माहवारी दिवस परआदर्श ग्राम नागेपुर में किशोरियों तक पहुंचा ‘अपना पैड’

108
1411

पौष्टिक आहार व ख़ास सेनिटेशन किट पाकर सैकड़ों किशोरियों के चेहरे खिले

नागेपुर की युवा टोली ने किशोरियों और गर्भवती महिलाओं में बाँटी सेनिटेशन किट और पौष्टिक आहार

‘अपना पैड’ पाकर किशोरी बोली ‘अब पैड खरीदने की झंझट हुई ख़त्म’


मिर्जामुराद : इनदिनों पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है, जिसने सीधेतौर पर आम जन-जीवन को प्रभावित किया है। यह महामारी महिला स्वास्थ्य के मुद्दे पर दोहरी मार जैसी है। ऐसे में आदर्श ग्राम नागेपुर में माहवारी स्वच्छता दिवस पर सैकड़ों ग्रामीण किशोरियों और गर्भवती महिलाओं में पौष्टिक आहार और सेनेटरी पैड सहित पैंटी सेनिटेशन किट वितरित की गयी।
कार्यक्रम के दूसरे हिस्से में लोक समिति और मुहीम संस्था की तरफ से चलाए जा रहे कोरोना राहत-कार्य के तहत गुरुवार को कुल 145 गरीब और ज़रूरतमंद गर्भवती महिला और किशोरियों को वितरित की गई, जिसमें नागेपुर में 17, भटपुरवा में 32, अमीनी में 17, बसुहन में 27, लालपुर में 14, देईपुर 18 और दशरथपुर में 17 किशोरियों और गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार और सेनिटेशन किट वितरित की गयी। पौष्टिक आहार, सेनेटरी पैड व अन्य राहत सामग्री पाकर सैकड़ों किशोरी लड़कियों के चेहरे खिल गए। बेनीपुर उसरापट्टी की किशोरी वर्षा ने कहा कि इस किट की सबसे अच्छी चीज मुझे पैंटी लगी, क्योंकि इसे खरीदने में हमलोगों को बहुत दिक्कत होती है, शर्म भी आती है और पैसे भी नहीं होते है। और दूसरा इस सूती पैड को हमलोग धो-सुखाकर दुबारा भी इस्तेमाल कर सकते है, जिससे पैड खरीदने की भी झंझट नहीं होगी। है कि बीते कई सालों से मुहीम संस्था माहवारी स्वास्थ्य के मुद्दे पर ग्रामीण क्षेत्रों में काम कर रही है। हर साल की तरह इस साल भी माहवारी स्वच्छता दिवस पर संस्था के कार्यक्रम माहवारी चौपाल के तहत अलग-अलग गांव की दीवारों में माहवारी केंद्रित संदेश के साथ बीते एक हफ्ते से लगातार युवा साथी वर्षा और मनीष दीवार-लेखन कर रहे हैं।
मुहीम की संयोजक स्वाती सिंह ने बताया कि माहवारी स्वच्छता दिवस पर तैयार की गई सेनिटेशन किट में ग्रामीण किशोरियों के बनाये सूती कपड़े के सेनेटरी पैड ‘अपना पैड’ को शामिल किया गया है, जो किशोरियों के स्वावलंबन में भी सहायक है। इसके साथ ही, इस सेनिटेशन किट में महिला पैंटी, मास्क और मेडिकेटेड साबुन को शामिल किया गया है। बता दें मुहीम संस्था के इस बागोडिग्रेडब्ल सेनेटरी पैड को संस्कृति मन्त्रालय की अंत्योदय योजना के तहत ज़ारी रिपोर्ट में देश के बेहतरीन कामों में शामिल किया गया है।
लोक समिति के संयोजक नन्दलाल मास्टर ने बताया कि गांव की गरीब और ज़रूरतमंद परिवारों की गर्भवती महिलाओं और किशोरियों के खास तैयार की गई इस राहत किट में चना, सोयाबीन, मूंगफली, गुड़ और ग्लूकोज जैसी पौष्टिक सामग्री को शामिल किया गया है। अब तक संस्था द्वारा चलाये जा रहे राहत कार्य से करीब 2700 गरीब और ज़रूरतमंद परिवार और 9000 प्रवासी मज़दूरों तक राहत सामग्री पहुंचायी जा चुकी है।

वितरण कार्यक्रम में मुख्यरूप से वंदना, अनीता, आशा, रामकिंकर कुमार, स्वाती, नन्दलाल मास्टर, वर्षा, खुशबू, चन्द्रकला, सीमा, मधुबाला, मोनी और पंचमुखी के साथ अन्य साथी शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here