एक नजर में दरबार ए मुग़लिया की दीवाली

85
195

दीवाली मुबारक
तमसो मा ज्योतिर्गमय
दरबार ए मुग़लिया की दीवाली
दीवाली का आधुनिक कलेवर मुग़ल काल में ही निर्मित हुआ

दीवाली का जश्न पौराणिक के साथ-साथ भारतीय संस्कृति का प्रतीक है. शास्त्रों में इसे मान्यता भी प्राप्त है और इस त्योहार का मूल तत्व बुराई पर अच्छाई की विजय है. दीवाली प्रेम,भाई-चारा और उल्लास का संदेश पूरी दुनियां को दे रही है और एक ऐसे समाज की कल्पना को साकार करने का प्रयास कर रही है जहां मनुष्य से मनुष्य के बीच नफरत नहीं बल्कि मोहब्बत हो.पर इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि दीवाली को भव्यता और आधुनिक स्वरूप प्रदान करनेमें मुग़लों का योगदान उल्लेखनीय रहा है.मुग़ल दरबार में जिस साझी विरासत का जन्म हुआ दीवाली ने उसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.
वैसे तो सभी भारतीय त्योहारों ने हिंदुस्तान में प्रवेश के समय से ही तुर्कों में गहरी दिलचस्पी पैदा किया परन्तु कृष्णजन्माष्टमी,दशहरा,बसन्त,होली और दीवाली ने उन्हें खासकर आकर्षित किया और ये पर्व दरबार का हिस्सा बन गए. इसे ही अमीर खुसरो ने हिंदुस्तानी तहज़ीब कहा जो हिंदुस्तान को सारी दुनियां से श्रेष्ठ बनाता है.तुर्क और मुग़ल इस तहज़ीब में ऐसे रंगे की उनकी अलग पहचान कर पाना मुश्किल हो गया.इसी मेल-जोल की परम्परा ने हमें पूरी दुनियां पर मकबूलियत प्रदान की.

भारत मे मुस्लिम सुल्तानों के भारतीय त्योहार मनाने के दृष्टांत प्रारम्भ से ही मिलते हैं.14वीं शताब्दी में मुहम्मद बिन तुग़लक़ दीवाली का त्योहार अपने महल में मनाता था.उसदिन महल को खूबसूरती से सजाया जाता था और सुल्तान अपने दरबारियों को नए-नए वस्त्र प्रदान करता था तथा एक शानदार दावत का भी आयोजन किया जाता था. मुग़ल बादशाह बाबर के समय पूरा महल को दुलहिन की तरह सजा कर पंक्तियों में लाखों दीये जलाए जाते थे और इस अवसर पर शहंशाह गरीबों को नए कपड़े और मिठाइयां बाँटता था.सम्राट हुमांयू ने अपने पिता की विरासत के साथ-साथ महल में लक्ष्मी पूजा की भी शुरूआत किया.पूजा के दौरान एक विशाल मैदान में आतिशबाजी का आयोजन किया जाता था. गरीबों को सोने के सिक्के बांटे जाते थे और तदुपरांत 101 तोपों की सलामी दी जाती थी.
मुगल शहंशाह अकबर के समय में ‘जश्न-ए-चिरागा’ होता था। इतिहास में अकबर और जहांगीर के समय ‘जश्न-ए-चिरागा’ मनाए जाने का उल्लेख मिलता है। आगरा किला दीयों की रोशनी में दमक उठता था।

