69000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार, अपारदर्शिता व आरक्षण लागू न करने के खिलाफ भूख हड़ताल शुरू

0
603
*नियुक्ति में सामाजिक न्याय का उल्लंघन नहीं सहेंगे -न्याय मोर्चा* 
16अक्टूबर, प्रयागराज: 69000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार व आरक्षण के नियमों की अनदेखी के खिलाफ न्याय मोर्चा ने  69 घंटे की भूख हड़ताल शिक्षा निदेशालय पर शुरू  की .
   69000 शिक्षक भर्ती एक साथ पूरी करने, भर्ती में आरक्षण का समुचित पालन करने, फार्म में हुई मानवीय त्रुटि सुधार का मौका देने, भ्रष्टाचार  में लिप्त सभी दोषियों को दंडित करने व भर्ती में भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच कराने की मांग पर भूख हड़ताल का नेतृत्व कर रहे अमर बहादुर गौतम ने कहा कि एक बजे से माननीय मुख्यमंत्री ने नियुक्ति पत्र देकर नौजवानों को रोज़गार देने की बात कह रहें हैं उसी समय शिक्षा निदेशालय पर पूरी प्रक्रिया को ही अपारदर्शी व अन्याय पूर्ण मानते हुए हमलोगों ने भूख हड़ताल शुरू किया है जो 69घंटे तक़ चलेगा.
    69000 शिक्षक भर्ती में सरकार 31277 नियुक्ति पत्र दे दी लेकिन पूरी चयन प्रक्रिया ही अवैध दिखाई दे रही है क्योंकि विज्ञापन 69000 शिक्षक भर्ती का है इसको 2 पार्ट में किया जाना विज्ञापन के खिलाफ है. इस पूरी भर्ती को एक साथ पूरा ना करने से  संविधान प्रदत्त आरक्षण का उल्लंघन हो रहा है. जैसे  *69000 शिक्षक भर्ती एक साथ पूरा करने पर 34,500 अनरिजर्व्ड (ओपन सीट ) होती और 34500 रिजर्व सीट होती. अनरिजर्व्ड सीट में मेरिटोरियस कैंडिडेट होते, जिसमें लगभग शिक्षामित्र भारांक के बाद उसमें सेलेक्ट (चयनित ) हो जाते, बाकी सीटें रिजर्व सीट होती. इस लिहाज से 31277सीट की जो नियुक्ति हो रही है वह सभी सीटें रिजर्व सीट होनी चाहिए. इस तरह से देखें तो यह सरकार बहुत बड़ा अन्याय कर रही है. जिससे गरीब दलित पिछड़े छात्रों के साथ अहित हो रहा है.
न्याय मोर्चा के सह संयोजक सुमित गौतम ने कहा की सरकार मनमाने फैसले ले रही है और छात्रों को आपस में लड़ाने का काम कर रही है. उन्होंने कहा कि कोर्ट के निर्णयों को गलत तरीके से लागू कर सरकार नौजवानों को गुमराह कर रही है जिसका खमियाजा सरकार को भुगतना पड़ेगा. आज भूख हड़ताल में न्याय मोर्चा ने भूख हड़ताल में अधिक से अधिक अभ्यर्थियों को शामिल होने की अपील की.
द्वारा. 
न्याय मोर्चा, उ. प्र.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here