मज़दूर उत्पीड़क मालिक के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की माँग

0
98

नाबालिग मज़दूर से मारपीट के दोषी मालिकों को सख्त सजाओं और पीड़ित परिवार व यूनियन नेताओं पर झूठे पुलिस केस रद्द करने की माँग

कारखाना मज़दूर यूनियन ने नाबालिग मज़दूर से मारपीट के दोषी मालिकों के खिलाफ़ संघर्ष कर रहे पीड़ित परिवार और यूनियन नेताओं पर झूठा पुलिस केस दर्ज करने की सख्त निंदा की है माँग की है कि दोषी मालिकों पर नाबालिग मज़दूर से मारपीट करने, पुलिस के पास झूठी शिकायत करने, बाल मज़दूरी कराने के अपराधों के तहत सख्त धाराएँ लगाई जाएँ और जेल भेजा जाए, पीड़ित परिवार और मज़दूर नेताओं पर दर्ज पुलिस केस रद्द किया जाए, मालिकों से मिलीभगत करने वाले पुलिस अफसरों के खिलाफ़ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए।
आज इस संबंध में कारखाना मज़दूर यूनियन के अध्यक्ष लखविंदर ने प्रेस विज्ञप्ति जारी की है।

मामला यह है कि नाबालिग मज़दूर राजू लुधियाणा के ताजपुर रोड स्थित डीसी हार्डवेयर पर काम करता था। डीसी हार्डवेयर और गंगा डेयरी के मालिक भाइयों ने राजू के साथ न सिर्फ बुरी तरह मारपीट की बल्कि पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए उस पर चोरी का झूठा दोष भी लगा दिया। पीड़ित परिवार द्वारा मालिक के पास शिकायत के बाद भी पुलिस ने अपने मज़दूर विरोदी और मालिक पक्षधर चरित्र के मुताबिक पीड़ित नाबालिग मज़दूर को इंसाफ देने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की। मालिकों और पुलिस ने पीड़ित परिवार पर दबाव डालने, डराने-धमकाने, खरीदने की बहुत सी नाकाम कोशिशें कीं। पुलिस को टेक्सटाइल-हौज़री कामगार यूनियन के नेतृत्व में हुए एकजुट संघर्ष के दबाव में दोषी मालिकों के खिलाफ़ मामला दर्ज करना पड़ा। लेकिन इस पुलिस-मालिक गठबंधन ने बदला लेने के लिए पीड़ित परिवार और यूनियन नेताओं पर झूठा केस भी दर्ज कर दिया। लुधियाणा के मज़दूरत, किसान, नौजवान, जनवादी अधिकार संगठनों ने पुलिस कमिश्नर को माँग पत्र सौंप कर इंसाफ की माँग की है और इंसाफ ना मिलने की सूरत में संघर्ष की चेतावनी दी है।

जारी कर्ता,

लखविंदर सिंह,

अध्यक्ष, कारखाना मज़दूर यूनियन, पंजाब

फोन नं- 9646150249

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here