संघी टोले ने ढूंढ़ निकाला कोरोना वायरस का इलाज!!!

0
513

वाराणसीः मोदी योगी और आरएसएस ने कोरोना वायरस का इलाज ढूंढ लिया है। अब किसी को कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है
कोरो ना से पूरे देश में इलाज और लोगों को मदद मोदी अपने बेची हुए चाय के बचाए गए पैसे से करेंगे
कोरो ना के डर से भागे भगवानों और उनके पंडे पुजारियों की कमी धारावाहिक रामायण व राम लला के भवन पर पेंटिंग से पूरी की जाएगी
सरकार द्वारा जनता को ताली और थाली बजाने में लगाकर मनुस्मृति लागू करना व दलाली मीडिया द्वारा उसका पूरा सहयोग करना हिंदुस्तान की खबर का अवलोकन आप लोग बताएं कि क्या टेलीविजन देखना व समाचार पत्र पढ़ना हम लोग छोड़ दें
एक तरफ देश में संविधान और संवैधानिक संस्थाओं पर हमले के खिलाफ जनांदोलन उभार पर था और सरकार आंदोलन का दमन करने में नाकाम हुई तो उसने कोरोनावायरस का सहारा लेकर आंदोलन का दमन किया और आंदोलन को खत्म किया दूसरी तरफ कोरोना के संक्रमण के दौरान सरकार फ्लाइट से करो ना संक्रमित को मंगाती है रईसजादो को सारी सुविधाएं मुहैया करवाती है फ्लाइट से आने वाली संक्रमित कनिका कपूर से मुजरा करवाती है यस बैंक लूट कर एमपी की सरकार को खरीदती है राम मंदिर का शिलान्यास करवाती है साथ ही देश की आम जनता के लिए लाकडाउन करवाती है लाक डाउन से घबराकर भुखमरी की दशा में देश का आम जनमानस जब अपने घरों के लिए जाने को सड़कों पर आता है तो पुलिस उनका बार-बार दमन करती है करो ना के संक्रमण ने जब भगवानों और उनके ठेकेदार पांडू पुजारियों का झूठ बेनकाब कर उन्हें दुम दबाकर भागने पर मजबूर किया तो धर्म के ठेकेदार सरकार ने कोरोना से लड़ने के बजाए रामायण सीरियल की शुरुआत किया और रामलला की दीवारों का पेंटिंग शुरू कर दिया जब पूरे देश के सांसद विधायक विपक्षी पार्टियां और आम जनमानस प्रधानमंत्री राहत कोष में पैसा दे रहा है और अपनी सामर्थ्य के अनुसार मदद कर रहा है ऐसे में भाजपा के मंत्रियों द्वारा मोदी किट का विज्ञापन करना यह जाहिर करता है लग रहा है कि मोदी ने चाय बेचकर पूरी पैसे इकट्ठा करके लोगों को राहत पैकेज दिया है ऐसे में पूरे देश को आर एस एस का गुलाम प्रधान चौकीदार हम लोगों को ताली और थाली बजवा पूरे कड़ाई से देश के संविधान और संवैधानिक संस्थाओं पर हमला कर मनुस्मृति का शासन लागू करने को तत्पर है हम सभी लोगों को कोरोना से बचने के लिए सावधानियां बरतनी है और सजग रहना है क्योंकि सरकार के पास ना तो कोई स्ट्रक्चर है और नहीं उसकी कोई खास और कारगर पहल है लेकिन उसकी गतिविधियों पर भी नजर रखना जरूरी है।
एडवोकेट प्रेम प्रकाश सिंह यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here