हाथरस की गैगरेप पीड़िता की मौत के खिलाफ ऐपवा का आक्रोश मार्च

79
622


योगी सरकार के इस्तीफे की मांग
महिलाओं ने कहा यूपी में कानून व्यवस्था और महिला हिंसा को रोकने में मुख्यमंत्री योगी फेल होंचुके है उन्हें मुख्यमंत्री पद पर रहने का कोई हक नहीं।
बलात्कारियों को कड़ी से कड़ी सजा की गांरन्टी सुनिश्चित हो!

हाथरस की दलित लड़की के साथ गैगरेप औऱ अस्पताल में विभस्त ढंग से मौत की घटना पर अपना आक्रोश जाहिर करते हुए महिला सँगठम ऐपवा ने bhu गेट लंका से एक मार्च निकाला और सभा की । सभा को सम्बोधित करते हुए ऐपवा की प्रदेश सचिव कुसुम वर्मा ने कहा यूपी में दलित उत्पीड़न, महिलाओं के साथ बलात्कार करके हत्या की विभत्स घटनाएं बढ़ती जा रही है और योगी सरकार कानून को ताक पर ऱखकर सिर्फ अपराधियों और बलात्कारियों का संरक्ष्ण कर रही हैं। आज हाथरस की घटना से हम सभी आक्रोश प्रकट कर रहे हैं और योगी सरकार के इस्तीफे की मांग करते हैं। कुसुम वर्मा ने कहा किआगामी 10 अक्टूबर को पूरे प्रदेश में ऐपवा योगी सरकार के इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शन करेगी।
ऐपवा जिला सचिव स्मिता बागड़े ने कहा कि मनुवादी, ब्राह्मणवादी इस सरकार में गरीब, दलित आदिवासी महिकाओं पर सत्ता संरक्षण में दमन बढ़ता जा रहा है लेकिन प्रदेश कीमहलाएँ अब चुप नहीं बैठेंगी वह इस सरकार के खिलाफ सड़को पर उतरकर अपनी सुरक्षा और सम्मान के लिए लडेंगी। उंन्होने कहा कि हाथरस की पीड़िता की मौत पर मुआवजा से काम नहीं चलेगा हमारी मांग है कि पीड़िता के परिवार को तभी न्याय मिलेगा जब हत्यारे बलात्कारियों को कड़ी सी कड़ी सजा की गांरन्टी की भी त्वरित न्याय की प्रक्रिया के साथ।
सहसचिव सुजाता भटाचार्य ने कहा कि बेटी बचाओ का नारा देने वाली भाजपा सरकार में महिलाएं सुरक्षित नहीं है । दुख की । इस घड़ी में हाथरस पीड़िता केंपरिवार के साथ ऐपवा पूरी संवेदना और एकजुटता प्रदर्शित करती है। जब तक पीड़िता के अपराधियों को कड़ी सजा नही मिलती तब तक हमारा आक्रोश जारी रहेगा।
कार्यक्रम में विभा वाही, सुतपा गुप्ता, आशु मीणा, शिल्पा, अर्चना, वर्षा, का. वी के सिंह, आरवाईए से कमलेश यादव, बीसीएम से अनुपम, नीतिश, aisa से प्रियांक एवम dlw से राजेन्द्र पाल एवम अन्य साथी शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here