style has been amazed me. Thanks, very great post.

  2. I have been surfing on-line greater than three hours nowadays, yet I never discovered any attention-grabbing article like yours. It is beautiful value enough for me. Personally, if all web owners and bloggers made excellent content as you did, the net might be much more helpful than ever before.

  3. I will right away snatch your rss as I can’t in finding your email subscription hyperlink or newsletter service.
    Do you’ve any? Kindly permit me recognise so that I may just subscribe.
    Thanks.

  4. I used to be recommended this blog by my cousin. I’m now not
    sure whether this post is written through him as nobody else recognize such exact approximately my problem.
    You’re wonderful! Thanks!

  5. What i do not realize is in fact how you’re not really a lot more smartly-liked than you may be right now.

    You are so intelligent. You understand therefore significantly on the subject of this subject, produced me for my part consider it from a
    lot of varied angles. Its like men and women don’t seem to be interested until it is something to do with Woman gaga!
    Your personal stuffs outstanding. At all times deal with
    it up!

  6. We are a gaggle of volunteers and starting a brand new scheme in our community.

    Your website offered us with helpful information to work on. You’ve performed a formidable task and
    our whole neighborhood shall be grateful to you.

  7. Hello! I know this is kinda off topic but I’d figured I’d ask.

    Would you be interested in exchanging links or maybe guest writing a blog post or vice-versa?
    My website addresses a lot of the same topics as yours and I believe we
    could greatly benefit from each other. If you’re interested feel
    free to send me an email. I look forward to hearing from you!
    Terrific blog by the way! asmr https://app.gumroad.com/asmr2021/p/best-asmr-online asmr

  8. Hmm it looks like your website ate my first comment (it
    was extremely long) so I guess I’ll just sum
    it up what I submitted and say, I’m thoroughly enjoying your
    blog. I too am an aspiring blog writer but I’m still new to everything.
    Do you have any helpful hints for first-time
    blog writers? I’d definitely appreciate it. cheap flights
    http://1704milesapart.tumblr.com/ cheap flights

  9. Whats up very cool site!! Man .. Beautiful .. Superb ..
    I’ll bookmark your website and take the feeds also? I am glad to seek out numerous
    helpful information here within the publish, we want work out extra techniques in this regard,
    thanks for sharing. . . . . .

  10. I think everything said was actually very logical.
    But, what about this? what if you composed a catchier post title?

    I mean, I don’t wish to tell you how to run your blog, but what if you added a title to possibly grab folk’s
    attention? I mean सरकार के वादा खिलाफी से आक्रोशित मनरेगा कर्मियों का
    हड़ताल की धमकी – HamaraMorcha is a little boring.
    You ought to glance at Yahoo’s front page and watch how they create article headlines to get viewers to open the
    links. You might add a related video or a related pic or two to get
    readers interested about what you’ve got to say. Just my opinion, it might
    make your blog a little bit more interesting.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here