अकबर के दरबारी अबुल फजल ने ‘आइन-ए-अकबरी’ में लिखा है कि अकबर दीवाली पर अपने राज्य में मुंडेर पर दीपक जलवाता था. महल में पूजा दरबार होता था। ब्राह्मण दो गायों को सजाकर शाही दरबार में आते और शहंशाह को आशीर्वाद देते तो सम्राट उन्हें मूल्यवान उपहार प्रदान करता था.दीवाली के लिए महलों की सफाई और रंग रोगन महीनों पहले से शुरू हो जाता था.अपने कश्मीर प्रवास के दौरान अकबर ने वहां नौकाओं, घरों,झीलों और नदीतट पर दीये जलाने का फरमान जारी किया.अपने शहजादों और शहजादियों को जुए खेलने की भी इजाजत प्रदान किया.अकबर ने गोवर्धन पूजा तथा बड़ी दीवाली के साथ छोटी दीवाली मनाने की भी शुरुआत की.
अकबर ने ही आकाश दीये की भी शुरुआत की जो दीवाली की पूरी रात जलता था.इसमें 100 किलो से ज्यादा रुई और सरसों का तेल लगता था.दीये में रुई की बत्ती और तेल डालने के लिए सीढ़ी का इस्तेमाल किया जाता था. दरबार में फ़ारसी में अनुदित रामायण का पाठ भी होता था.पाठ के उपरांत दरबार में राम के अयोध्या वापसी का नाट्य मंचन होता था फिर आतिशबाजी का दौर शुरू होता था.इस अवसर पर गरीबों को कपड़े,धन और मिठाइयां वितरित की जाती थी.
मुगल शहंशाह जहांगीर ने अपनी आत्मकथा ‘तुजुक-ए-जहांगीरी’ में वर्ष 1613 से 1626 तक अजमेर में दीपावली मनाए जाने का जिक्र किया है. जहांगीर दीपक के साथ-साथ मशाल भी जलवाता था और अपने सरदारों को नज़राना देता था.आसमान में 71 तोपें दागी जाती थीं तथा बारूद के पटाखे छोड़े जाते थे.फकीरों को नए कपड़े व मिठाइयां बांटी जातीं. तोप दागने के बाद आतिशबाजी होती थी. मुगलकालीन पेंटिंग्स में भी दीवाली का जश्न बहुतायत से मिलता है.
शाहजहाँ के समय भी यह त्योहार परंपरागत तरीके से मनाया जाता रहा.दीवाली के दिन शहंशाह को सोने-चांदी से तौला जाता था और इसे गरीब जनता में बांट दिया जाता था.मुग़ल बेगमें और शहजादियाँ आतिशबाजी देखने के लिए कुतुबमीनार जाती थीं. शाहजहाँ राज्य के 56 जगहों से अलग-अलग तरह की मंगा कर 56 तरह का थाल सजवाता था.40 फिट ऊंची भव्य आतिशबाजी का मनोहारी दृश्य देखने के लिए दूरस्थ इलाकों से लोग आते थे.शाहजहाँ शहजादियों के लिए अलग तथा आम जनता के लिए अलग-अलग भव्य आतिशबाजी का आयोजन करता था.इसके अतिरिक्त सूरजक्रान्त नामक पत्थर पर सूर्य किरण लगाकर उसे पुनः रोशन किया जाता था जो साल भर जलता रहता था.
औरंगजेब के समय दीवाली ही नहीं बल्कि मुस्लिम त्योहारों में भी कुछ फीकापन आ गया.
मुहम्मद शाह दीवाली के मौके पर अपनी तस्वीर बनवाता था. उसने अकबर तथा शाहजहाँ से भी अधिक भव्यता इस त्योहार को प्रदान की.सजावट और आतिशबाजी के अलावा शाही रसोई में नाना प्रकार के पकवान बनाये जाते थे जिसे जन-साधारण में बांटा जाता था.
बहादुर शाह जफर भी दीवाली के दिन लक्ष्मी पूजा के बाद दरबार में आतिशबाजी और मुशायरा का आयोजन करता था।गले मिलने की परंपरा सम्भवतः मुहम्मद शाह के दौर में शुरू हुई जो इस त्योहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गयी.आज दीवाली मनाने का जो स्वरूप है उसका कलेवर मुग़ल काल में ही निर्मित हुआ.
आज इस विरासत पर कुछ लोग सवाल उठाते हैं.ये कौन है जो इन मूल्यों को नकार रहे है.हमें इनसे सावधान रहने की जरूरत है.यही मूल्य हमें दुनियां में अलग पहचान देते है और इन्ही पर विश्वास करके हमनें मिल-जुल कर आजादी की लड़ाई लड़ी.इन्हें ही संविधान में जगह दी गई और उसकी प्रस्तावना में यही मूल्य स्वतंत्रता, समता,बंधुता और न्याय बनकर उभरे.आज हमें इनकी हिफाजत करने और इनके पक्ष में खड़ा होने के लिए तैयार रहना होगा अन्यथा इतिहास हमें माफ नहीं करेगा.

डॉ. मोहम्मद आरिफ
इतिहासकार और सामाजिक चिंतक

85 COMMENTS

  1. Yesterday, while I was at work, my sister stole my iphone and tested to see if it can survive
    a twenty five foot drop, just so she can be a youtube sensation.
    My apple ipad is now broken and she has 83 views.
    I know this is totally off topic but I had to share it with someone!

  2. Hi there just wanted to give you a quick heads up. The text in your content seem to
    be running off the screen in Firefox. I’m not sure if this is a formatting issue or something to do with browser compatibility but
    I figured I’d post to let you know. The style and design look great though!
    Hope you get the problem solved soon. Kudos

  3. Heya i am for the primary time here. I found this board and I find It truly useful &
    it helped me out a lot. I hope to offer one thing again and
    help others such as you helped me.

  4. Unquestionably believe that which you said. Your favorite justification seemed to be at the web the easiest thing to bear
    in mind of. I say to you, I certainly get annoyed while folks consider worries that they just do not realize about.
    You controlled to hit the nail upon the top and defined out
    the whole thing with no need side-effects , people can take a signal.

    Will probably be back to get more. Thanks

  5. With havin so much written content do you ever run into any issues of plagorism or copyright infringement?

    My website has a lot of unique content I’ve either authored myself or outsourced but
    it appears a lot of it is popping it up all over the
    internet without my authorization. Do you know any solutions to help
    stop content from being ripped off? I’d certainly appreciate it.

  6. You are so interesting! I don’t think I’ve truly read a single thing like that before.

    So great to discover somebody with genuine thoughts on this
    subject matter. Seriously.. many thanks for starting this
    up. This website is one thing that is needed on the web, someone with
    a bit of originality!

  7. 864855 248990Does your blog have a contact page? Im having a tough time locating it but, Id like to send you an e-mail. Ive got some suggestions for your blog you might be interested in hearing. Either way, great site and I look forward to seeing it expand more than time. 323165

  8. Just desire to say your article is as surprising.
    The clarity in your put up is just cool and that i could think
    you are knowledgeable on this subject. Fine together with your
    permission allow me to grab your RSS feed to stay up
    to date with approaching post. Thanks a million and please carry on the enjoyable work.

  9. Hey! I know this is sort of off-topic but I had to ask.
    Does managing a well-established website like yours require a lot of work?
    I’m brand new to blogging however I do write in my journal daily.
    I’d like to start a blog so I can easily share my personal
    experience and thoughts online. Please let me know if you have any ideas or tips
    for brand new aspiring blog owners. Appreciate it!

  10. Its like you read my mind! You appear to know a lot about this, like you wrote
    the book in it or something. I think that you can do with some pics to drive the message
    home a bit, but other than that, this is great blog.
    An excellent read. I will definitely be back.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here