बीएसएनएल, वाराणसी के थर्ड पार्टी वेंडर रणविजय मौर्या से आखिर क्यों डरे हुए हैं सभी अफसर, कोई क्यों नहीं ले रहा उसके खिलाफ एक्शन?

0
823

बीएसएनएल के थर्ड पार्टी वेंडर रणविजय मौर्य की दादागीरी बदस्तूर जारी है और अब देखना यह है कि बीएसएनएल, वाराणसी के जीएम अनिल गुप्ता (8005400054, ईमेलः gmbavs@gmail.com) का वह फोन उठाता है और मेरी समस्या का निराकरण करता है, या नहीं। समस्या का निराकरण अगर नहीं हुआ तो जनता-जनार्दन यह जान ले कि बिना किसी अपवाद के सभी लोग दलाली खा रहे हैं और सरकारी उपक्रम को सोची-समझी और तय नीति के तहत बर्बाद करने पर तुले हुए हैं। एसडीओ संजीव कुमार का कहना है कि वह उनका भी फोन नहीं उठाता, कल फोन पर प्रदीप कुमार वर्मा ने भी अपने हाथ खड़े कर दिए कि बहुत खराब वेंडर है और रणविजय मौर्या का वह कुछ नहीं कर सकते। लब्बोलुबाब यह कि चूँकि रखरखाव का जिम्मा उसी के पास है और वह किसी भी शिकायत पर कान नहीं देगा और ये लोग उस पर एक्शन लेने में असमर्थ हैं तो भइया आप सभी लोग कनेक्शन कटवा दीजिए, या फिर वैसा कोई उपाय कीजिए सभी संबंधित लोगों में भय का संचार हो और वे आदमी बनने की ओर उन्मुख हों।  प्रदीप कुमार वर्मा (94152 43600) और एमके सिंह (94150 04018) नामक बीएसएनएल के वरिष्ठ अधिकारियों और एसडीओ संजीव कुमार (94509 21270) की शह रणविजय को मिली हुई है और वह बदस्तूर उपभोक्ताओं का खून पिए जा रहा है। उपभोक्ताओं को लूटने और उन्हें चूना लगाने में कौन-कौन अधिकारी शामिल हैं, यह जाँच का विषय है और जनता को इन हरामखोरों को बेनकाब करने के लिए आगे आना चाहिए।
वाराणसीः हमारा मोर्चा वेबसाइट के सुचारु संचालन के लिए तकरीबन एक माह पहले मैंने यानि कि कामता प्रसाद तिवारी ने बीएसएनएल के एयर फाइबर के लिए एप्लाई किया था। मैंने जो प्लान माँगा था उसकी बिना फीजिबिलिटी चेक किए कनेक्शन मुझे दे दिया गया। स्पीड मुझे मिली 20 MBPS। लेकिन बिल मुझे सबसे मँहगे वाला प्लान का थमाया गया है। और प्लान चेंज करने के नाम पर अलग से पैसा माँगा गया है।
एक महीना की अवधि में रणविजय नामक वेंडर (81818 81888) ने एक भी फोन अटेंड नहीं किया, उसके दफ्तर का लैंडलाइन नंबर डेड है। बीएसएनएल के सारे अधिकारियों ने अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रखा है। बिल का भुगतान नहीं होने पर ये लोग सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करने से बाज नहीं आएंगे। इन्हें उपभोक्ताओं से मनमाना पैसा वसूलना है और सर्विस नहीं देनी, वह तो थर्ड पार्टी वेंडर का काम है, वह करे चाहे न करे, उस पर इनका कोई वश नहीं।

एक बार के बाद थर्ड पार्टी वेंडर का न कोई बंदा आया, न किसी ने फोन अटेंड किया। रणविजय मौर्या नामक बीएसएनएल के वेंडर ने एक बार फोन अटेंड कर लिया और प्लान चेंज करवा दिया। 11 हजार रुपये मैंने उसको दिया था कनेक्शन करवाने के नाम पर। BSNL का एसडीओ संजीव कुमार इस सारे धतकरम की जड़ में है और निजी वेंडरों से मिलकर ग्राहकों का खून पी रहा है। आप लोग ब्रॉडबैंड के बिल को देखिए और समझिए कि किस तरह से पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के नाम पर सरकारी उपक्रम के अफसर दलाली खा रहे हैं।
मैंने एयर फाइबर के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरा, उसमें मैंने जो प्लान माँगा था उसकी फीजिबिलिटी चेक किए बिना मुझे सबसे कम वाला प्लान देकर सबसे अधिक का पैसा वसूल रहे हैं। एसडीओ संजीव कुमार थर्ड पार्टी वेंडर से मिलकर उपभोक्ताओं को लूट रहा है। 11 हजार रुपये मैंने रणवीर मौर्या को दिए थे। दोनों के नंबर आपको दे रहा हूँ। कृपया कनेक्शन कटवाने और फर्जीवाड़े वाली रकम हटवाने की मेहरबानी करें।
रणवीर मौर्या ने वह प्लान एक्टिवेट करवा दिया, जो वह मेरे प्लेस पर दे नहीं सकता था। उस प्लान का पैसा बिल में जुड़ा है और फिर प्लान चेंज करने का पैसा जुड़ा है। बिल को कृपया दुरुस्त करवाकर दोबारा भिजवाएं और कंप्लेन अटेंड किए जाने की व्यवस्था करवाएं।
पहले मेरे प्लेस पर फीजिबिलिटी चेक करवाई जानी थी तब कनेक्शन देना था। एक बार के बाद मौर्या का कोई भी बंदा मेरे स्थान पर नहीं आया। न तो लैंडलाइन फोन लगाने और न ही वायर बदलने जो कि कम है और बेहद कसा हुआ है।
बीएसएनएल का कोई भी अधिकारी रणविजय नामक वेंडर की जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं, बस इनको बिल का भुगतान चाहिए।
हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि जिस स्पीड का इंटरनेट हमें मिला हुआ वह सबसे कम प्लान वाला है, उतने पैसे हमसे ले लिए जाएं और कनेक्शन काट कर हमेशा के लिए झंझट मुक्त कर दें। जब इनके यहाँ कंप्लेन अटेंड करने की कोई व्यवस्था ही नहीं है तो इनकी सर्विस को कांटीन्यू करने का कोई तुक नहीं है।
बताया जाता है कि प्रदीप कुमार वर्मा नामक बीएसएनएल के वरिष्ठ अधिकारी और एसडीओ संजीव कुमार की शह रणविजय को मिली हुई है और वह बदस्तूर उपभोक्ताओं का खून पिए जा रहा है। उपभोक्ताओं को लूटने और उन्हें चूना लगाने में कौन-कौन अधिकारी शामिल हैं, यह जाँच का विषय है और जनता को इन हरामखोरों को बेनकाब करने के लिए आगे आना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here