वेदांता स्टील कंपनी में नहीं की जाएगी छँटनी

23
349

विशद कुमार
बोकारोः इलेक्ट्रोस्टील लिमिटेड (वेदांता) बोकारो, के कामगारों की छटनी एवं मजदूरी भुगतान सम्बन्धित शिकायतों के निराकरण हेतु 13 जून 2020 की देर शाम को उपायुक्त मुकेश कुमार की अध्यक्षता में इलेक्ट्रो स्टील के अधिकारियों के साथ बैठक की गई।
बैठक में उपायुक्त -सह- अध्यक्ष जिला आपदा प्रबंधन पदाधिकारी श्री मुकेश कुमार के द्वारा इलेक्ट्रोस्टील लिमिटेड के प्रवंधन से कोविड-19 के संक्रमण के बचाव हेतु घोषित लॉक डाउन अवधि में कामगारों को छटनी एवं अनियमित मजदूरी भुगतान से सम्बंधित प्राप्त शिकायतों पर अद्यतन स्थिति की जानकारी ली गई। मजदूरी संबंधित शिकायत पर प्रबंधन द्वारा बताया गया कि लॉक डाउन की अवधि में माह मार्च से मैं सभी कामगारों को पूर्ण कार्य दिवस का मजदूरी का भुगतान किया गया है। माह अप्रैल में बैठे हुए कामगारों को 15 दिन की मजदूरी का भुगतान किया गया है एवं माह मई में बैठे हुए मजदूरों को 12 दिन की मजदूरी का भुगतान किया गया है। प्रतिष्ठान के नियमित किसी भी कामगार को कार्य से बैठाया या छटनी नहीं किया गया है।

उपायुक्त द्वारा प्रबंधन को निर्देश दिया गया कि बैठे हुए सभी कामगारों को माह अप्रैल की भांति मजदूरी के भुगतान में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं होना चाहिए तथा प्रबंधन द्वारा घोषित अवधि में स्थानीय कामगारों को प्राथमिकता देते हुए शेष बचे हुए सभी कामगारों को कंपनी हर हाल में नियोजित कर ले। उन्होंने श्रम अधीक्षक बोकारो को निर्देशों को लागू कराने व सतत निगरानी रखने का निर्देश दिया।

 सभी मजदूरों को नियोजित कर लिया जाएगा-

बैठक में सी.पी.यू. इलेक्ट्रोस्टील लिमिटेड श्री एस. वेंकटरमन के द्वारा बताया गया कि कोविड-19 के संक्रमण के बचाव हेतु घोषित लॉकडाउन के पूर्व में कुल 5773 ठेका कामगार नियोजित थे, जिसमें से गृह मंत्रालय भारत सरकार के सोशल डिस्टेंसिंग हेतु निर्गत एडवाइजरी एवं अचानक उत्पन्न स्थिति के फलस्वरूप माह मार्च के अंतिम समय में ठेका कामगारों में से 2288 कामगारों को घर पर ही रह कर प्रतिष्ठान के पूर्ण रूप से कार्यरत होने तक इंतजार करने को लेकर निर्देश दिया गया था, परंतु अप्रैल माह में ही उनसे 1455 लोगों को कार्य पर लगाकर कार्य प्रारंभ किया गया। इस प्रकार 4940 ठेका कामगार कार्यरत हो गए थे। पुनः माह मई में 160 और अतिरिक्त ठेका कामगारों को नियोजित किया गया था, जो कुल 5100 ठेका मजदूर माह मई में कार्यरत रहे। पुनः माह जून में 44 ठेका कामगारों को नियोजन देते हुए आज तक 5144 ठेका कामगार कार्यरत हैं, अर्थात लॉकडाउन में पूर्व कार्यरत 5773 में से कुल 5144 ठेका कामगार अद्यतन स्थिति में कार्यरत हैं। उन्होंने उपायुक्त को आश्वस्त किया कि कि शेष बचे हुए कुल 629 ठेका कामगारों को चरणबद्ध तरीके से स्थिति सामान्य होने के साथ जुलाई माह के अंत तक में कार्य पर रख लिया जाएगा इनमें से बोकारो जिला के स्थानीय कामगारों को प्रथम प्राथमिकता देते हुए उन्हें नियोजित कर लिया जाएगा। प्रबंधन के उच्च पदाधिकारियों द्वारा उपरोक्त सभी निर्देशों को अपने प्रतिष्ठान में अक्षरह: लागू करने का आश्वासन दिया, तथा यथाशीघ्र माह मई के तीन दिन का अतिरिक्त मजदूरी भुगतान का आश्वासन दिया गया।

किसी मजदूर को या कर्मी को उसके कार्य से नहीं निकाला जाएगा-

उपायुक्त मुकेश कुमार ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री झारखंड सरकार के मजदूरों की स्थिति को लेकर काफी गंभीर हैं, अतः कोविड-19 के नॉर्म्स के अनुसार जिले में सभी मजदूरों का पूरा ख्याल रखा जाएगा तथा किसी मजदूर को या कर्मी को उसके कार्य से नहीं निकाला जाएगा। औद्योगिक कंपनियों द्वारा इस दिशा में जिला प्रशासन के साथ-साथ अन्य सामाजिक संगठन भी कार्य कर रहे हैं, ताकि किसी भी मजदूर को किसी प्रकार की कोई कठिनाई इस वैश्विक महामारी के दौरान ना हो, जिससे उसकी आर्थिक स्थिति खराब हो।

बैठक के दौरान अनुमण्डल पदाधिकारी चास शशिप्रकाश सिंह, डीपीएलआर पशुपतिनाथ मिश्रा, श्रम अधीक्षक हरेंद्र सिंह, सीपीओ वेदांता स्टील कंपनी एस बैंकट रमन सहित अन्य कई पदाधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here