जेसीबी के उपयोग से मनरेगा मजदूरों को काम की कमी

2
135
  • विशद कुमार
झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम के सोनुवा प्रखंड के पोड़ाहाट पंचायत में मनरेगा योजना में शामिल केवल मानव श्रम की अवधारणा के साथ खिलवाड़ करने का मामला प्रकाश में आया है। ठेकेदार और संबंधित विभाग के कर्मचारियों की मिलीभगत से मनरेगा के बन रही सड़क के निर्माण में मजदूरों के बजाय जेसीबी मशीन से काम किया जा रहा है।
बता दें कि राज्य से रोजगार और दूसरे राज्यों में पलायन रोकने व मजदूरों को गांव में काम देने के लिए मनरेगा के तहत सरकार द्वारा काम सृजित किया जा रहा है कि गांव में ही मजदूरों को अधिक से अधिक काम मिले, ताकि वे रोजगार के लिए दूसरे राज्यों में पलायन न करें। वहीं दूसरी तरफ क्षेत्र के दलाल और सरकारी कर्मचारियों की मिलीभगत से मशीन का उपयोग करके एक तरफ मनरेगा की अवधारणा को मिटाया जा रहा है, वहीं ऐसा करके मजदूरों के पेट पर लात मारा जा रहा है। बता दें कि मनरेगा योजना में मशीन का उपयोग पूर्णतः वर्जित है। बावजूद इस योजना में जेसीबी का उपयोग किया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला सोनुवा प्रखंड पोड़ाहाट पंचायत में देखने को मिला है।
सोनुवा प्रखंड पोड़ाहाट पंचायत के झिंगामारचा से गुटूसाई तक मनरेगा योजना के तहत बन रही मिट्टी मोरम की कच्ची सड़क निर्माण कार्य के दौरान 26 जुलाई सोमवार सुबह जेसीबी मशीन से कार्य किया जा रहा था। जिसकी शिकायत मनरेगा मजदूरों ने किया है। मजदूरों के मुताबिक उनके द्वारा पिछले दिनों काम की मांग की गयी थी। जिसको लेकर पोड़ाहाट पंचायत के झिंगामारचा से गुटूसाई तक मिट्टी मोरम से सड़क योजना बनायी गई। योजना के मस्टर रोल में दर्ज मनरेगा मजदूर कौशल्या हेम्ब्रम, सुखलाल पुर्ती, गुरुवारी बानरा, मनोज हेम्ब्रम, बुतरु दिग्गी आदि कई मजदूरों ने बताया कि मास्टर रोल में नाम होने के बावजूद उनसे काम नहीं कराया जा रहा है। जबकि सोमवार सुबह सड़क निर्माण को लेकर जेसीबी मशीन का उपयोग किया गया। जिसका उन्होंने विरोध किया। ग्रामीण मजदूरों के विरोध किये जाने के बाद जेसीबी मशीन का चालक काम छोड़ कर भाग गया। बताया जाता है कि, इस संबंध में मजदूर उच्चधिकारियों से भी शिकायत करेंगे। मामला प्रकाश में आने के बाद मनरेगा ठेका माफियाओं में हडकंप मच गया है। मनरेगा माफिया मामले की लीपापोती करने में जुट गये हैं।
जांच के बाद दोषियों पर होगी कड़ी कार्रवाई – बीडीओ
सोनुवा के सीओ सह बीडीओ सागरी बराल ने बताया कि मामले की जानकारी मिली है। मनरेगा योजना में मशीन का उपयोग वर्जित है। मामले की जांच की जाएगी। जांच में दोषी पाये जाने वाले व्यक्तियों पर कार्रवाई करने के साथ उन पर मामला भी दर्ज किया जाएगा। बीडीओ कार्य कर रहे जेसीबी मशीन को भी जब्त करने के साथ कार्रवाई करने की बात कही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here