पुनर्जन्म

28
1271

1.
ई बुढ़वा झगड़ा रोप कर अपने तो दऊ पर गया आउर जिनगी भर का किचाइन माथे पर डाल गया, इमिरतिया बरसातू को साइकिल से आते देख कर भुनभुना रही थी।
चुप रह तनि पानी त दे…..बरसातू अपनी साइकिल मड़ई के किनारे खड़ी करके झिलंगही खटिया पर ठहते हुए बोला। आज भी दिन भर कचहरी मे ही बीत गया था उसका।
वकील से भी बतकुच्चन हो गया पता नही काहे जब तारीखे पड़ना था, तो दिन भर बैठा कर एक दिन की मजूरी मरवाने का का मतलब, उसने पानी लेकर खड़ी अपनी पत्नी से बोलते हुए लोटा थाम लिया।
ठेकेदरवा कल फिर टोकेगा कि या तो मुकदमा लड़ लो या राजगिरी करो। फिर सोचा उसका भी दोष नही है, जिसका काम फंसेगा उ तो बोलेगा ही।
2.
मसला पुराना है, बरसातू के बाप को भाइयों से बटवारे मे जो हिस्सा मिला था, उससे सटी हुई थोड़ी सी सार्वजनिक जमीन भी थी। अतिरिक्त सार्वजनिक जमीन के कारण उसके हिस्से की जमीन रकबे मे थोड़ी बड़ी हो गयी थी।
जमीन के उस अतिरिक्त हिस्से पर पर बरसातू के बाप ने अपने बूढ़ी गाय और बकरी की नाद, चरनी बना ली थी। उसी अतिरिक्त हिस्से के लिए भाइयों मे आपस मे काफी गाली-गलौज हुई थी, उनकी पत्नियों ने भी महीनों इस गाली-गलौज को विस्तार दिया था, जिसमें टोला के लोगों को बिला नागा धारावाहिक मनोरंजन हुआ करता था।
3.
जब का यह वाकया है, तब थर्ड क्लास के सरकारी कर्मचारी साइकिल से चला करते थे।
बरसातू के बाप खेलावन का घर सड़क के किनारे होने के कारण हलके से शाम को वापस लौट रहे लेखपाल को उसके दरवाजे के नीम के पेड़ पर बैठे मुर्गे की बंाग से अपने लड़की के ससुर यानी समधी के स्वागत-सत्कार की समस्या का समाधान सूझ गया।
मुर्गे ने जब दुबारा बांग दिया तो लेखपाल को लगा जैसे मुर्गा उसको ही बुला रहा है। कुछ आगे बढ़ चुके लेखपाल ने साइकिल वापस मोड़ा और खेलावन को पुकारने लगा ।
‘‘अरे खेलावन भाई घर कुछ मेहमान आने वाले हैं, इ मुर्गवा दे देते‘‘ उसने नीम के पेंड़ की डालियों में छिपे मुर्गे की ओर इशारा करते हुए कहा ।
खेलावन अपनी तल्ख जबान के लिए मशहूर था। उस दिन सुबह ही किसी ने खेलावन के दरवाजे पर नीबू सिन्दूर रखकर अपना भूत उसके घर भेजा था और उसकी बीबी पूरे दिन आस पड़ोस को गरियाती रही।
खेलवान की मेहरारु पर उस दिन सचमुच का भूत आ गया था, पूरे दिन मानसून की बारिश की तरह कभी उसकी गालियां तेज हो जाती तो कभी हल्की फुहार की तरह धीमी हो जाती। खेलवान काम पर नही गया, पता नही कब किससे बात बढ़ जाय।
दिन भर की चिकचिक से खिन्नमन अभी लेटा ही था कि लेखपाल की पुकार सुनाई दी, उसे यह भी आशंका हुई कि लेखपाल या तो मुर्गे का दाम नही देगा अथवा औने-पौने में खरीदना चाहेगा, इसीलिए उसने सीधे टाट उलट दिया।
लेखपाल कुछ अपमानित महसूस करते हुए वापस घर चला गया और कुछ दिन बाद उसने अपनी व्यथा गांव के कथित मानिन्दों को बताई। सबने उसके दर्द को सहलाया, दरअसल बहुत से सवर्ण पिछड़ी जाति के खेलावन की तल्ख जबानियों को अपने-अपने दिल में सहेजे सही वक्त का इंतजार कर रहे थे।
4.
