आरक्षण समुद्र मंथन से निकला विष हैः आरडी आनंद

171
852

जिस जाति व्यवस्था के लिए ब्राह्मणों ने अपने तरीके से अनेक प्रयास किए और अपने वर्चस्व के लिए वेदों, पुराणों, श्रुतियों, स्मृतियों की रचना करते हुए जाति व्यवस्था को अक्षुण रखा हो, उसने आजादी आंदोलन के दौरान जाति व्यवस्था को टूटते हुए महसूस किया। तत्पश्चात, संविधान निर्माण के समय ब्राह्मणों ने अपनी एकता दिखाते हुए गांधी जी का प्रयोग किया तथा पूना पैक्ट करके डॉ. आम्बेडकर को आरक्षण लेने के लिए बाध्य कर दिया। आरक्षण के बहाने इस देश के जातिवादियों ने संविधान में अनुसूचित जातियों/जनजातियों को जाति प्रमाण-पत्र बनवा कर आरक्षण लेने के लिए प्रस्तुत करने को न सिर्फ बाध्य किया बल्कि जाति प्रमाण-पत्र बनवाने को संवैधानिक और अनिवार्य भी बना दिया। आज दलित स्वयं चमार, पासी, कोरी, धोबी का प्रमाण-पत्र प्रस्तुत कर ब्राह्मणों के जातिप्रथा को मजबूती प्रदान कर रहा है। इस प्रकार, यह कहा जा सकता है कि भारतीय संविधान ने जाति व्यवस्था को मजबूत किया है। हमें जाति प्रमाण-पत्र बनवाने की बाध्यता को खत्म करवाने का भी संघर्ष करना चाहिए।

 

पूना पैक्ट खत्म करो। हमें पृथक निर्वाचन चाहिए। हम जाति प्रमाण-पत्र क्यों दें। 2000 सालों तक ब्राह्मणों ने अपने व्यक्तिगत पुस्तकों में बिना हमारी मर्जी के हमारे विरुद्ध लिखा था लेकिन संविधान तो सर्वमान्य नैतिक और संविधिक दस्तावेज है जिस पर हमारे भी हस्ताक्षर हैं इसलिए इसने हमें सर्वमान्य व स्वयंमान्य शूद-चमार बना दिया।

 

पूना पैक्ट ने डॉ. आम्बेडकर साहब से पृथक निर्वाचन छीनकर आरक्षण का झुनझुना तो पकड़ा ही दिया। आरक्षण की स्थिति में दलितों का जितना फायदा नहीं हुआ उससे कहींअधिक नुकसान हो गया। सबसे अधिक नुकसान तो उनकी नैतिकता का हुआ जो उन्हें बिना किसी जोर-जबरदस्ती के चमार, पासी, कोरी लिखना पड़ रहा है तथा आरक्षण की आवश्यकता के लिए जातिप्रथा को स्वीकार करना पड़ रहा है। यदि पूना पैक्ट न हुआ होता तो दलित कौम पृथक निर्वाचन से अपने सफल और संगठित नेतृत्व को तैयार कर ले गया होता जो हमेशा सवर्ण जातियों को टक्कर देता और जाति प्रमाण-पत्र बनवाकर स्वयं निरीह और ज़लील न होता।

 

इसका अर्थ हुआ कि हमें आरक्षण नहीं पृथक निर्वाचन लेना चाहिए। आरक्षण की वजह से हमें जाति प्रमाण-पत्र बनवाना पड़ता है जो हमें बहुत खलता है। इतना सत्य है कि पृथक निर्वाचन यदि हम हारे न होते तो हमारी बेहतरीन उन्नति हुई होती और हमें न आरक्षण के सहारे जीना पड़ता और न ही चमार, धोबी, कोरी का प्रमाण-पत्र ही बनवाना पड़ता। इस संवैधानिक प्रक्रिया से हम स्वयं ब्राह्मणों के चौथे वर्ण को मानने को मजबूर हैं।

 

होता क्या है, लोग वस्तुगत वैचारिकी के गहराई में न जाकर स्वयं को बाबा साहब का असली अनुयायी और असली हकदार मान लेते हैं तथा सामने वाले को बाबा साहब का निंदक मान बैठते हैं क्योंकि हमारे साथियों में तर्क करने की क्षमता ही विकसित नहीं हो पाई है।

 

लेकिन, उस दबाव ने डॉ. आम्बेडकर साहब से पृथक निर्वाचन छीनकर आरक्षण का झुनझुना तो पकड़ा ही दिया। आरक्षण की स्थिति में दलितों का जितना फायदा नहीं हुआ उससे कहींअधिक नुकसान हो गया। सबसे अधिक नुकसान तो उनकी नैतिकता का हुआ जो उन्हें बिना किसी जोर-जबरदस्ती के चमार, पासी, कोरी लिखना पड़ रहा है तथा आरक्षण की आवश्यकता के लिए जातिप्रथा को स्वीकार करना पड़ रहा है। यदि पूना पैक्ट न हुआ होता तो दलित कौम पृथक निर्वाचन से अपने सफल और संगठित नेतृत्व को तैयार कर ले गया होता जो हमेशा सवर्ण जातियों को टक्कर देता और जाति प्रमाण-पत्र बनवाकर स्वयं निरीह और ज़लील न होता।

 

