आदिवासियों को धार्मिक पहचान और मान्यता उनका मौलिक अधिकार है : सुखदेव मुर्मू

0
335
  • विशद कुमार
बोकारो : आदिवासी सेंगल अभियान के बोकारो जिला मुख्य संयोजक सुखदेव मुर्मू ने बताया कि आज बोकारो जिला के चास प्रखंड के अंतर्गत कनारी पंचायत, बरुवाटांड़ गांव से सरना धर्म सगाड़ रथ को आदिवासी गांवों में जन जागरण के लिए बोकारो जिला मुख्य संयोजक सुखदेव मुर्मू ने  हरी झंडी दिखाकर रथ को किया रवाना। मुख्य संयोजक सुखदेव मुर्मू ने कहा कि भारत में 2021 जनगणना का वर्ष है जिसमें भारत देश के आदिवासियों को अब तक धार्मिक पहचान और मान्यता के साथ शामिल होने का न्याय और अधिकार प्राप्त नहीं है। जबकि संविधान के अनुच्छेद 25 के तहत यह मौलिक अधिकार या फंडामेंटल राइट है। देश के नेताओं पार्टियों और सरकारों ने लगभग 15 करोड़ आदिवासियों के साथ अब तक अन्याय किया है ।अतएव भारत देश को अपने आदिवासी नागरिकों को उनकी प्रकृति पूजा वाली जीवन दर्शन भाषा संस्कृति सोच संस्कार और मान्यताओं की जीवित और ऊर्जावान बनाए रखने के लिए सरना धर्म कोड का दर्जा अविलंब केंद्र सरकार को दे देना चाहिए‌।
सरना धर्म सगाड़ रथ को दूसरा चरण हरी झंडी दिखाकर रथ किया रवाना 
भारत देश को अपने आदिवासी नागरिकों को उनकी प्रकृति पूजा वाली जीवन दर्शन भाषा संस्कृति सोच संस्कार और मान्यताओं की जीवित और ऊर्जावान बनाए रखने के लिए सरना धर्म कोड का दर्जा अविलंब केंद्र सरकार को दे देना चाहिए‌।
-सुखदेव मुर्मू, संयोजक
5 प्रदेशों के आदिवासी अपनी पहचान सरना धर्म कोलम  कोड की मांग हेतु करो मरो की स्थिति में आंदोलन के लिए मजबूर है । आदिवासी सेंगेल अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व सांसद सालखन मुर्मू ने दूसरे चरणबध्द आंदोलन की घोषणा कर दी है केंद्रीय सरकार सरना धर्म कोड 31 दिसंबर 2020 तक मान्यता घोषणा नहीं करती है तो 31 जनवरी 2021 को राष्ट्रव्यापी रेल रोड चक्का जाम ,सरना धर्म कोलम कोड की मांग के समर्थन में 5 प्रदेशों के सभी जिला मुख्यालयों में 21 जनवरी 2021 को धरना प्रदर्शन के माध्यम से राष्ट्रपति को डीएम के द्वारा ज्ञापन पत्र दिया जाएगा ! 20 दिसंबर से 31 दिसंबर 2020 तक 5 प्रदेशों बिहार बंगाल आसाम उड़ीसा झारखंड  में  सरना धर्म सगाड़ रथ जन जागरण के लिए अभियान चलाया जाएगा। इस मौके पर जिला संयोजक भीम मुर्मू, सेंगेल परगना राखो किस्कू,.उपेन्द्र हेम्बरम,पीतांबर सोरेन, बिन्तोष टूडू, नागेश्वर मुर्मू, सावित्री मुर्मू,रूबिका हेम्बरम,काजल हेम्बरम,सोनिया किस्कू, कंचन सोरेन,संजय हेम्बरम,सावन हेम्बरम,.आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here