उद्यान विभाग के मालियों को मिला बीसीएम के युवाओं का साथ

0
102

भगत सिंह छात्र मोर्चा (BCM) बीएचयू के आंदोलनरत कर्मचारियों का पूर्ण समर्थन करता है और मांग करता है कि उनकी सभी मांगें जल्द से जल्द पूरी की जाए!

पिछले दो दिनों से BHU के उद्यान विभाग के माली धरने पर बैठे हैं। यह सभी कर्मचारी दैनिक भोगकर्मी हैं और पिछले पांच महीने से उन्हें सैलरी नहीं मिल रही है, जिसके चलते उनके समक्ष भुखमरी की नौबत पैदा हो गई है। ऊपर से शिकायत करने पर उद्यान विभाग के प्रोफेसर अनिल सिंह उनके साथ गाली–गलौच और मारपीट करते हैं।
कर्मचारियों ने वेतन न दिए जाने की शिकायत उच्चाधिकारियों से कई बार की, लेकिन न सुनवाई हुई और न कार्रवाई। इससे परेशान आकर कर्मचारी धरने पर बैठे हैं। पता चला है कि अधिकारियों द्वारा बहुत धांधली की जा रही है जैसे कोरोना काल में कर्मचारियों को उनके काम के पूरे पैसे नहीं दिए गए, प्रोफेसर अनिल सिंह द्वारा उनसे अपने घर के निजी काम भी कराए जाते है, आदि। कर्मचारियों की मांगें है कि हर महीने के शुरुआत में उनकी सैलरी मिल जाए, उनको काम से निकाला ना जाए, उनको मेडिकल व ईपीएफ की सुविधा मिले व अधिकारियों द्वारा उनके साथ बदसुलूकी न की जाए।
BHU प्रशासन द्वारा कर्मचारियों को कॉन्ट्रैक्ट पर रखना, इनको पूरा वेतन और सुविधाएं न देना दरअसल सरकार द्वारा निजीकरण और ठेके प्रथा को बढ़ावा देने की नीति का हिस्सा है। जिसके तहत सभी सरकारी नौकरियों को एक एक कर सरकार कॉन्ट्रैक्ट पर कर रही है ताकि इनपर खर्च कम कर इनको निजी हाथों के हवाले कर सके। सरकार के इस नीति का पुरजोर विरोध किया जाना चाहिए।

BHU के डी ग्रुप के कर्मचारी जो धरणारत है वे धूप बारिश हो, कोरोना महामारी हो, सभी परिस्थितियों में काम करते आए हैं। उनको देर से सैलरी देना, पूरी सैलरी न देना, उनके साथ दुर्व्यवहार करना बेहद अन्यायपूर्ण है। भगतसिंह छात्र मोर्चा इन आंदोलनरत कर्मचारियों का पूर्ण समर्थन करता है और विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग करता है कि इनकी सारी मांगें जल्द से जल्द पूरी की जाए। बीसीएम विश्विद्यालय के अन्य कर्मचारियों, स्टूडेंट्स, प्रोफेसर से भी अपील करता है कि इनके समर्थन में खड़े हो! यदि इन कर्मचारियों की मांगें नहीं मानी गई तो स्टूडेंट्स भी इनके साथ एक बड़े आंदोलन के लिए बाध्य होंगे!

इंकलाब ज़िंदाबाद!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here