तर्क में बुरा मानने का कोई स्थान नहीं है। हमें लिखते समय शब्दों पर बहुत ध्यान देना चाहिए कि आप कहना क्या चाहते हैं और लिख क्या रहे हैं। आप लिख रहे हैं कि “जरूरत से ज्यादा मूर्ख” अर्थात मुझे जरूरत भर का मूर्ख समझने की सलाह दे रहे हैं। किसी भी व्यक्ति के विचारों और उपलब्धियों पर विमर्श किया जाना उचित है लेकिन उसको मूर्ख की किसी भी कैटेगरी में नहीं खड़ा किया जाना चाहिए और बाबा साहब जैसे व्यक्ति के बारे में ऐसा सोचना स्वयं में बहुत बड़ा अपराध है। खैर। आप का अर्थ है जगजीवनराम और कोविंद साहब मूर्ख अथवा अनुचित हैं? आप का मत है कि विपरीत परिस्थिति में हुए अहितकर कार्य को अहितकर न कहा जाय? अर्थात विपरीत परिस्थिति में डॉ. आम्बेडकर साहब से गोलमेज कांफ्रेंस के संघर्ष से प्राप्त साइमन कमीशन द्वारा पृथक निर्वाचन पर पूना पैक्ट हो जाना अच्छा कार्य और उचित मान लिया जाय? उसके बदले आरक्षण को प्राप्त कर लेना श्रेष्कर कार्य हो गया? विपरीत परिस्थितियों में डॉ. आम्बेडकर को समझौता करना पड़ा। समझौता बुरा था। वह उनकी हार थी। वह हमारी हार थी लेकिन उससे यह नहीं सिद्ध होता कि वह डॉ. आम्बेडकर की मूर्खता थी। आप लोग तर्क करते-करते इतने अधिक भावुक और असहिष्णु हो उठते हैं कि आपा खो बैठते हैं और जो लेखक का मत नहीं होता है, वह दिखाने की कोशिश करते हैं तथा लेखक के प्रति विष वमन करने के लिए तनिक की इंतजार नहीं करते हैं।

 

आप पृथक निर्वाचन और आरक्षण की भिन्नता के वजन पर यदि ध्यान दे देंगे तो आप स्वयं लज्जित हो उठेंगे कि आरक्षण झुनझुना के बराबर का भी अस्तित्व नहीं रखता है।

 

बाबा साहब को प्रज्ञावान, संघर्षशील, विद्वान महापुरुष ही मानिए, देवता मत बनाइए। किसी भी व्यक्ति को उचित सम्मान देना बहुत पुनीत कार्य है लेकिन त्रुटिरहित, परमपुनीत और अद्वितीय मान लेना विकास और विज्ञान को गाली देना और न मानना हो जाएगा। बुद्ध की बात हमेशा याद रखिए, किसी भी बात को इसलिए नहीं मान केना चाहिए कि उस बात को किसी बहुत बड़े विद्वान ने कहा है। किसी बास्त को इसलिए नहीं मान लेना चाहिए कि वह बहुत बड़ी कितबमें लिखी गई है। किसी भी बात तो तब मानना चाहिए जब वह तर्क की कसौटी पर खरी उतरे। मान और सम्मान किसी बात के पुरातन हो जाने अथवा विज्ञान के तराजू पर खरा न उतरने के कारण खत्म नहीं हो जाता है बल्कि किसी महान आदमी की महत्ता उसके मंतव्यों के वैज्ञानिक तरीके से विकसित होने अथवा किए जाने पर निर्भर करता है। बाबा साहब व बुद्ध को ‘एज इट इज’ मानकर सम्मान देना उनके महत्व को कम करके महत्व देना है बल्कि जब हम उनके असली मकसद को प्राप्त करने के लिए उचित व क्रांतिकारी रास्ता ढूढ़ लेंगे, वह उचित सम्मान होगा।

 

मैं आप के चिंतन के भिन्न कहाँ लिखा हूँ। मैंने सिर्फ एक बात पर फोकस किया कि संविधान एक तरह से जातिप्रथा को मजबूत ही करता है, और आप ने न जाने क्या-क्या और कितना कह डाला? क्या यह संविधान हमें जाति प्रमाण-पत्र बनवाने के लिए बाध्य नहीं करता है?

 

इसका अर्थ है कि पूना पैक्ट ठीक हुआ? यदि पूना पैक्ट न हुआ होता तो आरक्षण न मिलता, फिर क्या होता? फिर हमें पृथक निर्वाचन प्राप्त हो जाता और हम इससे अधिक सम्पन्न होते तथा जाति प्रमाण-पत्र न बनवाना पड़ता। सोचिए।

 

मैं कब कह रहा हूँ कि कोई आरक्षण न ले, लीजिए न लेकिन जाति प्रमाण पत्र बनवाइए और मानिए कि यह संविधान की देन है। यदि आरक्षण संविधान की वजह से मिल रहा है तो जाति प्रमाण पत्र भी संविधान की वजह से बनवाना पड़ रहा है।

 

आप यह क्यों भूल जाते हैं कि जब हमें जाति प्रमाण-पत्र न बनवाना पड़ता और पृथक निर्वाचन मिल गया होता, बाबा साहब को पूना पैक्ट न करना पड़ा होता, तो कितना विकास हो गया होता। आरक्षण देकर हमारे वास्तविक और तेज विकास को रोक दिया गया।

 

यदि आप मुझसे सहमत नहीं हैं तो इसका अर्थ है कि आप जाति प्रमाण-पत्र बनवाए जाने के पक्ष में हैं। ब्राह्मण तो चाहता है कि दलित स्वयं अपनी जाति बताए और प्रसाद ले जाए। जब तक दलित अपनी जाति नहीं बताएगा तब तक संविधान उसे किसी भी प्रकार का आरक्षण नहीं देगा। जाति प्रमाण-पत्र बनवाने की वैधानिक जरूरत न मुगलों के संविधान में था और न अंग्रेजों के संविधान में था। जब देश आजाद हो गया तब ब्राह्मणों ने बड़ी चालाकी से संविधान में जाति प्रमाण-पत्र बनवाने की संवैधानिक जरूरत को विहित करवा दिया।

