पुलिस ने दी धमकी, मेरे क्षेत्र में गरीबों को खाना खिलाना बंद करो नहीं तो चमड़ी उधेड़ देंगे

270
1059

विशद कुमार

रांची जिले का मैकलुस्कीगंज थाना की पुलिस झारखंड क्रांतिकारी मजदूर यूनियन द्वारा क्षेत्र के गरीब असहायों को खाना खिलाए जाने से इतनी नराज है कि जहां थाना प्रभारी घनश्याम साहू ने यूनियन के खलारी शाखा के अध्यक्ष कामरेड विक्रम आजाद को खाना खिलाना बंद करने का फरमान जारी किया, वहीं मुन्शी ब्रजेश तिवारी ने चमड़ी उधेड़ देने की धमकी दे डाली।
उल्लेखनीय है कि रांची जिले से लगभग 60 किमी दूर खलारी प्रखंड के झारखंड क्रांतिकारी मज़दूर यूनियन के खलारी शाखा के सदस्यों ने लॉकडाउन की घोषणा के बाद ही एक बैठक करके यह निर्णय लिया कि खलारी प्रखंड के सुदूर ग्रामीण इलाकों में दिहाड़ी मजदूरों, असहाय, ग़रीब लोगों की मदद के लिए यूनियन को आगे आना चाहिए।
इस फैसले के बाद शाखा के सदस्यों द्वारा गांव—गांव जाकर पूरा एक दिन का पका हुआ भोजन कराने के साथ—साथ अति दयनीय स्थिति वाले लोगों को 10 किलो चावल, 2 किलो आलू, आधा किलो दाल, 250 ग्राम सरसों तेल, 20 रुपए का मसाला, साबून सर्फ़ वगैरह दिया जा रहा है।
प्रखंड के हुटाप पंचायत से शुरू किए गए इस आयोजन के तहत अब तक 22 गांवों के 200 से अधिक लोगों को सुखा अनाज के पैकेट में 10 किलो चावल, 2 किलो आलू, आधा किलो दाल, 250 ग्राम सरसों तेल, 20 रुपए का मसाला, साबून सर्फ़ वगैरह दिया गया है। जबकि 12-13 हजार से अधिक लोगों को सुबह से रात तक पूरे दिन का खाना खिलाया जा चुका है। इस आयोजन को सुचारू रूप से चलाने की सफलता पर अध्यक्ष विक्रम सिंह (जो पेशे से एक शिक्षक हैं) बताते हैं कि यूनियन के सदस्यों व सामाजिक कार्यकर्ता, व्यवसायिक संघ के लोग, सब्जी विक्रेता संघ के लोग व कुछ जनप्रतिनिधियों द्वारा आर्थिक सहयोग मिल रहा है।
क्षेत्र के मुखिया द्वारा इस आयोजन में कितना सहयोग मिल रहा है? के सवाल पर विक्रम बताते हैं कि मायापुर पंचायत की मुखिया पुष्पा खलखो का तो पूरा सहयोग मिल रहा है। लेकिन अन्य पंचायतों में खलारी पंचायत की मुखिया वीना देवी और विश्रामपुर पंचायत के मुखिया गोविंद उरांव का किसी भी तरह का कोई सहयोग नहीं है। वहीं हुटाप पंचायत की मुखिया आशा देवी हमारे आयोजन में बराबर बाधा पहुंचा रही हैं।


वे बताते हैं कि खलारी प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी नूतन कुमारी द्वारा यूनियन के कार्यों को सराहा गया है और इसे चालू रखने को कहा गया है। वे बताते हैं कि क्षेत्र के अनेकों लोगों के पास लाल कार्ड तो दूर अन्य राशन कार्ड भी नहीं है। जिन्हें राशन मिलता भी है उनका राशन डीलर द्वार कटौती के साथ मिलता है, जो नई बात नहीं है, पूरे राज्य की यही स्थिति है। वहीं यहां के लोगों द्वारा राशन कार्ड के लिए आनलाइन आवेदन भी नहीं कराया गया है। बता दें कि जो लोग राशन कार्ड के लिए आनलाइन किया हुआ है, उन्हें 10 किलो चावल देने का प्रावधान है। दूसरी तरफ प्रखंड में सरकारी सुविधा जो अभी मुहैया कराई जा रही है वो कहीं से भी संतोषजनक नहीं है।
विक्रम बताते हैं कि हम लोग सिर्फ मजदूरों को खाना ही नहीं खिला रहे हैं बल्कि हमारे नेता अपनी पीठ पर सेनेटाइजर किट लेकर गांव को सेनेटाइज भी कर रहे हैं।
ऐसे में मैकलुस्कीगंज थाना प्रभारी व मुंशी द्वारा धमकी देना समझ से परे लग रहा है।
झारखंड क्रांतिकारी मजदूर यूनियन के खलारी शाखा के अध्यक्ष विक्रम सिंह बताते हैं कि 28 अप्रैल की सुबह खलारी के बाजार में वे और यूनियन के सचिव अशोक राम ग्रामीणों के भोजन की सामग्री की खरीदारी कर रहे थे। तभी मैकलुस्कीगंज की पुलिस आयी और थाना प्रभारी घनश्याम साहू अशोक राम से उलझ गये और मुंशी ब्रजेश तिवारी विक्रम से उलझ गये।
विक्रम ने बताया कि पुलिस अधिकारियों ने हम दोनों के साथ अभद्र व्यवहार करते हुए धमकाते हुए कहा कि− मेरे थाना क्षेत्र में भोजन बांटना बंद करो वरना मारकर चमड़ी उधेड़ देंगे।
बता दें कि झारखंड क्रांतिकारी मजदूर यूनियन द्वारा मजदूरों के बीच भोजन बांटने से संबंधित आवेदन यूनियन के लेटरपैड पर 13 अप्रैल को ही खलारी बीडीओ को दिया गया था, जिसकी रिसीविंग भी यूनियन के पास है। खलारी बीडीओ ने भोजन बांटने की परमिशन देने के साथ-साथ यूनियन की हौसला अफजाई भी की थी। संभवत: इस तरह की हरकत किसी राजनीतिक साजिश के तहत किया जा रहा हो।
मजदूर नेताओं ने बताया कि मैकलुस्कीगंज थाना के अधिकारियों द्वारा दी गयी धमकी की जानकारी ईमेल के जरिये आज (29 अप्रैल) झारखंड के मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, डीजीपी, रांची डीआइजी, रांची एसएसपी और रांची डीसी को दी गयी है और मजदूरों के बीच भोजन बांटना भी चालू है।

