आम जनता की खाद्य-सुरक्षा – जितनी भी है और जैसी भी है – पड़ने वाली है खतरे में

98
475
29 दिसंबर 2020
ऑनलाइन सभा में प्रस्तुत वक्तव्य
मौजूदा किसान आन्दोलन पर वक्तव्य
रवि सिन्हा
किसानों के इस आन्दोलन को उसके तात्कालिक उद्देश्यों और सम्भावनाओं मात्र के सन्दर्भ में देखें तो भी यह ऐतिहासिक है. अपनी अंतिम और सम्भावित सफलता से स्वतन्त्र इसकी उपलब्धियाँ अभी ही ऐतिहासिक महत्त्व की साबित हो चुकी हैं. लेकिन इस आन्दोलन के अर्थ और इसकी सम्भावनायें और भी बड़ी हैं. भारत की दुर्दशा के इस घोर अँधेरे में, जहाँ अधिनायकवादी फ़ासिस्ट शक्तियों के ख़िलाफ़ प्रतिरोध की सम्भावनााओं को एक के बाद एक कुचल दिया जाता रहा है, यह आन्दोलन एक मशाल बनकर सामने आया है. किसानों से शुरू होकर यह आन्दोलन सिर्फ़ किसानों का नहीं रह गया है. पंजाब और हरियाणा के किसानों के द्वारा दिल्ली को घेरने से शुरू हुई यह मुहिम अब दिल्ली की सत्ता को घेरने वाली चौतरफ़ा मुहिम का रूप लेती जा रही है. हम किसानों के इस आन्दोलन को सर्वप्रथम इसलिए समर्थन देते हैं और उसमें इस लिये शामिल हैं कि उनकी माँगें जायज़ हैं और इस सरकार द्वारा ज़बरदस्ती लाये गये तीनों क़ानूनों को लेकर उनकी आशंकायें वास्तविक हैं. और हम इस आन्दोलन को इसलिये सलाम करते हैं और इससे प्रेरणा लेते हैं कि यह अँधेरे में रौशनी की मशाल बनकर सामने आया है.
अगर हम आंदोलन की तात्कालिक माँगों और उद्देश्यों की विस्तृत चर्चा यहाँ नहीं करते हैं तो इसका अर्थ यह नहीं कि इनके जायज़ और ऐतिहासिक महत्त्व के होने में हमें कोई संदेह है. अब यह जगज़ाहिर है कि ये तीनों क़ानून उस शैतानी योजना का हिस्सा हैं जिसके तहत कृषि क्षेत्र को कारपोरेट पूँजी के प्रत्यक्ष आधिपत्य में ले जाने की तैयारी है. यह न केवल किसानों की रही-सही आर्थिक सुरक्षा को समाप्त करेगा, सरकार को उसकी जिम्मेदारी से मुक्त करेगा और न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा राज्य-संचालित मंडियों की व्यवस्था को तोड़ देगा, बल्कि यह पूरे देश की आम जनता की खाद्य-सुरक्षा – जितनी भी है और जैसी भी है – को ख़तरे में डाल देगा. साथ ही ये क़ानून भारत के संघीय ढाँचे के विरुद्ध भी हैं, और केन्द्र द्वारा राज्यों के अधिकारों का अतिक्रमण हैं. यह सब आप सभी को मालूम है और इन कारणों से ही इस आंदोलन का सूत्रपात हुआ है.
लेकिन जैसा कि मैंने कहा, इस आन्दोलन का महत्त्व अधिक व्यापक और अधिक गहरा है. इसकी सम्भावनायें दूरगामी हैं. इसके राजनैतिक महत्त्व को और इसकी ऐतिहासिक भूमिका को समझा जाना चाहिये और समझाया जाना चाहिये.
आप ग़ौर करेंगे कि पूँजीवादी व्यवस्था के अधीन शासक वर्गों में आम तौर पर एक श्रम-विभाजन होता है. आर्थिक संसाधनों के निजी और संकेद्रित स्वामित्व तथा बाज़ार की व्यवस्था द्वारा समाज पर पूँजी का आर्थिक आधिपत्य सुनिश्चित किया जाता है, तो उसी समाज का राजनैतिक प्रबन्धन लोकतान्त्रिक प्रणाली के द्वारा किया जाता है. इस प्रणाली से शासक वर्गों को लोक-स्वीकार्यता हासिल होती है. इसकी कुछ कीमत उन्हें लोकतान्त्रिक अंकुश के रूप में चुकानी पड़ती है. शासक वर्गों की राजनीति का एक प्रमुख उद्देश्य यह होता है कि लोक-स्वीकार्यता और अंकुश के बीच ऐसा सन्तुलन स्थापित हो जिसमें लोक-स्वीकार्यता बढ़े और अंकुश न्यूनतम हो. आज से पचास साल पहले तक यह सन्तुलन कल्याणकारी राज्य की अवधारणा में प्रकट होता था. कम से कम उन्नत पूंजीवादी देशों में तो ऐसी ही हवा थी. इस संतुलन में आर्थिक मुद्दों और राजनैतिक एजेंडा के बीच बहुत बड़ा गैप नहीं होता था.
