सभी मजदूरों को तत्काल रेल, बस व अन्य माध्यमों से सुरक्षित उनके घर पहुँचाया जाए

4
204

कोरोना वायरस से निपटने व देश की तबाह होती अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने हेतु मजदूरों- किसानों व आम जनता की ओर से भारत सरकार से इंक़लाबी छात्र मोर्चा,उ.प्र. की प्रमुख माँगें-

1- सभी मजदूरों को तत्काल रेल, बस व अन्य माध्यमों से सुरक्षित उनके घर पहुँचाया जाए।

2- कोरोना वायरस जब तक नियंत्रण में न आ जाये तब तक उद्योगों को बंद रखा जाए और मजदूरों को सवेतन कार्यमुक्त रखा जाए।

3- मजदूरों को दैनिक जीवन के उपयोग हेतु आवश्यक राशन सहित सारे सामानों की आपूर्ति मुफ्त में की जाए।

4- कोरोना से पहले कार्यरत मजदूरों को कोरोना के नियंत्रण में आ जाने तक उनका पूरा वेतन देते रहा जाए और बेरोजगार लोगों व दिहाड़ी मजदूरों को न्यूनतम दैनिक मजदूरी के हिसाब से प्रति माह कोरोना भत्ता दिया जाए।

5- निजी अस्पतालों, निजी स्कूलों, निजी उद्योगों, निजी बैंकों और बहुराष्ट्रीय निगमों का तत्काल राष्ट्रीयकरण किया जाए।

6-किसानों को राहत देते हुए उनके गल्ले की उचित दामों में सरकार द्वारा डायरेक्ट खरीद की जाए। उनके सभी कर्जे माफ किये जायें। आम जनता को बिजली और पानी मुफ्त किया जाए।

7- मठों, मंदिरों, मस्जिदों, गिरजाघरों, गुरुद्वारों की संपत्ति जब्त की जाए। उस संपत्ति का इस्तेमाल कोरोना राहत कोष के तहत किया जाए।

8- पूरे देश में भूमि सुधार अधिनियम लागू किया जाए। ग्राम समाज की जमीनों और भूमि सुधार अधिनियम के तहत सील की गई सारी जमीनों को शहर से लौटे और पहले से गाँव में रह रहे भूमिहीन व छोटे किसानों को आवंटित की जाए।

9- कोरोना से निपटने के लिए नए कोरोना अस्पतालों का जल्द से जल्द निर्माण किया जाए। सभी अस्पतालों में अलग से कोरोना वार्ड का गठन किया जाए। नए आईसीयू वार्डों और वेन्टीलेटरों का निर्माण किया जाए।

10- सभी अस्पतालों के सभी ओपीडी सेंटर खोले जाएं।

11- डॉक्टरों को कोरोना के इलाज के लिये और कोरोना वायरस से बचाव के लिए पर्याप्त संख्या में आवश्यक चिकित्सकीय संसाधन मुहैया कराया जाए।

12- कोरोना के लक्षण वाले सभी लोगों की पूर्ण जांच की जाए। कोरेन्टीन सेंटरों में रखे गए व्यक्तियों के साथ गरिमापूर्ण व मानवीय व्यवहार किया जाए।

13- कोरोना वायरस की गंभीरता को देखते हुए रेयरेस्ट ऑफ द रेयर मामलों को छोड़कर बाकी सभी आरोपियों को जेलों से पैरोल पर छोड़ा जाए। साथ ही सभी राजनीतिक बंदियों को तत्काल पैरोल पे रिहा किया जाए। राजनीतिक मामलों में गिरफ्तारियां पूर्ण रूप से बंद हों।

14- सारे नागरिक अधिकार बहाल किये जायें। जनता को और संगठनों को फिजिकल डिस्टेंसिंग मेंटेन करते हुए प्रोटेस्ट, स्ट्राइक व जुलूस करने की छूट दी जाए। मीडिया को पूर्ण स्वतंत्रता दी जाए। कोरोना के बहाने अफवाह फैलाने वाले व झूठी खबरें दिखाने वाले न्यूज़ चैनलों को बैन किया जाए।

15- पुलिस को तत्काल जनता पर लाठी चलाने और जनता से मारपीट करने को प्रतिबंधित किया जाए। पुलिस और सेना का इस्तेमाल आपदा प्रबंधन व जनता की सेवा में किया जाए। जनता के साथ बत्तमीजी करने वालों और मारपीट करने वाले पुलिस के जवानों और अधिकारियों पर सख्त से सख्त कार्यवायी हो।


इंक़लाबी छात्र मोर्चा, उ.प्र.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here