प्रखंड सम्बन्धन समिति का आयोजन कर जल्द से जल्द कार्य योजना बनाकर रिपोर्ट प्रस्तुत करें- उपायुक्त

17
311

बोकारो : ” पोषण अभियान योजना ” के कार्यान्वयन व उन्मुखीकरण हेतु जिला स्तरीय अधिकारियों, दोनों अनुमंडल पदाधिकारी, सभी अंचल अधिकारियों, सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी  तथा JSLPS के साथ जिला अभिसरण समिति की महत्वपूर्ण बैठक उपायुक्त श्री राजेश सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। पोषण अभियान को हर वर्ष सितम्बर माह में पोषण सप्ताह के रूप में मनाया जाता है। यह सरकार की बहुत ही बड़ी महत्वकांक्षी कार्यक्रम है, जिसके तहत जच्चा व बच्चा दोनो के स्वास्थ्य एवं पोषण पर एक साथ काम किया जाता है।

पोषण अभियान योजना का मुख्य उद्देश्य विभिन्न विभागों से समन्वय स्थापित करके जिला कार्य योजना हेतु चर्चा किया गया तथा जिले में आंगनबाड़ी भवन की स्थिति, पेयजल एवं शौचालय की व्य्वस्था, टीकाकरण, संस्थागत प्रसव, बच्चों का वजन, प्रसव पूर्व जांच एवं एनीमिया पर वर्तमान स्थिति को लेकर उपायुक्त  को अवगत कराया गया। इसपर उपायुक्त श्री राजेश सिंह ने दोनो अनुमंडल पदाधिकारी को निदेश दिया कि प्रखंड स्तर पर प्रखंड सम्बन्धन समिति का आयोजित कर जल्द से जल्द कार्य योजना का कार्य सम्पन्न कर इसका रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होंने आगे कहा कि जिले में संचालित आंगनबाड़ी केंद्रों के सुदृढ़ीकरण व मूल सुविधाएं जैसे – बिजली, पानी एवं शौचालय को उपलब्ध कराना है। इस हेतु इसमे विभिन्न विभागों को जोड़ा गया है।

बैठक के दौरान उप विकास आयुक्त श्री जयकिशोर प्रसाद, निदेशक डीआरडीए श्री सादात अनवर, सिविल सर्जन श्री अशोक कुमार पाठक, अनुमंडल पदाधिकारी चास श्री शशि प्रकाश सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी बेरमो श्री नीतीश कुमार सिंह, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी श्रीमती मनीषा वत्स, सभी अंचल अधिकारी, सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, समन्वयक JSLPS इत्यादि उपस्थित थे।

” पोषण अभियान योजना ” के कार्यान्वयन व उन्मुखीकरण हेतु जिला स्तरीय अधिकारियों, दोनों अनुमंडल पदाधिकारी, सभी अंचल अधिकारियों, सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी  तथा JSLPS के साथ जिला अभिसरण समिति की महत्वपूर्ण बैठक उपायुक्त श्री राजेश सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। पोषण अभियान को हर वर्ष सितम्बर माह में पोषण सप्ताह के रूप में मनाया जाता है। यह सरकार की बहुत ही बड़ी महत्वकांक्षी कार्यक्रम है, जिसके तहत जच्चा व बच्चा दोनो के स्वास्थ्य एवं पोषण पर एक साथ काम किया जाता है।

■ नए प्रस्तावित आंगनबाड़ी केंद्र एवं पुराने आंगनबाड़ी केंद्रों की स्थिति को बताएं-
उपायुक्त ने कहा कि 152 नए आंगनबाड़ी केंद्र का निर्माण प्रस्तावित है जिसको लेकर जमीन जल्द से जल्द चिन्हित किया जाय। यह भी प्रयास किया जाय कि विद्यालय के समीप खाली क्षेत्रों में नए आंगनबाड़ी केंद्र का निर्माण कराने पर जोर दिया जाय। उपायुक्त ने यह भी कहा कि जो भी पुराने आंगनबाड़ी केंद्र है उसकी सूची एवं अद्यतन स्थिति के बारे में बताया जाए।