पिछले पचास सालों में दुनिया के पैमाने पर इस संतुलन में बदलाव आया है. आर्थिक मुद्दों को राजनीति के केन्द्र से विस्थापित करने का तरीक़ा निकाला गया है. इसके लिये राजनीति के केन्द्र में पहचान, परंपरा, धर्म, संस्कृति, मिथक, उन्मादी राष्ट्रवाद इत्यादि को स्थापित किया गया है. दुनिया भर में दक्षिणपंथ के उभार के पीछे यह प्रमुख कारण रहा है. पूँजीवादी व्यवस्था को अपने अन्तर्भूत कारणों से पिछले संतुलन में बदलाव की ज़रूरत थी. यह ज़रूरत इस नयी राजनीति ने पूरी की है. इसमें लोक-स्वीकार्यता आर्थिक मुद्दों से इतर कारणों द्वारा हासिल की जाती है. इससे अंकुश वाले पक्ष में भी कमी आती है. जो राजनैतिक शक्तियाँ नग्न रूप में कारपोरेट पूँजी के नौकर की भूमिका में होती हैं और जनता की संपत्ति को, उसके उत्पादन को और उसके आर्थिक-भौतिक जीवन को पूँजी और बाज़ार के हवाले करती जाती हैं उन्हीं को अर्थेतर और वर्गेतर कारणों से जनता का समर्थन भी हासिल होता है.
भारत में यह रणनीति हिन्दुत्व की राजनीति के ज़रिये लागू की गयी है. इसकी विडम्बना यह है कि जो जनता पिसती है वह उसी का समर्थन करती है जिसके द्वारा वह पीसी जाती है. यह तो ठीक है कि ऐसा समर्थन हासिल करने के लिये सटीक मौकों पर दंगे-फ़साद, राष्ट्रवादी उन्माद और सांप्रदायिक-सामुदायिक वैमनस्य का सहारा लिया जाता है. लेकिन प्रश्न तो फिर भी बना रहता है कि ये उपाय कारगर क्यों सिद्ध होते हैं. विडम्बना यह भी है कि जो राजनेता जनता के बीच से उभरने का दावा करते हैं, जिनका बचपन ग़रीबी में बीता होता है, जिनकी पैदाइश पिछड़े वर्गों में हुई होती है और जो चाय बेचकर जीविकोपार्जन की कथायें कह सकते हैं, उनके लिए यह तुलनात्मक रूप में आसान होता है कि वे निर्लज्ज रूप में पूँजी की चाकरी करें और आम जनता को नुक्सान पहुंचायें. कुल मिलाकर हमारे लिये यह सब एक कठिन चुनौती है. जो लोग यह सोचते हैं हम जनता के बीच जाकर आसानी से इन आसुरी और शैतानी शक्तियों का पर्दा-फ़ाश कर देंगे और जनता सच सुनते ही हमारे पक्ष में आ जायेगी, वे इस चुनौती को कम कर के आँक रहे हैं.
इस चुनौती के सामने रखिये तो मौजूदा किसान आन्दोलन का महत्त्व समझ में आता है. अनेक परिस्थितियों का सम्मिलन होता है तब ऐसे मौके सामने आते हैं जब शासक वर्गों के घटाटोप वर्चस्व को चुनौती दी जा सकती है. उस पर भी ऐसे मौकों को वाक़ई फलीभूत करने के लिये कुशल और समझदार नेतृत्व की ज़रूरत होती है. मौजूदा किसान आन्दोलन इन शर्तों पर अभी तक तो खरा उतरता दिखाई देता है. इसे हम सभी की भागीदारी की और ज़बरदस्त समर्थन की ज़रूरत है. ज़रूरत इस बात की भी है कि हम सब राजनैतिक परिदृश्य को और राजनैतिक उद्देश्यों को आँख से ओझल न होने दें.
आन्दोलन के समक्ष चुनौतियाँ और सम्भावित ख़तरे भी मौजूद हैं. सरकार के द्वारा यह कोशिश लगातार बनी हुई है कि आन्दोलन को बदनाम किया जा सके और देश के पैमाने पर जनमत और लोकभावना को उसके विरुद्ध किया जा सके. यह ठीक है कि इस बार सरकार को अपनी साज़िशों में आसानी से सफलता नहीं मिलने वाली है. यह मसला किसानों का है और मेहनतकश लोगों के हर तबके का है. अतः आन्दोलन को आसानी से अलग-थलग नहीं किया जा सकता. ऊपर से किसान संगठनों के नेतृत्व की समझ-बूझ क़ाबिले-तारीफ़ है. लेकिन ऐसा नहीं है कि सरकार के तरकश में तीर बिलकुल नहीं बचे हैं. भले इस बार दंगे-फ़साद या राष्ट्रवादी उन्माद तत्काल कारगर न हो पायें, दूसरे उपाय ज़रूर आजमाए जा सकते हैं. मसलन आने वाले चुनावों की सरगर्मी का इस्तेमाल आन्दोलन पर से देश और दुनिया का ध्यान हटाने के लिए किया जा सकता है.
