मेहनतकशों का कर्ज

0
297

जब मैं कुछ लिखती हूँ
वे कहते हैं
इतनी नकारात्मकता क्यों
कुछ खुशनुमा लिखो
जैसे कोई प्रेम कविता
या झील किनारे का सुंदर दृश्य
या यूं लिखो न
कि मन रंगों से भर जाए
सारी दिशाएं हंस कर खिलखिला जाए।
पर क्यों लिखूं मैं ये?
मेरी कलम को नही है मंजूर ये
वो लिखना चाहती है यथार्थ
बनना चाहती है भूखे के आंखों के गुस्से का रंग
उसे चीख भी बनना है
उन बेचैन रोते बच्चों की
जिनकी माँ के छाती का दूध सूख गया है।
निरपेक्ष कुछ नही होता दोस्त
मेरी कलम ने भी चुन लिया है
उनका पक्ष जिन्होंने उसे बनाया है
जो भटक रहे दर-बदर
भूख और बदहवासी में
मेरी कलम इनसे दगा नही कर सकती।
तुम लिखो न
हसीन पल, खूबसूरत वादियाँ
मेरी कलम तो दबी है अभी
मेहनतकशों के कर्ज तले
जिनकी आवाज़ बनना
लक्ष्य है उसका
एकमात्र!

-वंदना भगत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here