मीना कुमारी का बयान महिला विरोधी और गैरजिम्मेदाराना : ऐपवा

43
271
हाल में यूपी के राज्य महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी ने प्रेस को दिए अपने बयान में कहा कि” लड़कियों को मोबाइल नही दिया जाना चाहिए क्योंकि वह बात करते हुए लड़कों के साथ भाग जाती हैं।”
उनके इस बयान की ऐपवा तीखी निंदा करती है। मीना कुमारी का बयान महिला विरोधी ,दकियानूसी , पितृसत्तात्मक और मनुवादी सोच समझ को दर्शाता  है।महिला आयोग की सदस्य ही  खुद महिला विरोधी समझदारी रखेंगीं  तब  ऐसे में  महिला आयोग के जरिये महिलाओं को  न्याय कभी नहीं मिल सकता है।
आज  शिक्षा  और अपने सर्वागीण विकास के लिए मोबाइल और इंटरनेट  आवश्यक सेवाएं है । ऐसे में हर लड़की के लिए इस सुविधा की मांग करने के बजाय  महिला आयोग की सदस्य उल्टा लड़कियों को इन सुविधाओं से वंचित कर देने वाला बयान दे रही हैं। यह बयान उनके  पद की गरिमा के विपरीत गैरजिम्मेदाराना है।  इससे यह भी साबित होता है कि  खाप पंचायती मनसिकता  महिला आयोग के अंदर काम कर रहे जिम्मेदार लोगों में भी मौजूद है।
 ऐपवा मांग करती है कि मीना कुमारी की  राज्य महिला आयोग की सदस्यता तत्काल खारिज की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here