अतार्किक शेड्यूल के साथ जूझते Ncweb के छात्र

0
1404

गर किसी चीज की आत्मा को ही उससे निकाल दिया जाय, या उसे मार दिया जाय तो सोचिए कि क्या होगा। इसका उत्तर आप सभी जानते होंगे। इसीलिए मैं अब सीधे मुद्दे पर आता हूँ। डीयू के अंतर्गत स्थापित Ncweb में इस महामारी के दौरान जो कुछ भी हुआ और हो रहा है उसे देख कर तो यही लगता है कि इस संस्था को चलाने वालों ने इसकी आत्मा को ही मार दिया है।

Ncweb की स्थापना इस उद्देश्य के साथ की गई थी कि वैसी लड़कियाँ जो वर्किंग है और अपनी औपचारिक शिक्षा को जारी रखना चाहती हैं वे वीकेंड अर्थात छुट्टी के दिन ncweb में कॉलेज जाकर शिक्षा प्राप्त कर सके। यही कारण है कि ncweb के क्लास का शेड्यूल आमतौर पर उस दिन रखा जाता है जिस दिन शनिवार या रविवार होता है या फिर कोई राष्ट्रीय अवकाश। ऐसा शेड्यूल उन वर्किंग महिलाओं को ध्यान में रख कर बनाया जाता है, जो किसी नौकरी के साथ-साथ अपनी उच्च शिक्षा को जारी रखती हैं।

पर, बहुत दुख की बात है कि इस महामारी के नाम पर ncweb को चलाने वाले अधिकारियों ने इस संस्थान की आत्मा को ही मार देने का काम किया है। इस महामारी के समय ncweb ने छात्राओं के क्लास का शेड्यूल जिस तरह से बनाया है, यह इसी बात की ओर इशारा करता है। इस बार क्लास का शेड्यूल हर दूसरे दिन रखा गया है। इस नए शेड्यूल में इस बात का तनिक भी ध्यान नहीं रखा गया है कि वैसे स्टूडेंट्स जो कोई जॉब करते हुए अपनी पढ़ाई जारी रखने के उद्देश्य से इस संस्थान से जुड़े थे, वो इस तरह के अतार्किक शेड्यूल के साथ इन दोनों चीजों को साथ-साथ कैसे चला पाएंगे।

सिर्फ इतना ही नहीं, क्लास के शेड्यूल के साथ और भी कई ऐसी बातें हैं जो पूरी तरह से हास्यास्पद, आधारविहीन और असंवेदनशील हैं। एक ही दिन में 5 से 6 क्लास का शेड्यूल रखा गया है और एक क्लास पूरे 2 घंटों का। अब इस पर किसी ने ये सोचा ही नहीं कि डेढ़ या दो जीबी डेटा में यह कैसे संभव है कि एक दिन में 5 से 6 क्लास को वर्चुअली अटेंड किया जा सकता है। यह डिजिटल डिवाइड नहीं तो और क्या है।

सत्र को पटरी पर लाने के लिए ncweb प्रशासन ने एक और हास्यास्पद काम यह किया है कि कई सारे क्लास का शेड्यूल रात के 11 बजे तक रखा है। भारत के परिवार में जिस तरह से लड़कियों को घर के काम-काज और चूल्हे चौकी में जकड़ कर रखा गया है, उसे ध्यान में रखते हुए ncweb प्रशासन को इस तरह के शेड्यूल बनाने से पहले ज़रूर एक बार सोचना चाहिए था। बहुत-सी बातें बोली नहीं जाती, समझी जाती हैं।

दुख की बात है कि जब ऐसे सवाल स्टुडेंट्स की तरफ से आते हैं तब कुछ शिक्षक का रवैया भी ncweb के अधिकारियों जैसा ही होता है। वे सीधे कह देते हैं कि घर में wifi लगवा लीजिए। अपने क्लास रूम की विविधता और स्टूडेंट्स के पारिवारिक-सामाजिक पृष्ठभूमि को दरकिनार करते हुए ऐसा स्टेटमेंट कितना असंवेदनशील और गैरजिम्मेदाराना है, इसका अंदाजा आप ख़ुद से लगा सकते हैं। ncweb में पढ़ा रहे शिक्षकों की आर्थिक हालत को समझते हुए मैं तो यहां तक कहता हूँ कि स्टूडेंट्स की बात तो छोड़िए, यहाँ पढ़ा रहे सारे शिक्षक क्या अपने-अपने घरों में wifi का ख़र्च अफोर्ड कर सकते हैं? अगर यथार्थ को देखते हुए ईमानदारी बरती जाए तो इसका जो उत्तर होगा, उसे यहाँ लिखने की कतई ज़रूरत नहीं है।

Ncweb के सांस्थानिक आधार पर अगर इस बात को देखा जाय तो यहाँ पढ़ रहे स्टूडेंट्स के मानवाधिकार के हनन का सवाल खड़ा होता है, जिसे अभी तक किसी ने भी नहीं उठाया है।

कुछ लोग इसके तर्क में कहेंगे कि महामारी के कारण नामांकन प्रक्रिया में हुई देरी के कारण सत्र को पटरी पर लाने के लिए ऐसा करना ज़रूरी था। तो इस पर यह तर्क आता है कि सिर्फ सत्र को पटरी पर लाने मात्र के लिए इस संस्थान की आत्मा से खिलवाड़ करना ज़रूरी था? छुट्टियों के दिन क्लास का शेड्यूल रखते हुए क्या सत्र को पटरी पर लाया नहीं जा सकता था? क्या सिलेबस को छोटा करके सत्र को पटरी पर नहीं लाया जा सकता था? इन सारे पहलुओं पर ncweb के अधिकारियों को एक बार जरूर सोचना चाहिए। ncweb में पढ़ रहे स्टूडेंट्स के साथ यह एक बहुत बड़ा धोखा है, बहुत बड़ा छल है। यहाँ के अधिकारियों को एक बार जरूर सोचना चाहिए कि उन्हें एक बड़ी और महत्वपूर्ण संस्था को चलाने की जिम्मेवारी सौंपी गई है न कि किसी चिड़ियाघर को चलाने की।

 

 

 

सूरज राव
शोधार्थी, जेएनयू, नई दिल्ली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here