झारखंड के मुख्यमंत्री को भेजे गये आवेदन की प्रति

सेवा में
श्रीमान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन
झारखंड सरकार

विषय- प्रशासन के द्वारा अभद्र व्यवहार किये जाने और मारने-पीटने की धमकी देने के सम्बंध में

महाशय

निवेदनपूर्वक कहना है कि इस समय जब पूरा देश कोविड-19 जैसी महामारी से जूझ रहा है तब हमारे झारखंड के सुदूर इलाकों में रह रहे मेहनतकश दिहाड़ी मजदूरों के सामने सबसे बड़ी समस्या अपने पेट की आग को शांत करने की आन पड़ी है। इस समस्या को देखते हुए झारखंड क्रांतिकारी मज़दूर यूनियन के खलारी शाखा अपना सामाजिक दायित्व का निर्वहन करने के लिए कटिबद्ध है। इस समय यूनियन खलारी प्रखंड के हुटाप पंचायत, मायापुर पंचायत, विश्रामपुर पंचायत, खलारी पंचायत के 20 से अधिक गांवो में लागातार राहत कार्य मे जुटी हुई है जिसमें पूरे गांव को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है और साथ मे अतिदयनीय स्थिति में जो लोग हैं उन्हें कच्चा अनाज भी उपलब्ध कराया जा रहा है। अभी तक 10 हजार से अधिक लोगों को भोजन और लगभग 200 लोगों को कच्चा अनाज उपलब्ध कराया जा चुका है। साथ ही यूनियन सोसल डिस्टेंसिंग का भी कड़ाई से पालन करने के साथ क्षेत्र में सेनेटाइजिंग का भी कार्य कर रहा है।

इन कार्यों को देख खलारी प्रखंड की प्रखंड विकास पदाधिकारी भी सराहना करते हुए इसे जारी रखने को कहा है। इस कार्य में जो धन लग रहा है वो यूनियन के साथी मिलकर वहन कर रहे हैं। साथ ही प्रखंड के सामाजिक व्यक्ति, व्यावसायिक संघ आदि भी मदद कर रहे हैं। अभी भी ये राहत कार्य सुदूर इलाकों में जारी है।

पर अभी मैकलुस्कीगंज थाने के पदाधिकारियों ने कहा है कि “आप लोग मेरे इलाके में भोजन ना बाटें और यूनियन के खलारी शाखा अध्यक्ष और शाखा सचिव के साथ अभद्र व्यवहार करते हुए चमड़ी उधेड़ देने की धमकी दी गयी है।” ये जानने के बावजूद, कि शाखा अध्यक्ष एक प्रतिष्ठित विद्यालय के शिक्षक भी हैं जबकि क्षेत्र में अन्य कई संगठन राहत कार्य कर रहे हैं। कुछ तो व्यग्तिगत रूप से भी राहत कार्य में जुटे हैं पर उन्हें किसी भी प्रकार का रुकावट नहीं किया गया है।

ये देखते हुए हमें राजनीतिक षडयंत्र का शिकार होने का अनुमान हो रहा है। अतः श्रीमान से विनम्र अनुरोध है कि इस विषय में त्वरित संज्ञान लेने की कृपा करें।

धन्यवाद

निवेदक
झारखंड क्रांतिकारी मज़दूर यूनियन, शाखा-खलारी

शाखा अध्यक्ष विक्रम सिंह
पता-गुलजार बाग, खलारी,रांची,झारखंड−829205
मोबाइल नम्बरः 6202598210

शाखा सचिव अशोक राम
पता- शांति नगर खलारी, रांची, झारखंड−829205
मोबाइल नम्बरः7462896688

प्रतिलिपि
सीएस झारखंड
डीजीपी झारखंड
डीआइजी राँची रेंज
डीसी राँची
एसएसपी राँची

——————————

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here