लेखपाल को गांव के गणितज्ञों का थोड़ा इशारा ही तो चाहिए था, खेलावन के आबादी की जमीन से सटी हुई सार्वजनिक जमीन जिन्दा हो गयी और उस पर अतिक्रमण का मुकदमा कचहरी में दाखिल हो गया।
लोग कहते हैं कचहरी जिसको पकड़ती है, उसकी पीढ़ियों को भी नही बख्शती है। तारीख…………वकील………….पेशकार…………..मुहर्रिर…………………साहब………….हजूर…………पुकार……………..हड़ताल……………फीस………………फैसला…………….अपील……………….बहस…………….के साथ खेलावन की बची खुची उम्र गुजर गयी।
बीस-पच्चीस साल बहुत होते हैं भाइ, अखबारों ने इतने दिनों मे भिंडरवाले से लादेन का सफर तय कर लिया, अमरीका ने रीगन से बुश और रुस ने गोर्बाचेव से पुतिन का सफर तय कर किया।
गांव में उग रही गुमटियों में बोरे के नमक की जगह बन्द पैकेट का टाटा नमक बिकने लगा। इतने दिनों मे नीम के पेड़ की डालियां खेलावन के क्रिया कर्म में काम आ गयी और वह मुर्गा भी किसी बिलार के काम आ गया था।
बाप की विरासत को बरसातू नें दो-चार साल ढोने के बाद……………वकीलों की चैकी पर जम्हाई लेते ………… दाना खाते………………. पेशी देते……………………दरखासी कागज खरीदते………………………..किस्मत खोलने वाली अंगूठी परखते…………………मदारियों का मजमा देखते……………………जोश बढ़ाने वाली दवाओं और साण्डा का तेल निहारते……………..समझ लिया कि कचहरी रोज कमाने खाने वाले आदमी को तारीख-दर-तारीख मारती है।
5.
कचहरी का चक्कर लगाते-लगाते बरसातू को समझ मे आ गया कि मसला प्रधान से हल हो सकता है।
इस बार के चुनाव मे उसने काफी नाप तौल कर पुराने प्रधान की पार्टी पकड़ ली और जाति, बिरादरी, टोला, मोहल्ला मे जबानी प्रचार से लेकर दारु की पाउच तक बांटने का काम बड़े मन से किया।
प्रधान भी पिछली बार आरक्षण के कारण नही लड़ पाया था और इस बार गांव वालों को वर्तमान से अतीत अच्छा लगने की सहज प्रवृत्ति के चलते और कुछ बिरादरियों का गणित बैठ जाने के कारण झार कर वोट पाया।
तो साहेब जब कोई झार कर वोट पाकर जीत जाता है तो उसको भरम हो जाता है कि उ किसी की बदौलत चुनाव नही जीता है बल्कि कोई उससे काबिले नही है।
6.
