बोकारो जिले में सीड बॉल की अनूठी पद्धति से पौधरोपण की शुरुआत 

0
1451
* विशद कुमार
2 सितम्बर से झारखण्ड के बोकारो स्टील सिटी के सेक्टर 12 से सटे सतनपुर/बांधगोड़ा पहाड़ी में जनाधिकार मंच और आसस के कार्यकर्ताओं ने सीड बाॅल की अनूठी पद्धति से पौधरोपण कार्यक्रम की शुरूआत की। यह कार्यक्रम जोड़ो इंडिया सोशल फाउंडेशन, पुणे और सहयोगिनी संस्था के सहयोग से संपन्न हुआ। मौके मुख्य रूप से सहयोगिनी संस्था के निदेशक गौतम सागर, वरीय अधिवक्ता रंजीत गिरि, पूर्व वार्ड पार्षद कल्याणी प्रसाद सिंह की उपस्थिति में पहाड़ी के जंगल में सीड बॉल डालकर पौधरोपण किया गया। कार्यक्रम  का नेतृत्व मंच के संयोजक योगो पुर्ती ने किया। मौके पर उपस्थित ग्रामीणों को इस अनूठी पद्धति की जानकारी देते हुए गौतम सागर ने बताया कि यह पद्धति महाराष्ट्र में प्रचलित है। सीड (बीज) को उपचारित गीली मिट्टी में बॉल बनाकर सूखाया गया। इसके बाद बंजर पहाड़ी व मैदानी इलाके में सीड बॉल को छोटे-छोटे गड्ढे खोदकर डाला गया। उन्होंने बताया कि बरसात के पानी में जब बीज बॉल भींग जाएगा, तो उसमें नए पौधे अंकुरित होंगे।
उन्होंने बताया कि संस्था ने इस वर्ष दस हजार सीड बॉल कसमार क्षेत्र में महिला व किशोरी समूहों द्वारा बनवाए गए हैं। बोकारो के अलावा कसमार प्रखंड के हंसलता, गर्री, जरीडीह प्रखंड के बनचास व अन्य क्षेत्र में भी सीड बॉल लगाए गए हैं। एक सप्ताह के अंदर दस हजार सीड बॉल से पौधरोपण करने का लक्ष्य है। इन पौधों का सीड बॉल लगाया गया। इस अभियान में इमली, बबूल, हरतकी, आंवला, कनेल, बेहरा, शीशम, करंज के बीजों से सीड बॉल तैयार कर लगाया गया।
मौके पर  विजय सिंह, रामदयाल सिंह गोकुल, रामलाल सोरेन, रामकुमार मांझी, संजय कुमार, रूपलाल हांसदा समेत जनाधिकार मंच के अन्य लोग मौजूद थे।
मौके पर राजकुमार गोराई, विजय सिंह, रामकुमार मांझी, संजय कुमार, राकेश महतो झरीलाल पात्रो, समेत जनाधिकार मंच के अन्य लोग मौजूद रहे।
आज 3 सितम्बर को भी यह क्रम जारी रहा और एक हजार बीज बाॅल जनाधिकार मंच द्वारा रोटरी क्लब के पूर्व अध्यक्ष एवं समाजसेवी कुमार अमरदीप, सहयोगिनी संस्था के निदेशक गौतम सागर, वरीय अधिवक्ता रंजीत गिरि, पूर्व वार्ड पार्षद कल्याणी प्रसाद सिंह की उपस्थिति में बांधगोड़ा साईट के ठूंठ बचे पहाड़ी पर बीज बाॅल पौधरोपण कार्यक्रम किया गया। जिसमें जनाधिकार मंच कार्यकर्ता एवं स्थानीय ग्रामीणों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। इस दौरान करीब 1000 हजार बीज बाॅल एवं 80 पौधे लगाए गये। समाजसेवी कुमार अमरदीप ने कहा कि इस तरह की नयी पद्धति से ठूंठ बचे जंगलों को हरियाली बनाने में कारगरा साबित होगा। उन्होंने बताया कि जंगलो में झाड़ियों के कारण पौधरोपण करने में जो परेशानी आती है। उसे बचाने के लिए आप इस बीज बाॅल को थ्री करने भी उस जगह लगा सकते है जहां घनी झाड़ियां हैं। ज्ञात हो कि यह कार्यक्रम कार्यक्रम जोड़ो इंडिया सोशल फाउंडेशन, पुणे और सहयोगिनी संस्था के सहयोग से बोकारो के विभिन्न क्षेत्रों में किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here