 

यह सब तो है ही, इन्होंने जाति प्रमाण पत्र बनवाना संवैधानिक करवा लिया। आज हम स्वयं कहते हैं कि हम चमार हैं।

 

आरक्षण के दबाव में दलित जातिप्रथा उन्मूलन के अहम और मूल सवाल को नजरअंदाज कर देता है। उसे लगता है आरक्षण ही एकमात्र दलित उत्थान और विकास का एकमात्र रास्ता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि दलित योद्धा तो बनता है लेकिन क्रांति नहीं करना चाहता है। यह शोध का विषय है कि क्या दलितों के डीएनए में भीरूपन है जिससे वह नए चीज को पाने के लिए रिस्क नहीं लेना चाहता है अथवा भौतिक परिस्थितियों ने दलितों में जुझारूपन नहीं पैदा होने दिया है? आम्बेडकर साहब का फाइनल गोल समाजवाद को प्राप्त करना था लेकिन दलित बीच में ही आरक्षण-आरक्षण खेल रहा है। जातिप्रथा उन्मूलन और समाजवाद को लागू करना आम्बेडकर साहब के अनुयायियों का नैतिक और भौतिक लक्ष्य होना चाहिए लेकिन दलित पाने में उतना विश्वास नहीं रखता है जितना खोने से डरता है। आम्बेडकर साहब का आध्यात्मिक भूख बौद्ध धर्म था लेकिन सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक भूख की संतुष्टि के लिए संसदीय लोकतंत्र प्लस राजकीय समाजवाद था।

 

इसका अर्थ हुआ गाँधी ने बहुत अच्छा किया क्योंकि आरक्षण का प्रस्ताव गाँधी का था आम्बेडकर साहब का नहीं। आम्बेडकर साहब ने तो मजबूरी में आरक्षण को स्वीकार किया था। आम्बेडकर साहब आरक्षण नहीं चाहते थे बल्कि वे पृथक निर्वाचन ही चाहते थे। अगर गाँधी आमरण अनशन न किए होते और आम्बेडकर साहब को पूना पैक्ट न करना पड़ा होता तब तो दलितों को आरक्षण न मिलता। तब क्या होता दलितों का?

 

गाँधी के आमरण अनशन से आम्बेडकर साहब को पूना पैक्ट करना पड़ा। पूना पैक्ट की वजह से दलितों के हिस्से में आरक्षण आया। दलित साथियों की बुद्धि न जाने कहाँ चली जाती है, वे आरक्षण को अपना सर्वस्व मान बैठते हैं। आरक्षण की बुराई अथवा मूल्यांकन प्रारम्भ करते ही दलित बौखलौ उठता है। उसे लगता है जैसे आरक्षण का मूल्यांकन करके हमने आम्बेडकर साहब की निंदा कर दी है। दलित-मित्रों! पृथक निर्वाचन खरा सोना था और आरक्षण गिलन्ट है। आप से सोना लेकर गिलन्ट पकड़ा दिया गया। आप हैं कि गिलन्ट से खुश हैं।

 

यदि दलितों को पृथक निर्वाचन का अधिकार प्राप्त हो गया होता तो आज दलितों का सर्वांगीड़ विकास हो गया होता। पृथक निर्वाचन से जहाँ 100 प्रतिशत विकास संभव था वहाँ दलित आरक्षण से हुए 10 प्रतिशत के इकहरे विकास से खुश है। दलितों को यदि पृथक निर्वाचन का अधिकार मिल गया होता तो आज उन्हें मल्टीनेशनल्स से न डरना पड़ता कि वे नौकरियों में आरक्षण नहीं देंगे।

 

सोचो मित्र सोचो। चिंतन करो। विमर्श का अर्थ तौहीन नहीं है।

 

आरक्षण पूना पैक्ट से निकला हुआ धोखे का बहुत बड़ा जिन है। आरक्षण समुद्र मंथन से निकला हुआ विष है जिसे गाँधी ने आमरण अनशन करके डॉ. आम्बेडकर को पकड़ा दिया और दलितों को अमृत के बदले विष पीना पड़ रहा है।

 

आप के बेहद प्यार और तात्कालिक गुस्से के लिए आभार। मैं अपने बाद जब भी कुछ बेहतर व्यक्तियों के बारे में सोचता हूँ तो आप उन टॉप टेन में होते हैं। मीमांसा के अतिरिक्त आप में आत्मानुभूति (Realization) का विशेष गुण है। आप एक अच्छे व्यक्ति हैं और अच्छे क्रांतिकारी बनने की प्रक्रिया में हैं।

 