यह भी ग़ौरतलब है कि जन-आन्दोलन अपने राजनैतिक उद्देश्य हासिल करने में हमेशा कामयाब नहीं हो पाते. राजनैतिक कामयाबी के लिए आवश्यक होता है कि आन्दोलन राजनैतिक उद्देश्यों और निरन्तर बदलती परिस्थितियों के बारे में हमेशा सचेत रहे. दुनिया के पैमाने पर अरब स्प्रिंग जैसे अनेक विशाल जन-आन्दोलनों को हम विफल होते देख चुके हैं. वास्तविक मसलों पर खड़े हुए विशाल आन्दोलनों को भी थकाया जा सकता है, उनमें दरार डाली जा सकती है और उनसे जनता का ध्यान हटाया जा सकता है. यह भी भूलने की बात नहीं है कि जनता ने भयंकर अत्याचार, भ्रष्टाचार और कुव्यवस्था की सज़ा इस सरकार को देने से इनकार किया है. ताज़ा उदाहरण लॉक-डाउन के समय भयंकर त्रासदी झेलने वाले प्रवासी मज़दूरों का है जिन्होंने सारे संकट झेलने के बाद भी सत्तारूढ़ पार्टी को हाल के चुनावों में सज़ा नहीं दी या उस तरह से नहीं दी जैसी कि अपेक्षा थी.
आन्दोलन के बीचो-बीच होते हुए ये बातें इसलिए आवश्यक हैं कि इनसे आन्दोलन की सफलता-विफलता का प्रश्न जुड़ा हुआ है. पहली बात तो यह कि आन्दोलन राजनैतिक परिस्थितियों को और उनमें निहित ख़तरों को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकता. मसलन पश्चिम बंगाल के तथा अन्य राज्यों के आने वाले चुनाव न केवल आन्दोलन से जनता का ध्यान हटा सकते हैं बल्कि इन चुनावों में केंद्र में सत्तारूढ़ शक्तियों की जीत आन्दोलन को कमज़ोर करने में और अंततः उसे कुचलने में महती भूमिका निभा सकती है. अतः यह आवश्यक है कि आन्दोलन लम्बे समय तक डटा रहे और चुनावों पर भी वांछित प्रभाव डाले. अपने तात्कालिक हितों और उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए भी आन्दोलन को राजनैतिक तौर पर कुशल और सचेत होना पड़ेगा. इसके लिए यह भी आवश्यक है कि फ़ासीवाद और सम्प्रदायवाद की विरोधी जनपक्षधर शक्तियाँ भी किसान आंदोलन से सीख लें और राजनैतिक सूझ-बूझ का परिचय दें.
अन्त में, बौद्धिक-सांस्कृतिक-सृजनशील लोगों का दायित्व हमेशा की तरह यहाँ भी विशेष बनता है. हमारी यह ज़िम्मेदारी बनती है कि हम इस आन्दोलन का, और व्यापक प्रतिरोध आन्दोलन का, उत्साह बढ़ायें, उसमें आशा का संचार करें, लेकिन साथ ही यथार्थ की यथार्थवादी समझ भी बनायें. ये दोनों उद्देश्य परस्पर विरोधी नहीं, बल्कि एक दूसरे के पूरक हैं. आशा-उत्साह का संचार सच से आँख चुरा कर नहीं हो सकता और एक दूसरे को वही घिसी-पिटी तथाकथित उत्साहजनक बातें सुनाकर भी नहीं हो सकता जिन्हें हम एक दूसरे को हज़ार बार सूना चुके होते हैं. दूसरी तरफ़ सपनों को साकार करने वाली रणनीति के लिये भी यथार्थ की निर्मम यथार्थवादी समझ की आवश्यकता होती है.
मैं यह दुहराये बिना नहीं रह सकता कि यह आन्दोलन भारत के मौजूदा अँधेरे एक मशाल बनकर सामने आया है. मैं एक बार फिर इस गौरवशाली आन्दोलन को सलाम करता हूँ, इसे अपना समर्थन देता हूँ, और तात्कालिक एवं दूरगामी दोनों स्तरों पर इसकी सफलता की कामना करता हूँ.
दिसम्बर 29, 2020 (कॉमरेड रवि सिन्हा, न्यू सोशलिस्ट इनिशिएटिव [New Socialist Initiative])

