‘सभी किसान संगठन एकजुट होकर करें संघर्ष’

831
3087


संयुक्त बयान मे सयुंक्त किसान मोर्चा(भारत) किसान जागृति संगठन के राष्ष्ट्रीय महासचिव राजकुमार भारत* , शीलम भारती, रजत शर्मा एडवोकेट प्रेस व सोशल मीडिया और नेशनल टीवी पर यह कहा कि अब समय की मांग है और भारत देश के सत्रह हजार से ज्यादा किसान संगठनो और यूनीयनों के अध्यक्ष प्रधान महासचिव व प्रतिनिधियों को जो संयुक्त किसान मोर्चा(भारत) के सदस्य हैं और बराबरी का हक़ व प्रतिनिधि हैं एसकेएम(भारत) कार्यकारिणी सदस्य हैं।सभी ईकाईयाँ और भारत देश के सदस्यों की पाँच,सात,नौ सदस्य कमिटियाँ भंग की गई है दिल्ली मे गांधी पीस फाऊंडेशन ग्राऊण्ड और हाॅल में हुई मीटिंग के निर्णयों का कोई महत्व नहीं है।एसकेएम(भारत)गाँव की कमेटियाँ यथावत कार्यरत रहेगी और भारत देश के सभी किसान संगठन उसके कार्यकारिणी के सदस्य रहेंगे।

दिल्ली में जो हुआ वह हास्यास्पद और स्वार्थपूर्ण अंहकार में लिये गये राजनैतिक दलों के किसान संगठनों के स्वयं भू सदस्य के निर्णय देश के स्वतन्त्र यूनीयने,संगठन नहीं मानते और क्यों माने वह गुलाम नहीं हैं, इन राजनैतिक दलों के किसान नेताओं का कोई आधार नहीं है।बीस हजार करोड के लगभग चन्दा ईक्कठा कर बंदरबाँट किया गया है जिसका हिसाब भारत देश के किसान मजदूर कामगार संगठन यूनीयनों के प्रतिनिधि माँग रहे हैं ,
अब सभी वार्ता करने वाले चालीस किसान नेताओं के अलावा किस किसान यूनीयन के नेताओं के रेल टिकट , बस का टिकट दिया या कार में बैठाने की रहने की सुवीधा दी है। इसमें कम्युनिस्ट पार्टी के किसान संगठनों की भूमिका सन्देह के घेरे में है।

क्योंकि कुछ कम्युनिस्ट किसान नेता एक खेमे में और दूसरे कम्युनिस्ट पार्टी के किसान नेता दूसरे खेमे में वर्चस्व बनाये हुए खुद स्वयंभू फैसले कर नेतृत्व करने के दावे को सभी आजाद किसान नेता ख़ारिज करते है।प्रधान मन्त्री भारत सरकार से अपील है कि वार्ता के लिये किसी भी नेता इन नेताओं को ना बुलाये।ईन सभी तथाकथित किसान नेताओं को ख़ारिज कर पदमुक्त कर दिया है।
महिलाओं को प्रतिनिधित्व ना देना और किसान जन आंदोलन में शामिल सभी सत्रह हजार संगठनों यूनीयनों के प्रधान व महासचिवों के बोलने ना देना
उन सभी संगठनों यूनीयन के किसान मजदूर कामगार नेताओं में भारी रोष है।लघु जोत के किसान नेताओं और नारी शक्ति को समान सम्मान व प्रतिनिधित्व ना देना और सिर्फ राजनीति करना अब नहीं चलेगा।
संयुक्त किसान मोर्चा (भारत) कायम है और किसानों की जब तक सभी मांगें मनवा नहीं ली जाती तब तक सरकारों के साथ सत्य का आग्रह कर बहिषकार आंदोलन तहसील स्तर पर धरने शुरू करने की अपील सभी संयुक्त किसान मोर्चा(भारत) की इकाईयाँ गाँव-गाँव में किसान जागृति संगठन अभियान जारी है और जारी रहेगा।
करो या मरो।अभी नहीं तो कभी नहीं।
सभी तथाकथित किसान राजनेताओं को किसान मजदूर कमेरा वर्ग ने नकार दिया है। आत्मआलोचना और आत्म विष्लेशण कर सत्य पर निर्णय लेकर प्रेम से मित्र बन कर अंहकार त्याग कर सभी किसान संगठनों सर्वोदय समाज स्वतन्त्र विचार रखने वाले अंहिसा और सत्य में विश्वास रखने वाले असली किसान पुत्र बेटियों को नेता बन कर , नेतृत्व के लिये तैयार रहे ।
आज भारत* को बचाने की जरूरत है।व्यवसथा बदलनी होगी।सभी समस्याओं का समूल नष्ट करना होगा।बेरोजगारी , बीमारी ,भ्रष्टाचार , मिलावट खोरी,परिवारवाद ,जल ,जंगल , जमीन के सभी समस्याओं को सुलझाने की बजाय आज नफरत और झूट जुमलेबाजी और येन केन किसी भी तरह के सौदेबाज़ी हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई मन्दिर मस्जिद हिन्दुस्तान पाकिस्तान अब बंद होना चहिये।
बस अब और नही बर्दाश्त करेगा भारत* का किसानपुत्र,मजदूर कामगार कमेरा वर्ग भारत* की बेटियों उठो निकलो घरों की चार दीवारी से नस्लों और फ़सलों को बचाने के लिये भारत के लोकतन्त्र व्यवसथा संविधान को बचाना है।