हम जातिवाद के युग में हैं। हम किसी न किसी जाति में पैदा हुए हैं। हर जातियों के सिद्धांत हैं। हर जातियों के मसीहा हैं। जातिवाद का विरोध करते हुए हम जातीय विमोह में फँसे हुए हैं। इस जातीय विमोह के चक्कर में हम अपने मनीषी-मसीहा को जाति में बाँध कर रखे हुए हैं। आम्बेडकर परम विद्वान हैं। आम्बेडकर मेरे हैं। आम्बेडकर को सम्मान देना सिर्फ मेरा काम है। हम उनकी तौहीन नहीं होने देंगे। आम्बेडकर दलित हैं। आम्बेडकर महार हैं। अजीब सी विडम्बना है। हम जातिवाद का विरोध करते हुए जाति जे खूँटे को पकड़े बैठे हैं और उस महान व्यक्ति को भी जाति के घरौंदे से बाहर नहीं निकलने देना चाहते हैं जिसने स्वयं के 13 अक्टूबर 1935 के सपथ को 14 अक्टूबर 1956 को बौद्ध धर्म स्वीकार कर पूरा किया कि मैं हिन्दू धर्म में पैदा तो जरूर हुआ हूँ, वह मेरी मरजी नहीं विवशता थी लेकिन मैं हिन्दू धर्म में रहकर मरूँगा नहीं। दलित साथी यह नहीं सोचते और न मानना चाहते हैं कि जब डॉ. आम्बेडकर हिन्दू नहीं रहे तो वे भला दलित और महार कहाँ रहे लेकिन नहीं दलित अपने हित में उन्हें महार व दलित ही बनाए रखना चाहता है। जन्मना दलित को व्यवहारतः जाति से डिकास्ट हो जाना चाहिए। यहाँ तक डिकास्ट करिए कि कोई चमार कहकर गाली दे तब भी आप को प्रभावित नहीं होना चाहिए। जब कोई चमार कहे और आप प्रभावित हो उठें, तो इसका अर्थ है वह जातीय व्यवस्था को मानता है। जहाँ हमें जाति को त्याग देना चाहिए वहाँ हम गुह की तरह चूतर में लगाए हुए गंधा रहे हैं और कहते फिरते हैं कि हमीं सब से बड़े ब्राह्मणवाद विरोधी हैं। अरे! किस तरह के ब्राह्मणवाद विरोधी जब हम स्वयं उनके द्वारा प्रदत्त जातीय अहसास को हमेशा अपने दिल-दिमाग़ में लिए टहल रहे हैं बल्कि जब कोई चमार को गाली देता है तो उसे खट से अपना मान लेते हैं, अपना लेते हैं। मेरा यह मनोविज्ञान तत्काल आत्मसात कर पाना मुश्किल है लेकिन फ्रायड के मनोविज्ञान की तरह सोलह आने सच है। जो व्यक्ति मेरी जाति पराई जाति से विमुक्त नहीं हुआ हो वह जातिवादी है, घोर जातिवादी है। हम मूर्खता की हद तक दूसरों की जाति तोडना चाहते हैं और अपनी जाति बनाए रखना चाहते हैं। न जाति अपनी है और न मसीहा अपना है। इन दोनों तत्वों के मनोविज्ञान को समझिए और जातीय विमोह से दूर होकर जातिप्रथा को तोड़ने के लिए समाजवादी क्रांति में सहयोग करिए। दलित महकमें नें समाजवाद को लेकर विमर्श पैदा करिए।

 

अभी तक दलित समाजवाद के नाम पर भड़कता है। समाजवाद के नाम पर दलित इस कारण भड़कता है क्योंकि उसे लगता है उसे मार्क्सवादी बनाया जा रहा है। दलित मार्क्सवाद से इसलिए चिढ़ता है क्योंकि उसे लगता है कि उसके मसीहा डॉ. आम्बेडकर को मार्क्स से रिप्लेस किए जाने का कुचक्र किया जा रहा है। दलितों को मसीहावाद में फँसा कर हमेशा क्रांति के मार्ग से विचलित किया जाता रहा है। विचारों की बपौती नहीं है। महान व्यक्तित्व व नेतृत्व की भी बपौती नहीं है। क्रांतिकारी सिद्धांत को ग्रहण करने से डॉ. आम्बेडकर की कोई तौहीन नहीं होने जा रही है बल्कि उनके सपनों को अतिशीघ्र पूरा करने के लिए हम कुछ नई टेकनीकी और नए विचारों से आम्बेडकरवाद को इनरिच कर रहे हैं। वैसे भी हमें व्यवस्था परिवर्तन करना है न कि मसीहावाद लेकर ढोना है। दलितों का मसीहावाद एक प्रकार से पहचान की राजनीति है जो प्रकारांतर ब्राह्मणवाद ही है।

 

बिना समाजवादी व्यवस्था को स्थापित किए ब्राह्मणवाद किसी भी हालत में खत्म नहीं किया जा सकता है। जो लोग इस गफलत में हैं कि इसी संविधान द्वारा जातिप्रथा व ब्राह्मणवाद खत्म कर लिया जाएगा वे मेडक्स खाकर चिंतन कर रहे हैं। वे इतना भी जहमत नहीं उठाना चाहते हैं कि ‘राज्य और अल्पसंख्यक’ पढ़ तो लिया जाय कि डॉ. आम्बेडकर ने जो ड्राफ्ट बनाया था, आखिर उसमें उस संविधान के अतिरिक्त इससे बढ़िया क्या है। वैसे परिवर्तन के लिए बेताब इन दलित साथियों को चाहिए कि हर हालत में ‘राज्य और अल्पसंख्यक’ में वर्णित ड्राफ्ट के अनुसार नए संविधान की रचना करें तथा देश भर के दलित और प्रगतिशील क्रांतिकारी मिलकर उस पर बहस चलाएँ तथा उसे संसोधित संविधान के रूप में प्रस्तुत करें, संघर्ष करें, लड़ें और लागू करें। जो परिवर्तित संविधान का विरोध करे उसको शत्रु के समान ट्रीट करें।

 

वैसे एक बिंदु को चर्चा में और डालना चाहता हूँ कि जब हम समाजवाद की चर्चा कर रहे हैं तो क्यों न मार्क्स, एंगेल्स, लेनिन और स्तालिन के समाजवाद की भी चर्चा करें। यदि हम ऐसी चर्चा करेंगे तो हमारे दिमाग से गलतफहमी तो दूर हो जाएगी कि यह समाजवाद आम्बेडकर के समाजवाद के विपरीत नहीं है और न ही दलितों के विरुद्ध तथा ब्राह्मणों के पक्ष में है।