98 COMMENTS

  1. I’m truly enjoying the design and layout of your website.
    It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit
    more often. Did you hire out a developer to create your
    theme? Excellent work!

  2. It is appropriate time to make some plans for the
    long run and it is time to be happy. I have learn this post and if
    I may I wish to recommend you some attention-grabbing issues or suggestions.
    Maybe you could write subsequent articles relating to this article.
    I wish to learn more things about it!

    Feel free to surf to my blog :: Elevate Neuro

  3. I loved up to you will obtain performed right here.

    The sketch is attractive, your authored subject matter stylish.
    nevertheless, you command get bought an nervousness over that you wish be
    handing over the following. ill indubitably
    come more beforehand once more since exactly the similar just about a lot continuously inside of case you defend this increase.

    My website – ruriruri.net

  4. You actually make it seem so easy together with your presentation but I
    find this matter to be actually something that I think I might
    never understand. It sort of feels too complicated and extremely large for me.
    I am having a look forward for your next post, I will
    attempt to get the dangle of it!

    Also visit my web-site; Recover FX CBD Reviews

  5. Howdy I am so happy I found your blog page, I really found you
    by mistake, while I was researching on Google for something
    else, Nonetheless I am here now and would just like to say
    many thanks for a remarkable post and a all round enjoyable blog (I also love the
    theme/design), I don’t have time to go through it all at the moment
    but I have book-marked it and also added in your RSS feeds, so
    when I have time I will be back to read a great deal more, Please do keep up the superb work.

    Here is my homepage … Male Dominator Supplement

  6. certainly like your web site however you have to take a look at the spelling on quite a few of your
    posts. Several of them are rife with spelling problems and I to find it very bothersome to
    inform the truth then again I’ll definitely come back again.

    My web site … Skyline X Drone

  7. Good day very nice web site!! Guy .. Excellent .. Amazing ..
    I will bookmark your site and take the feeds additionally…I’m satisfied to find so many helpful info here
    in the publish, we need develop extra strategies on this regard, thanks
    for sharing.

    my web page :: Dentitox Pro Review

  8. I believe that is among the such a lot significant info for me.

    And i am satisfied reading your article. However want to observation on few general
    things, The website style is great, the articles is in point of fact
    excellent : D. Excellent process, cheers

    My website :: Skyline X Drone

  9. I almost never drop comments, but i did some searching and
    wound up here आम जनता की खाद्य-सुरक्षा – जितनी भी है और जैसी भी है – पड़ने वाली है खतरे में – HamaraMorcha.

    And I do have a couple of questions for you if it’s allright.

    Is it just me or does it look as if like some of the remarks look like
    written by brain dead visitors? 😛 And, if you are
    writing on additional sites, I would like to follow everything new you have to post.

    Would you list of all of all your shared pages like your Facebook
    page, twitter feed, or linkedin profile?

    Also visit my web-site; Viro Valor XL Reviews

  10. Hi there, just became alert to your blog through Google, and
    found that it is truly informative. I am gonna watch out
    for brussels. I’ll appreciate if you continue this in future.
    Numerous people will be benefited from your
    writing. Cheers!

    Feel free to visit my page – Greener Earth CBD

  11. Hello my family member! I want to say that this post is amazing,
    nice written and come with approximately all important infos.
    I would like to peer extra posts like this .

