व्यंग्य

लोकतंत्र की चुनावी दीवाली

लोकतंत्र में मतदाता ही चुनाव में दीपावली मनाते हैं। मतदाता ही लोकतंत्र के दीये जलाते हैं और मतदाता ही लोकतंत्र के दीये बझाते भी...

रावण आखिर क्यों नहीं मरता

नवेन्दु उन्मेष रामलीला का आज अंतिम दिन था। दर्शक राम-रावण युद्ध देखने के लिए जुटे हुए थे। वैसे भी मारधाड़ वाली फिल्में देखने में लोगों को...

वोट दो, वैक्सीन लो!

महेश राजपूत के ब्लॉग बैठे-ठाले से साभार October 22, 2020 -तो कोरोना वैक्सीन बिहार के सभी लोगों को मुफ्त में लगाएंगे? -पार्टी का बिहार चुनाव के लिए...

व्यंग्य: बिहार के चुनाव में मछली मारक दल

नवेन्दु उन्मेष बिहार के चुनाव में मछली मारक दल के गठबंधन की महत्वपूर्ण भूमिका होने वाली है। अगर इस दल का गठबंधन चुनाव में ज्यादा से...

Latest news

हमेशा आम जनता ही भुगतती है युद्ध का खामियाजा

युद्ध का खामियाजा हमेशा आम आदमी ही भुगतता है इंदौर। इतिहास गवाह है कि युद्ध, अंतर्राष्ट्रीय राजनीति, देशों के आर्थिक...

बड़े जोतदार जनता के मित्र नहीं हैं तो भूमि-प्रश्न अनसुलझा कैसे रह सकता है?

संपादकीय टिप्पणीः घुटे हुए और घाघ कॉमरेड्स मुझे करेक्ट करेंगे इस उम्मीद के साथ सकारात्मक ढंग से अपनी बातों को...

श्रमिकों बाजार का माल तुम्हारा है, दैत्याकार कारखाने तुम्हारे हैं

#काले धन की नयी खेप! धन कभी सफेद नहीं होता है धन श्रम शक्ति के लाल रक्त और रंगहीन पसीने से पैदा...

Must read

हमेशा आम जनता ही भुगतती है युद्ध का खामियाजा

युद्ध का खामियाजा हमेशा आम आदमी ही भुगतता है इंदौर।...

बड़े जोतदार जनता के मित्र नहीं हैं तो भूमि-प्रश्न अनसुलझा कैसे रह सकता है?

संपादकीय टिप्पणीः घुटे हुए और घाघ कॉमरेड्स मुझे करेक्ट करेंगे...