 

समाजवाद वह व्यवस्था है जहाँ मनुष्य के द्वारा मनुष्य का किसी भी तरह का शोषण खत्म हो जाता है। उत्पादन का उद्देश्य लोकहित होता है। उत्पादन के संसाधन व्यक्तिगत हाथों से छीनकर सामूहिक हाथों में चला जाता है। धर्म को बिल्कुल व्यक्तिगत बना कर घरों तक कैद कर दिया जाता है। सब को शिक्षा सब को काम की गारंटी कर दी जाती है। और भी बहुत कुछ है। पहले विमर्श तो शुरू करिए जनाब।

 

आरक्षण डॉ. आम्बेडकर का वांक्षित उत्पाद नहीं है। उनका वांक्षित उत्पाद पृथक निर्वाचन था जिसे आमरण अनशन पर बैठकर पूना पैक्ट में बैरिस्टर गाँधी ने आम्बेडकर साहब से छीन लिया और उसके बदले गाँधी एण्ड कंपनी ने आरक्षण का प्रस्ताव रख दिया। डॉ. आम्बेडकर को अपनी असफलता पर दुख तो हुआ लेकिन उन्होंने इस आशा और विश्वास के साथ आरक्षण को स्वीकार कर लिया कि उनकी कौम लगभग 10 वर्षों में संघर्ष करने लायक शक्ति हासिल कर लेगी और जैसा मैं चाहता हूँ, उम्मीद है उससे बढ़िया ले लेने का माद्दा पैदाकर ले लेकिन हुआ इसका उल्टा। दलित जातियाँ आरक्षण से चिपक गईं बल्कि कायरता के हद तक चिपक गईं। दलित सिर्फ आरक्षण के सहारे जीवित रहना चाहता है, संघर्ष कर डॉ. आम्बेडकर के राजकीय समाजवाद प्लस संसदीय लोकतंत्र को लागू करने का साहस नहीं कर रहा है। कुछ लोगों को मुफ्त में खाने को मिल गया है इसलिए वे डॉ. आम्बेडकर के सपनों को तिलांजलि दे दिए हैं।

 

वैसे तो इसका जवाब कम्युनिस्ट पार्टियों के इतिहास को पढ़कर स्वयं जानना चाहिए। फिर भी, मैं कुछ मदद करता हूँ।

 

संक्षिप्त में, सीपीआई, सीपीआई-एम दोनों ही कम्युनिस्ट पार्टी नामधारी कांग्रेस और बीजेपी की तरह संसदीय लोकतंत्र की पार्टियां हैं। ये क्रांति नहीं चाहती हैं। सीपीआई-एमएल कुछ ठीक है लेकिन सांस्कृतिक आंदोलन न कर सकने की वजह सेयह भी क्रांतिकारी नहीं है। फिर आप या कोई बिना उचित अध्ययन के इनका सदस्य क्यों बन जाता है? दूसरी महत्वपूर्ण बात, जब आप को मार्क्सवाद का अता-पता नहीं है तो आप कम्युनिज्म से मोह और नाता क्यों बनाए रखना चाहते हैं? तीसरी बात, अँगुली पर गिनकर बताइए कि भारत में कितने दलित हैं जिसने मार्क्सवाद को पढ़ा है, ठीक से पढ़ा है, समझा है, ठीक से समझा है और किसी भी सवर्ण कम्युनिस्ट से पंगा ले सकने भर को पढ़ा है? कितने दलित कम्युनिस्ट हैं जो सवर्णों को कम्युनिज्म पढ़ा सकते गेन? हम किसी की बनी हुई गंधाउर पार्टी के सदस्य क्यों बन जाते हैं क्योंकि हममें नेतृत्व का ज्ञान और नेतृत्व की क्षमता ही नहीं है। यदि हममें क्रांतिकारी सिद्धांत और व्यवहार का भरपूर ज्ञान हो जाएगा तो हम किसी धूर्त के नेतृत्वमें क्यों झख मारेंगे, क्योंनहीं हम क्रांतिकारी पार्टी बनाकर ब्राह्मणवाद और पूँजीवाद विरोधी समाजवादी क्रांति कर देंगे? ज्ञान और बूता पैदा करो। सारे प्रश्न और सारे कार्य हल।

 

आज हम डॉ. आम्बेडकर को पथ प्रदर्शक नहीं, मसीहा समझने लगे हैं। किसी की असहमतियों पर हम तिलमिला उठते हैं क्योंकि हम बाबा साहब को त्रुटिहीन मान बैठते हैं अर्थात देवता बना देते हैं। ईश्वर को न मानते हुए भी हम आस्थावान हो उठते हैं।

 

कुछ चीजों पर हमेशा स्पष्ट रहिए:-

यह कि विमर्श करते समय मैं किसी भी व्यक्ति को आरक्षण लेने से रोकता नहीं हूँ और न ही मैं आरक्षण का विरोध करता हूँ। मैं सिर्फ भौतिक परिस्थितियों का जिक्र करता हूँ। मैं कौन होता हूँ यह कहने वाला कि आरक्षण न लीजिए अथवा आरक्षण खत्म कर दिया जाना चाहिए।

 

