प्रख्यात रंगकर्मी नीरज कुंदेरा, स्थानीय पत्रकार कनिष्क तिवारी एवं अन्य रंगकर्मियों की गिरफ्तारी और पुलिसिया दमन पर इप्टा ने उठाई उच्च स्तरीय जांच की मांग

0
468
सीधी (मध्य प्रदेश) में प्रख्यात रंगकर्मी नीरज कुंदेरा,स्थानीय पत्रकार कनिष्क तिवारी एवं अन्य रंगकर्मियों की गिरफ्तारी और पुलिसिया दमन पर इप्टा ने उठाई उच्च स्तरीय जांच की मांग। 
भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) की राष्ट्रीय समिति ने प्रख्यात रंगकर्मी और कला आंदोलन के प्रमुख स्तंभ नीरज कुंदेरा,पत्रकार कनिष्क तिवारी की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए पुलिस की कार्यवाही पर सवाल उठाए हैं।
इप्टा के राष्ट्रीय महासचिव राकेश ने कहा है कि यद्यपि नीरज कुंदेरा और गिरफ्तार रंगकर्मियों को जमानत मिल गई है लेकिन जिस तरह पुलिस ने गिरफ्तार रंगकर्मियों और पत्रकारों को नंगा करके प्रताड़ित और अपमानित किया वह अमानवीय और जघन्य अपराध है। वायरल हो रही फ़ोटो बेहद विचलित करने वाली हैं और सभ्य समाज पर धब्बा हैं।इप्टा ने मामले की उच्चस्तरीय जांच कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि कलाकारों को प्रताड़ित करने और कला आंदोलन के प्रति प्रशासन का रवैया स्वस्थ समाज के लिए अच्छा संदेश नहीं देता है। नीरज पर लगाए गए आरोप की धाराओं में उन्हें तत्काल जमानत और मुचलके पर रिहा किया जाना चाहिए था, लेकिन ऐसा न करके उन्हें जेल भेजा गया। प्राप्त सूचना के अनुसार प्रख्यात रंगकर्मी और कला आंदोलन के प्रमुख स्तंभ नीरज कुंदेर को मध्य प्रदेश में सीधी पुलिस ने फेक आईडी के आरोप में गिरफ्तार किया। उन्हें सोची समझी साजिश के तहत शनिवार देर शाम गिरफ्तार किया गया, ताकि वे जमानत न करा सकें। यही नहीं, पुलिस के इस कृत्य का लोकतांत्रिक तरीके से विरोध कर रहे इंद्रवती नाट्य समिति के वरिष्ठ रंगकर्मी रोशनी प्रसाद मिश्र, नरेंद्र बहादुर सिंह, शिवा कुंदेर, रजनीश जायसवाल सहित करीब 10 – 15 कलाकारों को प्रतिबंधक धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। साथ ही सूचना पा कर थाने गए स्थानीय पत्रकार कनिष्क तिवारी को भी गिरफ्तार कर लिया गया और बेहद अशोभनीय तरीके से उन सभी को नंगा करके उनकी तस्वीरें उतारी गईं।
स्थानीय विधायक के दबाव में सीधी पुलिस की यह कार्यवाही बेहद निंदनीय है।
इप्टा ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री से मांग की है कि सीधी में घटना के जिम्मेदार पुलिस अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाय। राकेश,महासचिव, इप्टा राष्ट्रीय समिति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here