खैर जैसे प्रधान झार कर वोट पाकर जीत गया था, वैसे ही उसको जिन्दगी मे बहुत कुछ बड़ी सहजता से मिल गया था।
उसके बाप ने सार्वजनिक उपक्रम की नौकरी से अपना काफी बड़ा निजी उपक्रम खड़ा कर लिया था। आधा दर्जन बहनो मे सबसे छोटा इकलौता भाई होने के कारण उसके हिस्से काफी प्यार-दुलार आया था।
बाप ने उसकी बहनों की शादी बुश-रेडियों और रैले-साइकिल से शुरु करके रंगीन-टी0वी0 और मारुती-800 पर खत्म की थी और इसी से उसने अपने अस्तबल में काफी अच्छे-अच्छे घोड़े(दामाद) बांध लिए थे।
घर में पड़ने वाले प्रयोजनों मे जब इन घोड़ो की हिनहिनाहट उसके दरवाजे पर गूंजती तो समृ़िद्ध के उस अहाते मे चापलूसों की भीड़ उमड़ पड़ती।
बाप के बुढ़ापे और बेटे की जवानी के बीच मे सिर्फ रिटायरमेन्ट के दिन ही बचे थे और बाप ने अपने बचे-खुचे दिन बेटे के साथ गांव मे ही काटने का फैसला किया था।
बड़े होते बेटे ने अपने बहनोइयों की संगत में बातचीत, अदब और मुफ्तखोरी का सलीका भरपूर सीख लिया, जो उसके प्रधानी के दिनों मे सरकारी तंत्र से घुलने-मिलने में बहुत काम आया।
सुबह, शाम हाजिर रहने वाले गांव के निठल्लों के लिए उसका अहाता बड़ी माकूल जगह साबित हुआ, दिन भर ताश-पत्ती और कभी-कभार मिलने वाली चाय से ज्यादा इन निठल्लों का क्या चाहिए था।
कभी-कभार निठल्लों के मां, बाप, पत्नियां उनकी कामचोरी का उलाहना देते माने गरियाते-गरियाते अहाते तक आ जातीं तो, उन बेचारों को जमी-जमाई बाजी छोड़कर खेती-गिरस्ती के जरुरी कामों मे उलझना पड़ता।
इन निठल्लों मे छोटी-छोटी राशियों पर सूद वसूलने वाले कथित सवर्ण थे, तो हरित क्रांति के बाद उभरे पिछड़ी जाति के लोग भी थे, जिन्होने अपनी खेती-गिरस्ती का भी कार्यभार घर की औरतों को सौंपकर अपनी दुनिया अलग कर ली थी और कुछ निरर्थक मेहनत का मतलब समझ चुके दलित भी थे, कहने का मतलब यह पूरा परजीवी सर्व समाज था, जिनको खेतीबारी मे परिश्रम की निरर्थकता का ज्ञान हो गया था।
7.
पहली बार के इलेक्शन में प्रधानी के चुनाव की घोषणा होते ही निठल्लों को मानो नया काम मिल गया, उन्होने उसको चुनाव लड़ने के लिए उकसाना शुरु कर दिया और एक बार ब्लाक पर परचा भरने जाते समय निठल्लों ने जब उसके जिन्दाबाद का नारा लगाया तो उसको पहली बार अपनी सार्थकता समझ में आयी, जिससे चुनाव को लेकर उसका अनमनापन खत्म हो चुका था।
गांव में बाप की समृद्धि ने सम्मानजनक स्वीकृति दिला दी थी, लोग भूल चुके थे कि उसके बाप ने अपने सगे भाइयों के हिस्से की जमीन को उनकी बेटियों की शादी-बीमारी आदि मे मदद के नाम पर किस तरह औने पौने दाम पर खरीदा था, दरअसल गंवई समाज मे परिवार के किसी व्यक्ति को समृद्धि आती है तो वो पहले अपने भाई, बन्धु, पड़ोसी को ही डंसती है।
चचाजात भाई, पट्टीदार बहुत दिनों तक दूर रहे, लेकिन समय ने धीरे-धीरे उनके दर्द को कम किया और इसमें बेटे का सहज-सरल स्वभाव भी मरहम ही साबित हुआ था।
गांव में धीरे-धीरे उग रही गुमटियां ग्लोबलाइजेशन की खबर दे रही थी और निठल्लों के लिए ये गुमटियां ज्यादे बेहतर सार्वजनिक स्थल हो गयी थी।
प्रधानी के चुनाव मे उतरने का यह भी एक प्रमुख कारण था क्योंकि लोग अहाते की अपेक्षा गुमटियों पर बैठकी करने लगे थे, इनको अहाते मे बनाए रखने के लिए भी चुनाव में भागीदारी जरुरी थी।
आकंठ दारिद्र्य में डूबा गांव का बहुसंख्य उसकी समृद्धि की चकाचैंध मे बस वोट डालनें की औपचारिकता ही पूरा कर पाया था।
पहली प्रधानी के शुरुआती कुछ दिनों उसमंे समाज-सेवा का भाव रहा, फिर प्रधानी खाते मे आने वाली धनराशि से साहबों के खैर-मकदम का खर्चा और उसीसे अपना रोजमर्रा का खर्चा निकालने की ब्यावहारिकता समझ मे आ गयी ।
दो बार आरक्षण के कारण चुनाव नही लड़ पाया तो अपने चेले चाटिंयो को ही खड़ाऊ रखकर प्रधानी चलाना चाहा लेकिन चेले खड़ाऊ पहन कर अहाते के बाहर निकल गए थे।
इसलिए इसबार का इलेक्शन काफी मंहगा पड़ गया था। अरे भाई इलेक्शन जादेतर या तो खलिहर लड़ते हैं या लतिहर। खलिहर माने जिसके पास अपनी रोजी-रोटी का संकट न हो और लतिहर माने गांव के गणित मे हमेशा नया कोंण पैदा करके अपना मतलब सिद्ध करने वाले।
(2)
1.
