बढ़ती महिला हिंसा, दलित उत्पीड़न, राजनैतिक कार्यकर्ताओं की रिहाई जैसे मुद्दों पर ऐपवा का प्रदर्शन

0
897

21 जुलाई वाराणसी : वाराणसी ऐपवा कार्यकारिणी ने आज देश और प्रदेश में बढ़ती महिला हिंसा, दलित उत्पीड़न,राजनैतिक कर्तकर्ताओं की रिहाई की मांग को लेकर बनारस शहर और सिंधौरा गांव में आयोजित किया गया।
बनारस शहर में यह प्रदर्शन ऐपवा जिला सचिव स्मिता बागड़े और जिला अध्यक्ष डॉ नूरफ़ातिमा के नेतृत्व में सम्पन्न हुआ।
कार्यक्रम महामरी में नियमानुसार किया गया।
कार्यक्रम में सहसचिव सुजाता भट्टाचार्य, उपाध्यक्ष सुतपा गुप्ता, विभा प्रभाकर एवं विभा वाही, अर्चना, और प्रदेश सचिव कुसुम वर्मा शामिल हुई.
विरोध प्रदेशन सिंधौरा गांव, ब्लाक पिंडरा में भी आयोजित किया गया। यह विरोध ऐपवा नेत्री रुखसाना और नूरजहां के नेतृत्व में सम्पन्न हुआ । कार्यकम में लक्ष्मीना, इंद्रावती, बिंदु और रानी आदि महिलाएं शामिल हुई।
प्रदर्शनकारियों ने प्लेकार्ड पर नारे दिए कि यूपी में गुंडाराज नही संविधान का राज चलेगा/ महिला हिंसा नही सहेंगे सम्मान, सुरक्षा और आज़ादी लेकर रहेंगे।/ दलित – गरीबो- आदिवासियों पर पुलिस दमन नहीं सहेंगे/
राजनैतिक कार्यकर्ताओ की असंवैधानिक गिरफ्तारी बर्दाश्त नही- बिना शर्त उनकी रिहाई करो!

विरोध प्रदर्शन से ऐपवा की मांगे-

• लखनऊ में न्याय मांगने आईं अमेठी की महिलाओं को आत्मदाह की ह्रदयविदारक घटना की ऐपवा तीखी निंदा करती है। ऐपवा ।जिंदगी से जूझ रही जख्मी सफिया को उच्च मेडिकल सुविधा, हादसे में घायल उनकी बेटी गुड़िया के समुचित उपचार की मांग करती है साथ ही अमेठी में उनके जमीनी विवाद में त्वरित न्याय की भी मांग करती है।
• अयोध्या में थान हैदरगंज के ग्राम संवरधीर में सवर्ण सामन्ती ताकतों के द्वारा दलित महिलाओं के साथ अश्लील हरकत करने की और उल्टे दलितो पर फर्जी FIR दर्ज करने की ऐपवा कड़ी निंदा करती है। इस दौरान दोनों पक्षों में हुए विवाद में घायल दलित महिलाओं उनके परिवारों के साथ ऐपवा संवेदना प्रकट करती है और उनके मेडिकल परीक्षण और समुचित उपचार की भी मांग करती है। इसी गांव में लंबे समय से अपनी वाजिब मजदूरी के लिए सँघर्ष कर रहे दलित परिवारों की मांग के साथ ऐपवा एकजुटता प्रदर्शित करती है।
• चंदौली जिले के चकिया ब्लाक में सत्ता समर्थित दबंग जिला पंचायत सदस्य महेन्द्र राव ने दो दलित महिलाओं को अर्धनग्न कर पिटवाया । लंबे संघर्ष के बाद FIR तो दर्ज हो गई लेकिन मुख्य आरोपी महेंद्र राव का नाम पुलिस ने प्राथमिकी में दर्ज नही किया है। ऐपवा इस घटना की तीखी निंदा करती है और दोनों महिलाओं के साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए उनके मेडिकल कराने, समुचित उवचार कराने और मुख्य आरोपी के खिलाफ तत्जल नामजद FIR की माँग करती है।
• मिर्जापुर में ऐपवा नेता जीरा भारती पर यौन हमला करने वाले हमलावरों की गिरफ्तारी 20 दिन के बाद भी नहीं की गई है। ऐपवा मांग करती है कि तत्काल हमलावरों को अविलंब गिरफ्तार किया जाए अन्यथा मिर्जापुर के डीएम औऱ एस. एस. पी को सस्पेंड किया जाए।
• जेल में बंद क्रांतिकारी कवि वरवर राव के स्वाथ्य खराब होने पर उन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। ऐपवा उनके बेहतर इलाज और शीघ्र स्वथ्य होने की कामना करती है और अतिशीघ्र उनकी बिना शर्त रिहाई की भी मांगे करती है। साथ ही शोमा सेन समेत सभी सजनैतिक कार्यकर्ताओं की असंवैधानिक गिरफ्तारी की तीखी निंदा करती है और अविलंब सभी राजनैतिक कार्यकर्ताओं की बिना शर्त रिहाई की भी मांग करती है।
अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (ऐपवा)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here