नागरिकता संशोधन कानून जल्द लागू करने के बारे में भाजपा अध्यक्ष के बयान की निंदा

0
159

20 अक्टूबर 2020, चंडीगढ़। भाजपा अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने पच्छिमी बंगाल में एक कार्यक्रम के दौरान भाषण में कहा है कि जल्द ही नागरिकता संशोधन कानून लागू किया जाएगा। उसके इस ब्यान की चारों ओर से बड़े स्तर पर निंदा हो रही है। पंजाब के मज़दूरों, नौजवानों, छात्रों के पाँच संगठनों – कारखाना मज़दूर यूनियन, नौजवान भारत सभा, टेक्सटाइल हौजरी कामगार यूनियन, पंजाब स्टूडेंटस यूनियन (ललकार), पेंडू मज़दूर यूनियन (मशाल) ने आज संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति जारी करके भाजपा द्वारा इस फासीवादी कानून को जनता पर थोपने की घटिया कोशिशों की सख्त निंदा करते हुआ हुए नागरिकता संशोधन कानून, राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर पूरी तरह रद्द करने की माँग की है।

      संगठनों की ओर से प्रेस ब्यान जारी करते हुए जन नेताओं राजविंदर, छिंदरपाल और सुखदेव सिंह भूँदड़ी ने कहा है कि सरकार के संशोधन कानून, जनसंख्या व नागरिकत रजिस्टर न सिर्फ मुसलमानों व अन्य अल्पसंख्यकों के खिलाफ़ हैं बल्कि समूची मज़दूर-मेहनतकश आबादी के खिलाफ़ हैं। हिंदूत्वी कट्टरपंथी टोला भले ही आम हिंदुओं को इस भ्रम में डालने के लिए पूरा जोर लगा रहा है कि इससे हिंदुओं को फायदा होगा। लेकिन असलियत इससे एकदम विपरीत है। नागरिकता के सबूत पेश करने के बहाने बेगुनाह लोगों पर फासीवादी हकूमत ने जुल्मों का कहर बरपा करना है, बंदी केंद्रों में बंद करना है, जनता के अधिकारों के लिए उठी हर अवाज़ का गला घोंटने की कोशिश करनी है, जनता में साम्प्रदायिक बँटवारा और तीखा करना है। उन्होंने कहा कि जनता की अदालत में सरकार के इन कदमों को रद्द किया जा चुका है। हालांकि करोना से मौत का डर दिखा कर, इस बहाने दमन करके और संघी टोले द्वारा अंजाम दी गई दिल्ली हिंसा के दोष में झूठे तौर पर फँसा कर, नागरिकता अधिकारों पर हमलों के खिलाफ़ उठे जनांदोलन को एक बार पीछे धकेलने में कामयाबी हासिल कर ली है। पूँजीपतियों को बेहिसाब मुनाफों की सौगात देने के लिए श्रम कानूनों में घोर मज़दूर विरोधी संशोधन किए गए हैं, केंद्रीय कृषि कानून बनाए गए हैं, प्रस्तावित नया केंद्रीय बिजली कानून लाया गया है, निजीकरण की रफ़तार तेज़ की गई है। संगठनों ने सभी इंसाफपसंद लोगों का आह्वान किया है कि वे नागरिकता संशोधन कानून और हुक्मरानों की अन्य सभी जनविरोधी नीतियों को रद्द करवाने के लिए संघर्षों के मैदान में उतरें।

जारी कर्ता,

राजविंदर सिंह,

छिंदरपाल सिंह,

सुखदेव सिंह भूँदड़ी

संपर्क- 8360766937

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here