अगले दिन बरसातू जब काम पर निकला उसके थोड़ी देर बाद ही सोनार का आदमी तकादा करने उसके घर पहुंच गया।
बरसातू की पत्नी इमरिती हिसाब किताब के माने मे बहुत साफ-पाक थी। दो महीना पहले बाजार के सोनार से महीना खाड़ के उधार पर बिटिया के पहिलौठी लड़के के लिए और बिटिया के चांदी की पैजनी, मुनरी गढ़वा कर भेजी थी।
का करती, बिटिया की सास लगातार ताना मार रही थी, उसको बरदास नही हो रहा था। उसको भी बिटिया की शान रखनी थी।
अब वही शान उसको परेशान कर रही थी। उसको इन्तजार था बकरीद का। उसके बकरे का अच्छा दाम पिछले बकरीद पर ही लग रहा था लेकिन उसने लालच मे नही बेचा था कि अगले साल और अच्छा दाम मिल जाएगा।
उसने महाजन से एकाध महीने की और मोहलत मांगी और विश्वास दिलाया कि एक-एक पैसा जरुर चुकता कर देगी।
2.
इस बार के इलेक्शन मे अपनी पार्टी जीतने पर तो बरसातू बड़ी उम्मीद से था। उसको वकील ने समझा दिया था कि सरकार की तरफ से पैरवी नही होगी तो मामला खतम हो जाएगा।
वकील भी अपने दरिद्र मुवक्किल से उब गया था, वो हर तारीख पर फीस के लिए होने वाली चिकचिक से पिण्ड छुड़ाना चाहता था क्योंकि पुराने मुवक्किल की फीस भी पुरानी होती है और मंुहलगा हो जाने के कारण फीस बढ़ाने के सवाल पर किचाइन करने लगता है।
मुकदमे मे सरकार माने प्रधान था और चुनाव जीतने के बाद जब प्रधान से उसने अपने मुकदमे की चर्चा किया तो प्रधान का अंदाज कुछ बदल गया था । इसी तरह के कई मामलो मे उसको अपने विपक्षियों को मजा चखाना था, इसलिए बरसातू को जहां वो इलेक्शन के पहले आश्वस्त कर रहा था, वहीं इलेक्शन के बाद हीलाहवाली करने लगा।
3.
हफ्ता दिन बाद संयोग से प्रधान मुन्हार बेला मे बरसातू के घर के बगल से अकेले गुजर रहा था कि उसने मौका देखकर प्रधान को घेर लिया।
प्रधान भी थोड़ा थका था और बतिआते बतिआते धुधलके मे उसके दरवाजे पर बिछी खाट पर बैठना चाहा तबतक उसका बकरा बें-बें करता खाट से कूद कर नीचे आ गया।
प्रधान कुछ परेशान था चुनाव मे उसका काफी खर्चा हो चुका था लेकिन हेली मेली, नेता परेता, थाना, ब्लाक वाले सब दावत के लिए पीछे पड़े थे।
बकरा जब बें बोलकर खटिया से नीचे कूदा तो प्रधान को समझ मे आ गया कि अगली दावत का इंतजाम कैसे होगा और उसके इशारा करते ही बरसातू की समझ मे आ गया कि बाप के मुर्गे की आत्मा उसके बकरे का रुप धर कर उसके दुआर पर इतने दिनो से माया फैलाए हुए है।
कमजोर गृहस्थी मे बकरा बड़ी उम्मीद था। जल्दी ही बकरीद आने वाली थी, पिछली बार भाव अच्छा लगा था लेकिन अगले साल और अच्छी कीमत के लालच मे बकरा कुर्बान होने से बचा हुआ था।
बरसातू के लिए दुविधा खड़ी हो गयी एक तरफ बकरे की कीमत से इमिरितिया का तगादा खतम करा सकता था या दूसरी तरफ उसको प्रधान को देकर कचहरी के जंजाल से छुटकारा पा सकता था।
प्रधानी के चुनाव मे जितने उत्साह से लगा था उससे उसको उम्मीद थी कि प्रधान खाली ब्यवहार पर फोकट में उसके पक्ष मे बयान देकर मुकदमा खारिज करा सकता है लेकिन झार कर वोट पाने से प्रधान का दिमाग आसमान पर था। अब उसको बरसातू जैसे समर्थकों की सहूलियत से ज्यादा विपक्षियो को सबक सिखाने की पड़ी थी।
4.
