छापेमारी के विरोध में जिले भर के डाक्टरो में आक्रोश, उत्पीड़न के विरोध में तैयार हो रहा है जनमत

0
39

वाराणसीः हमेशा मज़दूरों और आम मेहनतकशों के हक में पहली पंक्ति में खड़े मिलने वाले युवा सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता ने कहा है कि गरीब आदमी के लिए भगवान का दर्जा प्राप्त प्राइवेट चिकित्सकों के खिलाफ जो अभियान चलाया जा रहा है, वह दुर्भावनायुक्त और निंदनीय है।

एक बयान में उन्होंने कहा है कि प्राइवेट चिकित्सकों के खिलाफ ज़िले में चल रही छापामार कार्रवाई के विरोध का असर गांव में भी हो गया, प्रशासनिक व स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त छापेमारी के विरोध में जिले भर के डाक्टरो में आक्रोश है। मंगलवार को राजातालाब स्थित एक लान में ग्रामीण चिकित्सा कर्मियों ने उत्पीड़ात्मक कार्रवाई का विरोध करते हुए सड़क पर उतर कर आंदोलन की चेतावनी दी।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए डा. शिवकुमार गुप्ता ने कहा कि प्राइवेट डाक्टर्स के यहां छापामारी कर उत्पीड़न और अभद्रता की जा रही है। योगीराज सिंह पटेल ने कहा कि चिकित्सा कर्मियों के यहां इस तरह की कार्रवाई से डाक्टर्स को शर्मिदगी झेलनी पड़ रही है। जनता की सेवा का सम्मानित पेशा करने वाले डाक्टर इससे आहत हैं।

विभिन्न संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ता भी उनके समर्थन में उतर आए

पूर्वांचल किसान यूनियन, भगत सिंह यूथ फ़्रंट, डा. राम मनोहर लोहिया ट्रस्ट के पदाधिकारियों सहित सामाजिक कार्यकर्ताओं ने उपरोक्त बैठक में स्थिति पर नाराजगी जताई। हरीश मिश्रा ने कहा कि चिकित्सा कर्मियों के उत्पीड़न का हर मोर्चे पर इसका विरोध करेंगे। संचालन सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता ने किया। बैठक में शिवकुमार गुप्ता, योगीराज सिंह पटेल, बनारस वाले मिश्रा हरीश मिश्रा, केके पांडेय, धर्मराज, अनंत नारायण, अब्दुल्ला अंसारी, एजाज़, सतीश, राजेंद्र प्रसाद, श्याम सुंदर, राजेश पटेल, किशन गुप्ता, श्यामजी, प्रेम कुमार सहित बड़ी संख्या में चिकित्सा कर्मी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here