Lic में एक दिवसीय हड़ताल

0
1068
अयोध्या : फेडरेशन ऑफ एलआईसी क्लास वन ऑफिसर्स एसोसिएशन, नेशनल फेडरेशन ऑफ इंश्योरेंस फील्ड वर्कर्स ऑफ इंडिया, ऑल इंडिया इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन, ऑल इंडिया एलआईसी एम्पलाइज फेडरेशन के संयुक्त आह्वान पर भारतीय जीवन बीमा निगम में आज 18 मार्च 2021 को एक दिवसीय हड़ताल का आयोजन किया गया। हड़ताल का नेतृत्व एवं संचालन बीमा कर्मचारी संघ फैजाबाद डिविजन के अध्यक्ष कामरेड आरडी आनंद ने किया।
फेडरेशन ऑफ एलआईसी क्लास वन ऑफिसर्स एसोसिएशन, नेशनल फेडरेशन ऑफ इंश्योरेंस फील्ड वर्कर्स ऑफ इंडिया, ऑल इंडिया इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन, ऑल इंडिया एलआईसी एम्पलाइज फेडरेशन के संयुक्त आह्वान पर भारतीय जीवन बीमा निगम में आज 18 मार्च 2021 को एक दिवसीय हड़ताल का आयोजन किया गया। हड़ताल का नेतृत्व एवं संचालन बीमा कर्मचारी संघ फैजाबाद डिविजन के अध्यक्ष कामरेड आरडी आनंद ने किया।
सभा को सर्वप्रथम क्लास वन एसोसिएशन के साथी अनुज शर्मा और अध्यक्ष साथी आईडी सिंह ने किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि हमारा वेज रिवीजन एक लंबे अरसे से लंबित है। पिछले वेज रिवीजन 3 साल के अंदर पास कर दिए गए थे लेकिन इस बार सरकार की दृढ़ता कुछ इस तरह है कि सरकार ने 3 वर्ष 6 माह के उपरांत भी अभी हमारा वेज रिवीजन पास नहीं किया है। यदि इस हड़ताल के बाद मैनेजमेंट और सरकार अधिकारी कर्मचारी नेताओं से बात करके वेतन समझौता नहीं करते हैं तो हम लोग अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा सकते हैं। इस एक दिवसीय हड़ताल से हम यह संकेत देना चाहते हैं कि हम अपनी मांग को लेकर लगातार संघर्ष करने के लिए तैयार हो हैं। हमारे साथ क्लास वन, क्लास 3 और क्लास 4 के साथी भी आज इस एकदिवसीय हड़ताल में शामिल हैं।
नेशनल फेडरेशन के साथी विशाल सिंह ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि यदि सरकार हमारी मांगों को यथाशीघ्र मानने को तैयार नहीं होती है तो हम अपनी फील्ड फोर्स के साथ मैनेजमेंट और सरकार के विरुद्ध संघर्ष करने के लिए तैयार हो जाएंगे। हमारी मांगों में सबसे पहले 42 महीनों से पेंडिंग हमारा वेज रिवीजन है। वेज रिवीजन का समझौता किए जाने के बाद हम सरकार से यह भी अपील करते हैं आईपीओ और एफडीआई को निरस्त करें। पब्लिक विरोधी और कर्मचारी विरोधी नीतियों को रद्द करे।
बीमा कर्मचारी के अध्यक्ष कामरेड आरडी आनंद ने बताया के एलआईसी में आईपीओ लकर सरकार ने एलआईसी की स्वायत्तता और पब्लिक के साथ धोखा किया है। एलआईसी कर्मचारी इस बात को बखूबी समझता है कि यदि मैनेजमेंट एलआईसी का शेयर खुले मार्केट में बेचेगा तथा एलआईसी में 49% के अतिरिक्त 74% एफडीआई पास कर दी जाएगी तो एलआईसी की स्वायत्तता खत्म हो जाएगी और एलआईसी निजी हाथों में कठपुतली होकर रह जाएगी। अधिकारी कर्मचारी एकता का अभिप्राय यह है कि एलआईसी की स्वच्छता बनाए रखने के लिए हम आईपीओ और एफडीआई का विरोध करें। हमारा चार्टर अगस्त 2017 से पेंडिंग है। 42 माह का समय बीत चुका है लेकिन मैनेजमेंट और सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही है। इसे अति शीघ्र किया जाना है, नहीं तो सभी अधिकारी और कर्मचारी अत्यधिक मजबूर होकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा सकते हैं। यदि एलआईसी अधिकारी और कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाते हैं या धरने प्रदर्शन करते हैं तो उससे उत्पन्न होने वाली हानियां एलआईसी को छति पहुंचाएगी, जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी मैनेजमेंट और सरकार की होगी।
सभा को साथी आई डी सिंह, अनुज शर्मा, जेपी सिंह, मनोज श्रीवास्तव, रजनीश जैन, रोहित कुमार, विशाल सिंह, प्रशांत पांडेय, आर डी आनंद, सीएम पांडेय, के के पांडेय, देवांशु गौड़, सुनीता सिंह, संगीता गौड़, मालती यादव, गरिमा वार्ष्णेय, अभिषेक सिंह, बिंदेश्वरी यादव, कमलाकांत वर्मा, बलदेव यादव, राजकुमार पटेल, राकेश कुमार पांडेय, संजीव सिंह, शकुंतला पांडे, केके द्विवेदी, गणेश कुमार, आल्हा प्रसाद, यूसी तिवारी, अनिल मौर्या, अंकुश यादव, 0आशुतोष श्रीवास्तव, कामता प्रसाद तिवारी, अजीत मथारिया, पवन कुमार मिश्रा, अक्षत श्रीवास्तव, संजय कुमार, आगंतुकों में साथी सत्यवान सिंह जनवादी और कामरेड अशोक कुमार तिवारी आदि ने संबोधित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here