देश-प्रदेश

पॉलिसी लैप्स है मोरबी पुल हादसा

मोरबी पुल हादसा एक पालिसी लेप्स है। इसके कई पहलू ऐसे हैं, जिन्हें छूने की मीडिया ने हिम्मत ही नहीं की। देश की प्राचीन और...

साइकिल चलाने के अनभवों को ताजा कर रहे हैं समाजसेवी राजकुमार गुप्ता

वर्षो बाद साईकिल चलाकर बचपन याद आ गया .. हर इंसान की खुशी का पैमाने अलग हैं।, कोई #फॉर्च्यूनर खरीद कर इतना खुश नहीं...

पूंजीवाद में अराजकता को खत्म ही नहीं किया जा सकता

पूंजीवाद, अराजकता और विकल्प पूंजीवाद में अराजकता को खत्म ही नहीं किया जा सकता है। अराजकता का एक ही विकल्प है, नियोजन। परंतु पूंजीवाद को...

‘सय्यद सिब्ते हसन’ की पुस्तक ‘मूसा से मार्क्स तक’ पर संगोष्ठी आयोजित

22 अक्टूबर को ' दिल्ली में अंजुमन- तरक्की ए - उर्दू ( हिन्द) के सहयोग से ' प्रगतिशील लेखक संघ' दिल्ली ने ' उर्दूघर'...

Latest news

बड़े जोतदार जनता के मित्र नहीं हैं तो भूमि-प्रश्न अनसुलझा कैसे रह सकता है?

संपादकीय टिप्पणीः घुटे हुए और घाघ कॉमरेड्स मुझे करेक्ट करेंगे इस उम्मीद के साथ सकारात्मक ढंग से अपनी बातों को...

श्रमिकों बाजार का माल तुम्हारा है, दैत्याकार कारखाने तुम्हारे हैं

#काले धन की नयी खेप! धन कभी सफेद नहीं होता है धन श्रम शक्ति के लाल रक्त और रंगहीन पसीने से पैदा...

सत्ता के संरक्षण में विद्यार्थी परिषद के गुंडों ने स्टूडेंट्स के सिर फोड़े

भगतसिंह छात्र मोर्चा सत्ताधारी ABVP के गुंडों द्वारा CASR के कार्यकर्ताओं पर किए गए हमले की निंदा करता है...

Must read

बड़े जोतदार जनता के मित्र नहीं हैं तो भूमि-प्रश्न अनसुलझा कैसे रह सकता है?

संपादकीय टिप्पणीः घुटे हुए और घाघ कॉमरेड्स मुझे करेक्ट करेंगे...