केशव शरण की ताज़ा कविताएं

1
280

यात्रा पर मज़दूर
_____

सैलानी
घर में हैं
तीर्थयात्री
घर में हैं
सैनिक शिविर में

यात्रा पर
मज़दूर हैं
घर की यात्रा पर
दुनिया की
सबसे कठिन यात्रा पर
बदतर हाल में
कोरोना काल में

साहसिक सैलानी भी
मान रहे हैं
सैनिक भी

तीर्थयात्री
दिन-रात प्रार्थना कर रहे हैं
उनके लिए
_________

ज़िंदगी और मौत
______

एक ज़िंदगी है
रोटियां खिलाती है
एक मौत है
आदमी को ही खा जाती है
बोटियां-बोटियां,
बिखरी पड़ी हैं
रेलवे लाइन पर रोटियां

ज़िंदगी ये रोटियां
किसी और को खिला देगी
किसी गाय-कुत्ते
चिड़ियों या चींटियों को
लेकिन उसे अब कई रात नींद नहीं आयेगी
कई दिनों तक वह भीगी रहेगी आंसुओं में

ज़िंदगी जिन्हें
खिलाते-खिलाते
नहीं थक रही है
मौत उन्हें खाते-खाते
आते-जाते
उठते-बैठते
सोते-जागते

ज़िंदगी के पक्ष में
संस्कृति का रवैया लचर है
बहुत कुछ
इसका भी असर है
__________

बारह घंटे
___

आठ घंटे ही हाड़-मांस गला देने वाले थे
अब बारह घंटे जोते जायेंगे
जब पोषण आधा रह गया है
सेहत आधी

कृषि चौपट
किसकी करनी से
किसे भरनी

आठ घंटे
चाहे जितना काम था
आठ घंटे बाद
आराम था
जीवन का आराम
अब उसमें कपट !

अब पूरे बारह घंटे रहट !!
_________

केशव शरण
23-08-1960
प्रकाशित कृतियां-
तालाब के पानी में लड़की (कविता संग्रह)
जिधर खुला व्योम होता है (कविता संग्रह)
दर्द के खेत में (ग़ज़ल संग्रह)
कड़ी धूप में (हाइकु संग्रह)
एक उत्तर-आधुनिक ऋचा (कवितासंग्रह)
दूरी मिट गयी (कविता संग्रह)
क़दम-क़दम ( चुनी हुई कविताएं )
न संगीत न फूल ( कविता संग्रह)
गगन नीला धरा धानी नहीं है ( ग़ज़ल संग्रह )
कहां अच्छे हमारे दिन ( ग़ज़ल संग्रह )
संपर्क-एस2/564 सिकरौल
वाराणसी 221002
मो. 9415295137

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here