जब डॉ. आम्बेडकर ने वाल्मीकि जातियों से कहा कि आप सभी को टट्टी साफ करने का कार्य छोड़ना होगा, तब जाकर हम सामाजिक उन्नयन का कार्य कर पाएँगे। साथियों ने कहा, फिर हम करेंगे क्या, हमें रोजगार कैसे मिलेगा? सफाई ही तो हमारा पेशा है। इसके अलावा हमें कौन सा काम मिलेगा और कौन काम देगा? नहीं बाबा साहब, हम बिना किसी विकल्प के इस कार्य को नहीं छोड़ सकेंगे। तह सच है कि बिना विकल्प के कोई भी रोजगार नहीं त्यागा जा सकता है लेकिन उस कार्य को करते हुए विकल्प तैयार करके उस कार्य को तो छोड़ा जा ही सकता है? बिना गंदे कार्य को छोड़े हमें सामाजिक सम्मान कदापि नहीं मिलेगा। अगर लड़ने की कूबत नहीं है तो हमें कुछ भी नहीं मिलेगा। यदि हमारे अंदर विजन नहीं है, विजन के अनुसार संगठन नहीं है, अगर हम संगठित होकर लक्ष्य के लिए लड़ेंगे-मरेंगे नहीं तो हमें कभी कुछ नहीं मिलेगा। होंठ चाटने से प्यास नहीं जाएगी। आरक्षण मात्र होंठ चाटने जैसा है, वह भी .3% लोगों के लिए।

 

अक्सर दलितों को यह डर सताता है कि आरक्षण न होता, तो क्या होता? यदि आरक्षण खत्म हो जाय, तो क्या होगा?

 

यदि कोई हमारा दस बीघा जमीन छीन ले और बाद में  दो बीघा रेहड़ या बटाई पर दे दे, तो हमारा काम तो चलेगा ही। फिर क्या हम रेहड़ और बटाई से संतुष्ट हो जाँय तथा अपना दस बीघा छीनने की योजना त्याग दें?

 

आरक्षण हमारे हाथ में झुनझुना है। इस झुनझुने को कितने प्रतिशत लोग बजा पा रहे हैं? 135 करोड़ में से 22.5 प्रतिशत अर्थात 30 करोड़ दलित हैं। इस तीस करोड़ दलितों में मान लिया जाय कि 50 लाख लोग नौकरी कर रहे हैं तो टोटल का .30 प्रतिशत लोग आरक्षण का फायदा के रहे हैं। 29 करोड़ 50 लाख भूखे-नंगे हैं। इसमें से 27 करोड़ दलित भूमिहीन, खेत मजदूर और निरक्षर हैं। हम-आप भारत के संपन्न 3 करोड़ दलितों में से हैं। खैर, फिर भी मैं आरक्षण छोड़ने की सलाह नहीं दूँगा लेकिन यह तो अपील कर ही सकता हूँ कि आरक्षण हमारे जीवन का विकल्प नहीं है। आरक्षण पूँजीवाद का पुछल्ला है। आरक्षण रोटी नहीं, रोटी का टुकड़ा है। मैं यह अपील तो कर ही सकता हूँ कि टुकड़े के स्थान पर पूरी रोटी छीन लो। यदि आम्बेडकर के मजबूरी से इतना प्यार है तो आम्बेडकर के सपनों से प्यार करो। आम्बेडकर का सपना राजकीय समाजवाद है। आम्बेडकर का सपना जातिविहीन और वर्गविहीन समाज का निर्माण है। यहाँ तो 27 करोड़ दलित निरक्षर, भूमिहीन और भूखों मर रहा है। कुछ लोग सिर्फ पेट भर रहे हैं। आम्बेडकर सहबक सपना सुअरों की तरह पेट भरना नहीं था। आम्बेडकर का सपना आरक्षण भी नहीं था। आम्बेडकर जा सपना लोकहित में उत्पादन तथा जन (राष्ट्र) के हाथों में उत्पादन के संसाधन को लिया जाना था। आम्बेडकर का मुख्य सपना व्यक्तिगत सम्पत्ति का उन्मूलन था। जिसको भी आरक्षण से प्यार है उन्हें आम्बेडकर के सपनों से प्यार क्यों नहीं है?

 

यह सच है कि आरक्षण से दलितों के एक तपके का शैक्षिक और आर्थिक विकास हुआ है लेकिन यह भी उतना ही सच है कि 90 प्रतिशत दलितों तक आरक्षण की कोई पहुँच नहीं है। 90 प्रतिशत दलित आज भी भूमिहीन खेत मजदूर हैं। इन भूमिहीनों के लिए यह आरक्षण का फायदा उठा चुका दलित कुछ नहीं कर रहा है बल्कि उल्टे बहुसंख्य भूमिहीन खेत मजदूरों को अपने आरक्षण बचाओ आंदोलन में ट्रक भर-भर कर आंदोलन के मैदानों में ले जाता है। उनके विहाफ़ पर उच्च कुलीन दलित फायदा लेता है लेकिन उन गरीब भूमिहीन निरक्षर दलितों के लिए कुछ नहीं करता है बल्कि सवर्णों की ही तरह उनसे व्यवहार करता है।

 

बिना लड़े कुछ नहीं मिलेगा बल्कि जो है वह भी खो जाएगा। आरक्षण पर बहस का अर्थ अथवा आरक्षण की कमियाँ गिनाने का अर्थ आरक्षण का त्याग करने का सलाह नहीं है बल्कि व्यवस्था परिवर्तन के क्रमिक और बेहतर उपायों की चर्चा करना है। दो तरह के दलित हैं; एक, वह जो इसी व्यवस्था में जीवित रहना चाहता है अथवा मात्र इतना ही समझता है कि इससे बेहतर और कोई व्यवस्था, सत्ता और संविधान हो ही नहीं सकता है। ऐसे लोग आरक्षण और इस संविधान को अंतिम विकल्प समझते हैं। दूसरा, वह जो आरक्षण और इस संविधान को क्रमिक विकास में पहला पायदान समझते हैं। वे मानते हैं आरक्षण और वर्तमान संविधान से दलितों, गरीबों, मजदूरों, मजलूमों का भला होने वाला नहीं है। ऐसे लोग वर्तमान उपलब्धियों का प्रयोग करते हुए बेहतर उपाय, संसाधनों और उपलब्धियों को अर्जित करने के लुई कठिन से कठिन संघर्ष करने को तैयार रखते हैं।

 

आप सुनिश्चित करिए कि आप कहाँ हैं?