    Visit my web blog Dustin

  12. Have you ever thought about publishing an e-book or guest authoring on other
    websites? I have a blog centered on the same subjects you discuss
    and would love to have you share some stories/information. I know my subscribers would enjoy your work.

    If you are even remotely interested, feel free to shoot me an e mail.

    Also visit my web-site; PeniSizeXL Ingredients

  13. Hi, Neat post. There is a problem along with your web site in web explorer,
    might test this… IE nonetheless is the marketplace leader and a large component of other people will leave out your
    excellent writing because of this problem.

    Feel free to surf to my website – EcoHack Reviews

  14. I in addition to my guys appeared to be reviewing the best guides from your website and
    then all of a sudden I had an awful suspicion I had not expressed respect to the site owner for those
    tips. My people appeared to be as a consequence passionate to study them and now have in reality been making the most of these things.
    We appreciate you simply being very thoughtful as well as for selecting this form of extraordinary subject areas millions of
    individuals are really eager to be aware of. My personal honest
    regret for not saying thanks to earlier.

    Feel free to visit my blog forum.adm-tolka.ru

  15. Hmm is anyone else experiencing problems with the images on this blog
    loading? I’m trying to determine if its a problem on my end or if it’s
    the blog. Any feedback would be greatly appreciated.

    Here is my blog – Toxy Burn

  16. Having read this I thought it was extremely enlightening.

    I appreciate you finding the time and energy to put this short article together.

    I once again find myself personally spending a significant amount of
    time both reading and leaving comments. But so what, it was still
    worth it!

    my page: Christine

  17. I blog quite often and I truly thank you for your
    information. Your article has truly peaked my interest.

    I’m going to bookmark your blog and keep checking for new information about once
    per week. I opted in for your RSS feed too.

    Also visit my homepage – TestonoX

  18. I do not even know how I ended up here, but I thought this post was great.
    I don’t know who you are but certainly you’re going to a
    famous blogger if you are not already 😉 Cheers!

    Here is my page – Lorie

  19. Hi there, I found your website by way of Google even as searching for a similar subject, your website came up, it looks great.
    I’ve bookmarked it in my google bookmarks.[X-N-E-W-L-I-N-S-P-I-N-X]Hello there, simply became
    aware of your blog thru Google, and located that it’s truly informative.
    I am going to watch out for brussels. I’ll appreciate in case you continue this in future.
    A lot of other people can be benefited from
    your writing. Cheers!

    Here is my website … gonullerderyasi.com

  20. Hello there, just became alert to your blog
    through Google, and found that it is truly informative.
    I am going to watch out for brussels. I will be grateful if you continue this in future.
    Lots of people will be benefited from your writing.
    Cheers!

    Feel free to visit my site :: drug crime

  21. Please let me know if you’re looking for a article writer for your site.
    You have some really good posts and I feel I would be a good
    asset. If you ever want to take some of the load off, I’d absolutely love
    to write some articles for your blog in exchange for a link back to mine.

    Please send me an e-mail if interested. Thank
    you!

    Feel free to visit my blog http://www.aniene.net

  22. Oh my goodness! Amazing article dude! Thanks, However I am encountering issues with your RSS.
    I don’t understand the reason why I cannot join it.
    Is there anyone else getting similar RSS issues? Anyone that knows the solution will you kindly respond?
    Thanx!!

    Take a look at my page … male skin care

  23. First of all I want to say superb blog! I had a quick question which I’d like to ask if
    you don’t mind. I was curious to know how you center yourself and
    clear your mind before writing. I’ve had difficulty clearing my mind in getting my ideas out there.
    I do take pleasure in writing however it just seems like the first 10 to 15 minutes tend to be lost simply just trying to
    figure out how to begin. Any ideas or tips? Kudos!

    my web page; glowing skin

  24. We’re a group of volunteers and opening a new scheme in our community.
    Your website offered us with valuable info to work on.
    You have done a formidable job and our whole community will be thankful to you.

    Have a look at my webpage: fat burning

  25. Unquestionably imagine that that you stated. Your favorite justification appeared
    to be at the web the easiest thing to take note of.
    I say to you, I definitely get irked at the same time as folks think about concerns that they just do not recognise
    about. You managed to hit the nail upon the highest and also defined out the
    entire thing with no need side effect , people could take a signal.
    Will likely be again to get more. Thank you

    my site – Maryanne

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here