■ सुदृढ़ होंगे पेयजल की व्यवस्था, कार्यपालक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल, चास एवं तेनुघाट को एस्टीमेट बनाने को कहा-
उपायुक्त ने कार्यपालक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल चास एवं तेनुघाट को निदेश दिया कि पुराने आंगनबाड़ी केंद्रों में पेयजल की सुविधा के लिए आवश्यक कदम उठाते हुए प्राक्कलन तैयार कर शीघ्र उपलब्ध कराएं ताकि किसी भी आंगनबाड़ी केंद्र पर पेयजल आपूर्ति की समस्या नही रहे।

■ पोषण के लिए प्राइवेट नर्सिंग होम द्वारा किये जा रहे कार्यों का डेटा उपलब्ध कराएं अनुमंडल पदाधिकारी-
उपायुक्त श्री राजेश सिंह ने अनुमंडल पदाधिकारी चास एवं बेरमो को निदेश दिया कि अपने अपने क्षेत्रों में संचालित प्राइवेट नर्सिंग होम द्वारा पोषण के लिए किए जा रहे कार्यो का डेटा एकत्रित कर उपलब्ध कराएं। यदि प्राइवेट नर्सिंग होम द्वारा सहयोग नही किया जाता है तो कार्रवाई भी की जा सकती है। वर्तमान में 151 प्राइवेट नर्सिंग होम जिले में संचालित है।

■ इम्यूनाइजेशन का कार्य प्रभावित नही हो, 100% इम्यूनाइजेशन करायें-
उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग को निदेश दिया कि इम्यूनाइजेशन का कार्य शतप्रतिशत किये जाएं। किसी भी परिस्थिति में कोई भी न छूटे इसे सुनिश्चित किया जाय। सिविल सर्जन श्री अशोक कुमार पाठक ने बताया कि जिला में पर्याप्त मात्रा में इम्यून का टीका उपलब्ध है। कोविड 19 के कारण बीच मे परेशानी हुई थी पर अब इसे बेहतर तरीके से रिकवर किया जा रहा है। जिला में पहले 94% इम्यूनाइजेशन किया जा चुका था जिससे कम नही रखने को निदेशित किया गया है।

■ ICDS तथा हेल्थ का कन्वर्जेंस कर स्थिति में और भी गति देने का दिया निदेश-
ICDS एवं हेल्थ का कन्वर्जन कर स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं को और भी गति देने का निदेश दिया गया है। स्वास्थ्य जांच, पोषण, टीकाकरण, प्रसव सुविधा, इम्यूनाइजेशन इत्यादि को सुदृढ़ करने पर उपायुक्त ने विशेष जोर दिया है। वहीं मिड डे मील पर भी विस्तृत चर्चा की गई।

■ 15वीं वित्त से सोलर वाटर पम्प लगाए जाएंगे आंगनबाड़ी केंद्रों पर-
जिन आंगनबाड़ी केंद्रों पर पेयजल आपूर्ति हेतु सुविधा उपलब्ध नही हो पा रही है वैसे केंद्रों पर 14वीं वित्त से सोलर वाटर पम्प लगाए जाएंगे। जिला समाज कल्याण पदाधिकारी को निदेश दिया गया है कि ऐसे केंद्रों का चिन्हित कर रिपोर्ट सौपे।

■ संचालित आंगनवाड़ी केंद्रों का  सुदृढ़ीकरण हेतु मूल सुविधायें होंगी बहाल-
अनुमण्डल पदाधिकारी चास श्री शशिप्रकाश सिंह ने बताया कि सरकार की महत्वाकांक्षी योजना पोषण अभियान की शुरुआत की गई है। जिले में जो भी योजनाएं संचालित है उसके माध्यम से जच्चा व बच्चा दोनों के स्वास्थ्य एवं पोषण पर एक साथ काम करेंगे। उन्होंने कहा कि जिले में संचालित आंगनवाड़ी केंद्रों के सुदृढ़ीकरण मूल सुविधायें बिजली पानी को उपलब्ध कराने के सभी विभागों को जोड़ा जाएगा। वहीं अनुमंडल पदाधिकारी बेरमो श्री नीतीश कुमार सिंह ने बताया कि धातृ माता, गर्भवती महिलाएं एवं बच्चों के स्वास्थ के लिए सितंबर में विशेष अभियान चलाकर कार्य किया जाता है ताकि कुपोषण को हमेशा के लिए दूर भगाया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here