 

आर डी आनंद

25.09.2021

171 COMMENTS

  1. Hiya, I am really glad I’ve found this info.
    Nowadays bloggers publish only about gossips
    and internet and this is actually irritating.
    A good website with interesting content, that’s what I need.
    Thanks for keeping this web-site, I’ll be visiting it. Do you do newsletters?
    Can’t find it.

    Review my web page – baldness treatment

  2. whoah this blog is great i really like studying your articles.
    Keep up the good work! You understand, lots of individuals are searching round
    for this information, you can help them greatly.

  3. I wanted to visit and allow you to know how much I valued
    discovering your blog today. I’d consider it a
    real honor to work at my office and be able to utilize tips discussed on your web
    site and also participate in visitors’ feedback like this.

    Should a position involving guest author become offered
    at your end, remember to let me know.

    Feel free to visit my web site – amazing weight loss

  4. Good day! I know this is kind of off topic but I was wondering which blog
    platform are you using for this website? I’m getting tired of
    Wordpress because I’ve had issues with hackers and I’m looking at alternatives for
    another platform. I would be awesome if you could point me in the direction of a good platform.

    Also visit my site: poor eating habits

  5. Greetings from Colorado! I’m bored to tears at work so I decided to check out your site on my iphone during lunch break.
    I really like the information you present here and can’t wait to take a look
    when I get home. I’m surprised at how fast your blog loaded on my cell phone ..
    I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyhow, excellent
    blog!

    my web site – carb diet

  6. Aw, this was an incredibly nice post. Spending some time and actual effort to make a very good article?
    but what can I say? I hesitate a whole lot and never seem to get nearly anything done.

    Review my webpage :: Winnie

  7. Whats up very cool website!! Man .. Excellent ..

    Amazing .. I will bookmark your website and take the feeds also?I am glad to seek out so many
    helpful info right here in the post, we want develop more techniques on this regard, thanks for sharing.

    Also visit my webpage 23.95.102.216

  8. It is really a great and helpful piece of information.
    I’m glad that you simply shared this helpful info with us.
    Please stay us up to date like this. Thanks for sharing.

  9. My partner and I absolutely love your blog and find the majority of your post’s to
    be what precisely I’m looking for. Would you offer guest writers to write content available for you?

    I wouldn’t mind composing a post or elaborating on a lot of the
    subjects you write related to here. Again, awesome
    website!

  10. I merely wanted to thank you once more for that amazing web page you have built here.

    It’s full of ideas for those who are seriously interested in this specific subject,
    particularly this very post. You’re really all amazingly
    sweet along with thoughtful of others and also reading your site posts is a fantastic delight
    with me. And such a generous surprise! Tom and I are going to have enjoyment making use of your guidelines in what we need to do in a month’s time.
    Our collection of ideas is a distance long and simply put tips is going to be put to great
    use.

    Here is my homepage :: http://www.fotosombra.com.br

  11. We would like to thank you just as before for the lovely ideas you gave
    Jesse when preparing her post-graduate research and also, most
    importantly, with regard to providing the many ideas in a single blog post.
    Provided we had been aware of your web page a year ago, i’d
    have been rescued from the unwanted measures we were selecting.
    Thank you very much.

    Feel free to visit my web site: drug crime attorney

  12. Hi, i read your blog from time to time and i own a similar
    one and i was just wondering if you get a lot
    of spam remarks? If so how do you reduce it, any plugin or
    anything you can advise? I get so much lately it’s driving me
    crazy so any support is very much appreciated.

  13. I like the helpful information you supply for your articles.

    I’ll bookmark your blog and take a look at again here frequently.

    I’m fairly sure I’ll be told a lot of new stuff right right here!
    Best of luck for the next!

    Here is my webpage protein diet

  14. Hi, I believe your blog could be having browser compatibility problems.
    When I take a look at your web site in Safari, it
    looks fine however, if opening in I.E., it has some overlapping issues.
    I simply wanted to give you a quick heads up! Other than that, fantastic website!

    Take a look at my web site – best skin

  15. I’m impressed, I have to admit. Seldom do I encounter
    a blog that’s equally educative and entertaining, and let me tell
    you, you have hit the nail on the head. The issue is an issue
    that not enough men and women are speaking intelligently about.
    Now i’m very happy that I stumbled across this
    in my hunt for something regarding this.

    Here is my web site; http://www.a913.vip

  16. Unquestionably believe that which you said. Your favourite justification appeared to be
    at the internet the easiest factor to consider of.
    I say to you, I certainly get annoyed whilst people consider issues that they plainly don’t understand about.
    You controlled to hit the nail upon the highest as smartly as outlined
    out the whole thing with no need side-effects , people can take a signal.
    Will likely be again to get more. Thank you

    Here is my blog :: https://forums.easyminer.net

  17. Hi there, I do believe your site may be
    having internet browser compatibility problems.
    Whenever I look at your blog in Safari, it looks fine however, when opening in I.E., it has some overlapping issues.

    I merely wanted to give you a quick heads up! Aside from that, wonderful site!

    Feel free to visit my website – http://www.comptine.biz/modules.php?name=Your_Account&op=userinfo&username=MinnisMargery

  18. Does your blog have a contact page? I’m having a tough
    time locating it but, I’d like to send you an email.
    I’ve got some creative ideas for your blog you might be
    interested in hearing. Either way, great blog and I look forward to seeing it grow over time.

    my web-site: best weight loss

  19. Good day! Do you know if they make any plugins to assist with SEO?
    I’m trying to get my blog to rank for some
    targeted keywords but I’m not seeing very good success. If you know of any please
    share. Many thanks!

