किसान मोर्चा को सशक्त व व्यापक बनाने पर सभी ने दिया बल

0
119

संयुक्त किसान मोर्चा__SKM
प्रेस नोट

करनाल;
संयुक्त किसान मोर्चा की एक बैठक 8 दिसंबर 2022 को हरियाणा में करनाल के गुरुद्वारा डेरा कार सेवा में संपन्न हुई।

किसान नेता सत्यवान, किशोर धमाले, सुरेश कौथ ने संयुक्त रूप से इसकी अध्यक्षता की।

बैठक में अधिकतम एकता और जोरदार संघर्ष के संकल्प के साथ संयुक्त किसान मोर्चा को सशक्त व व्यापक बनाने पर सभी ने बल दिया।

बैठक में देशभर से आये किसान नेताओं तथा संयुक्त किसान मोर्चा (भारत) किसान जागृति अभियान के महासचिव राजकुमार भारत, अध्यक्ष महिला विंग शीलम झा भारती ने प्रमुखता से अपने विचार रखे।

पिछले आन्दोलनों की समीक्षा में देश भर से आये सभी नेताओं ने बताया कि 26 नवंबर को संपन्न हुआ “राज निवास चलो” कार्यक्रम मोहाली, पंचकूला, लखनऊ, पटना, कोलकाता, भोपाल, जयपुर और देश की राजधानी दिल्ली समेत देशभर में सफल रहा।
कुछ राज्य सरकारों द्वारा प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार करने की कड़ी निंदा की गई।

सरकार के किसान विरोधी रवैए पर सभी नेताओं ने भारी रोष प्रकट किया। घर वापसी से पहले एमएसपी गारंटी कानून बनाने समेत किये गये वादे उसने नहीं निभाये।

उल्टे, बिजली क्षेत्र को प्राइवेट कम्पनियों के हाथों में सुपर्द करने के बुरे इरादे से उसने बिजली बिल 2022 को लोकसभा में पेश कर दिया है और किसानों पर तरह तरह के हमले किये जा रहे हैं।

सभी नेताओं ने महसूस किया कि 26 जनवरी, 2021 को सरकार ने जिस तरह से किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश रची थी और किसानों को जाति, धर्म, इलाका, भाषा के नाम पर बांटने की जो साजिश रची थी, वह अभी भी जारी है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने इसे हर कीमत पर विफल करने का संकल्प दोहराया।

साथ ही, कहा कि आगामी 26 जनवरी को देश भर में बड़े स्तर पर जन-गण एकता कार्यक्रम लेने के अलावा आगामी बजट सत्र पर बकाया मांगों को संसद पर जोरदार ढंग से बुलंद किया जाएगा।

व्यापक विचार विमर्श के माध्यम से इनकी घोषणा 24 दिसंबर को करनाल में पुनः होने जा रही अगली बैठक में की जाएगी।

एसकेएम ने भारतीय कृषि में जीएम बीजों को शामिल करने का कड़ा विरोध किया।

अगर इसे वापस नहीं लिया गया, तो पूरी कृषि देश-विदेश के कृषि दिग्गजों और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के हाथों में चली जाएगी।

लखीमपुर खीरी में किसानों पर जुल्म ढ़हाने के दोषियों पर अदालत द्वारा आरोप तय किये जाने पर कहा कि इससे हत्यारों को दण्डित करने की आस बंधी है।

साथ ही कहा कि झूठे केसों में फंसाए गये किसानों को तुरंत प्रभाव से मुक्त किया जाये।
भूमि अधिग्रहण व अन्य मुद्दों पर देशभर में चल रहे किसान संघर्षों को समर्थन घोषित किया।

गन्ना किसानों को लाभकारी दाम और बकाया रकम तुरंत प्रभाव से अदा करने की मांग की गई।

किसानों की लड़ाई जारी रहेगी।

‘लड़ेंगे – जीतेंगे’ के संकल्प के साथ बैठक सम्पन्न हुई।

जारी कर्ता:
संयुक्त किसान मोर्चा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here