फ्रॉम दि रेल्म ऑफ़ दि नेसेसिटी टु दि रेल्म ऑफ़ फ़्रीडम नामक पुस्तक का विमोचन आज पाँच बजे

0
193

22 अगस्त 2022, नई दिल्ली।

केरल में महिलाओं द्वारा कुडम्बश्री मिशन के अंतर्गत की जा रही सामूहिक खेती के प्रयोग पर पाँच ज़िलों में पिछले लगभग 7-8 वर्षों से किए जा रहे अध्ययन पर का सार प्रस्तुत करती किताब फ्रॉम दि रेल्म ऑफ़ दि नेसेसिटी टु दि रेल्म ऑफ़ फ़्रीडम (ज़रूरत के दायरे से मुक्ति के आकाश तक)। इस किताब के लेखक हैं वरिष्ठ अर्थशास्त्री डॉ. जया मेहता एवं लेखक, कवि, सामाजिक कार्यकर्ता विनीत तिवारी।

इस किताब का विमोचन 22 अगस्त 2022 शाम 5 बजे कॉन्स्टिट्यूशन क्लब, रफ़ी मार्ग, नयी दिल्ली में होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे कॉमरेड डी. राजा (महासचिव, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया एवं पूर्व सांसद, राज्यसभा)। कार्यक्रम में पुस्तक पर बोलने वाले विद्वानों में प्रोफ़ेसर अजय पटनायक (जोशी-अधिकारी इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल स्टडीज़ के निदेशक एवं पूर्व प्रोफ़ेसर, जेएनयू), अरुणा रॉय (अध्यक्ष, भारतीय महिला फेडरेशन एवं संस्थापक, मज़दूर किसान शक्ति संगठन), जोगिन्दर सिंह उग्राहां (संस्थापक एवं अध्यक्ष, भारतीय किसान यूनियन – एकता उग्राहां), संदीप चाचरा (कार्यकारी निदेशक, एक्शनएड एसोसिएशन) एवं टी. के. जोस (सेवानिवृत्त आईएएस, पूर्व कार्यकारी निदेशक, कुडुंबश्री) शामिल रहेंगे। इस अवसर पर किताब के लेखकद्वय जया मेहता और विनीत तिवारी भी उपस्थित रहेंगे।

यह किताब महिलाओं द्वारा केरल में की जा रही सामूहिक खेती पर आधारित है जो सिर्फ़ खेती या महिलाओं के उद्यम तक ही सीमित नहीं रहती बल्कि अपने विस्तार में यह समाजवाद की सामूहिकता को पूँजीवाद के निजी या व्यक्तिगत के भाव के अनिवार्य विकल्प के तौर पर प्रस्तुत करती है और वैश्विक व स्थानीय ऐतिहासिक उदाहरणों से अपने तर्क को ठोस ज़मीन पर खड़ा करती है।
उल्लेखनीय है कि कुडम्बश्री मिशन के तहत की जा रही सामूहिक खेती के प्रयोग द्वारा महिलाओं ने केरल में लगभग डेढ़ लाख एकड़ पड़ती और बंजर जमीन को उपजाऊ बना दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here