  20. Do you mind if I quote a few of your posts as long as I provide credit and sources
    back to your blog? My website is in the exact same
    niche as yours and my users would genuinely benefit from a lot of the
    information you present here. Please let me know if this okay with you.
    Regards!

    My blog post; forum.l2inogide.com

  21. Right here is the right website for anybody who hopes to find out
    about this topic. You realize a whole lot its
    almost tough to argue with you (not that I
    really would want to?HaHa). You certainly put
    a fresh spin on a subject which has been discussed for
    many years. Excellent stuff, just excellent!

    Review my web-site: healthy eating program

  22. Merely to follow up on the update of this topic on your
    web-site and want to let you know how much I treasured
    the time you took to publish this helpful post.
    Inside the post, you actually spoke regarding how to definitely handle this challenge with all convenience.
    It would be my personal pleasure to get together some more tips from your web site and come as much as offer other
    people what I have benefited from you. Thanks for your usual excellent effort.

    Review my web blog :: routine skin

  23. Hiya, I’m really glad I have found this information. Today bloggers publish only about gossips and net and this is actually annoying.
    A good site with exciting content, that’s what
    I need. Thanks for keeping this web site, I will be visiting it.
    Do you do newsletters? Can not find it.

    My page: regrowth solutions

  24. Undeniably consider that which you stated. Your favourite justification seemed to
    be on the web the simplest factor to take note of. I say to you, I certainly get irked even as
    folks consider issues that they just do not realize about.
    You controlled to hit the nail upon the highest as smartly
    as defined out the whole thing without having side-effects
    , folks can take a signal. Will likely be again to get more.
    Thank you!

    Visit my blog – reversing hair loss

  25. First of all I would like to say awesome blog! I had a quick question in which I’d like to ask if you do not mind.
    I was curious to find out how you center yourself and clear your head before writing.

    I’ve had trouble clearing my mind in getting my thoughts out there.

    I do enjoy writing but it just seems like the first 10 to 15 minutes tend to be wasted simply just trying
    to figure out how to begin. Any recommendations
    or hints? Thank you!

    Look at my homepage growing cannabis seeds

  26. Hello very nice web site!! Guy .. Beautiful ..
    Amazing .. I will bookmark your site and take the feeds also…I’m glad to seek out a lot
    of helpful info here in the put up, we need develop more strategies in this regard, thanks for sharing.

    Here is my blog – Jarred

  27. I was honored to obtain a call from my friend immediately he
    observed the important guidelines shared in your site. Studying your blog post is
    a real amazing experience. Many thanks for considering readers like me, and I wish you the best of success as
    a professional in this field.

    Here is my web-site: skin care p

  28. Definitely imagine that that you stated. Your favourite reason seemed to be on the web the simplest factor to remember of.
    I say how to lose weight you, I certainly
    get irked even as people think about concerns that they just don’t
    understand about. You managed to hit the nail upon the highest and
    outlined out the whole thing without having side-effects , other
    people could take a signal. Will probably be back to get
    more. Thanks!

  29. Thanks for every other great article. Where else could anyone get that type of information in such an ideal
    method of writing? I have a presentation subsequent week, and I am on the search for such info.

  30. I want to show my appreciation for your kind-heartedness for those people who need
    help on this important concept. Your personal commitment
    to getting the message all around appears to be remarkably helpful and have
    all the time made folks like me to get to their endeavors.

    Your personal important tips and hints signifies a lot to
    me and extremely more to my fellow workers. With thanks; from each one of us.

    Check out my website: eating guide

  31. Thank you for your website post. Jones and I are saving to buy
    a new guide on this issue and your writing has made people like us to
    save all of our money. Your opinions really responded to all our problems.
    In fact, a lot more than what we had acknowledged prior to when we came
    across your great blog. We no longer nurture doubts and a troubled
    mind because you have attended to the needs here. Thanks

    Also visit my web site … hermetics.org

  32. My brother suggested I might like this website. He was
    totally right. This post actually made my day. You cann’t imagine simply how much time I had spent
    for this info! Thanks!

  33. Hey there just wanted to give you a quick heads up. The text in your article seem to be running off the screen in Safari.
    I’m not sure if this is a formatting issue or something
    to do with browser compatibility but I figured I’d post to
    let you know. The design and style look great though!
    Hope you get the issue resolved soon. Thanks

  34. Thank you for the sensible critique. Me and my neighbor were just preparing to do a little research on this.
    We got a grab a book from our local library but I think I learned
    more from this post. I’m very glad to see such excellent info being shared freely out there.

    Feel free to surf to my blog post no pain

  35. I don’t drop a leave a response, but after reading through a few of the comments here आरक्षण समुद्र मंथन से निकला विष हैः आरडी आनंद –
    HamaraMorcha. I actually do have a couple of questions for
    you if you tend not to mind. Is it only me or does it look like some of these
    comments look like they are coming from brain dead
    folks? 😛 And, if you are writing at other social sites, I would like to keep up
    with everything new you have to post. Could you make a list of every
    one of your social community pages like your twitter
    feed, Facebook page or linkedin profile?

    Feel free to visit my web blog forum.vkmoravia.cz

  36. Oh my goodness! Impressive article dude! Thank you so much, However I am having issues with your RSS.
    I don’t understand the reason why I can’t subscribe to it.
    Is there anybody else getting similar RSS problems?
    Anyone who knows the answer will you kindly respond?
    Thanx!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here