जेल जाना होगा,झूटे मुकदमें भी बनेंगे और अपने आप को होम करने की क़ुर्बानी देनी होगी।मल्टीनेशनल काॅरपोरेट घरानों से भारत की मानवता व देश के गाँवों को बचाने के लिये ग्रामस्वराज को तीसरी सरकार का दर्जा ग्राम सभाओं को देना होगा , सभी काले जन विरोधी कानून टैक्स टर्मज कंडिशन हटाने रद्द कर विश्व में शान्ति स्थापित करने के लिये भारत* को दिशा देनी होगी।हमारा सवा सो करोड का भारत सक्षम है आन्तिरक सुरक्षा और सीमाओं की रक्षा के लिये सभी को बिना शर्त सेना पुलीस की ट्रैनींग देने की व्यवस्था कर भारत सरकार के मुख्य सेवादार देश के चौकीदार नरेन्द्र मोदी प्रधान मन्त्री भारत सरकार सर्व सेवा संघ परिसर राजघाट वाराणसी यूपी की जमीन पर नगर निगम वाराणसी के क़ब्ज़े को योगी मुख्य मन्त्री उत्तर प्रदेश को निर्देश देकर डीएम वाराणसी के आदेश द्वारा 15 अगस्त 2023 से पहले ख़ाली करवाने के कार्य करें और जिस प्रकार माफी माँग कर गलती स्वीकार की है वो वाराणसी के सांसद भी हैं सर्व सेवा संघ परिसर राजघाट वाराणसी महात्मा गॉंधी की प्रतिमा के सामने माँफी माँग कर विवाद को सुलझाये।
स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री जी
प्रधान मन्त्री की तरह आये
हम निमन्त्रण देते है स्वीकार कर पन्द्रह अगस्त से पहले हमें सूचित करें , स्वागत करेगी भारत देश की जनता व लोक सेवक सर्वोदय मित्र राजकुमार भारत*
राष्ट्रीय महासचिव
सर्वोदय किसान नेता एवं संस्थापक सदस्य संगठन संयुक्त किसान मोर्चा (भारत)किसान जागृति संगठन
शीलम झा भारती*
राष्ट्रीय अधयक्ष
महिला विंग एवं प्रबंधक
सर्व सेवा संघ परिसर राजघाट वाराणसी उत्तर प्रदेश
रजत शर्मा एडवोकेट
राष्ट्रीय अध्यक्ष
युवा विंग
सभी लोकसेवक सर्वोदय मित्र किसान संगठन के प्रतिनिधियों की मीटिंग वाराणसी में 15 अगस्त से पहले आगामी रणनीति के लिये विचार विमर्श कर तिथि घोषित की जायेगी
जय किसान जय जवान
जय हिन्द जय भारत*
जय जगत जय इंसान
इन्कलाब….,
वाहेगुरू जी….
राजकुमार भारत*
संयुक्त किसान मोर्चा(भारत)
09255246238
Email raajkumarbharatnfccc@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here