प्रधान के जाने के बाद खटिया पर पड़े-पड़े बरसातू सोचता रहा कि इमिरितिया से इसपर चरचा करे या न करें, कारण मेहरारु जात है कब टोला मोहल्ला मे बकर देगी और सारा खेल बिगड़ जाएगा, पता नही।
अन्त मे उसे लगा कि बकरा प्रधान को देने की बात तो इमिरितिया को बताए लेकिन मुफ्त मे देने की बात गोल कर जाय और कौनो मौके पर बाद मे बताया जाएगा । उसने मेहरारु को समझाया कि प्रधान के यहां जलसा है बड़े-बड़े साहेब, नेता लोग आएगें और बकरा मांग रहे हैं, कीमत समझ कर दे देगें।
इमिरितिया पहले तोे भड़क गयी क्योंकि उसको अन्दाज था कि कीमत उसकी मनमुताबिक नही होगी लेकिन चुनावी गोलबन्दी मे प्रधान के पक्ष से एतना हेलमेल हो गया था कि उसको लगा जादे मोलतोल करने मे हिनाई होगी और थोड़ी ना नुकुर के बाद बकरा देने को राजी हो गयी।
तो अगले दिन भोर मे बकरा प्रधान के दरवाजे पर पहुंच गया । प्रधान ने भी गांव वालों को बकरा खरीदने की बात बताई और बरसातू ने भी बेचने की बात कही । भोज हुआ लेकिन बरसातू नही गया क्योंकि बकरे से उसको ममता हो गयी थी।
प्रधान को भी अपने गोल को इसी बहानंे उपकृत करना था नही तो आज के जमानें मे कौन बिना किसी मतलब के उसके पक्ष मे खड़ा होकर दहलेंगई बतिआएगा।
दहलेंगई मतलब समझते हैं इसका मतलब होता है कि सच बात पर तो सब्बे लोग मनमार कर हां…..हूं कर देते है लेकिन झूठ्ठो बात पर जो ललकार कर हुंकारी पारे उसको दहलेंगई कहते हैं। सबको ऐसे लोग ही चाहिए चाहे प्रधान हो या प्रधान मंत्री।
5.
इधर फिर महीना खांड़ बीतते बीतते सुनार का तगादा फिर आने लगा औरइमिरितिया बरसातू से तगादा करने लगी। अपनी बात कटते देख कर उसका गुस्सा आसमान पकड़ रहा था।
पैसे की बात तो उसके दिमाग मे बरहो बखत घूम रही थी लेकिन जब बरसातू मुह नही खोल रहा था तो वो भी अन्दाज रही थी कि दाम मिलने पर खुद ही उसको आदमी पैसा थमा देगा।
इधर प्रधान ने बरसातू को तागीद किया था कि मुकदमे मे गवाही की बात और बकरा मुफ्त मे देने की बात खुलने न पाए नही तो केस बिगड़ जाएगा।
अब बरसातू दोहमस मे था का करे, सुनार का पैसा भी देना है और बकरे का दाम भी नही लेना है। अब वही सूदखोर सहारा थे, जिनसे लाख जतन करके बचता आया था।
लेकिन चार-पांच हजार रुपया और उसका सूद चुकाने के नाम पर झुरझुरी आ रही थी उसको। रोजही का मजूर कितना खाएगा कितना बचाएगा।
ले दे कर एक बछिया रह गयी थी जो इमिरितिया के सेवा जतन से दो महिने पहले गाभिन हुई थी। एक रात बड़ी हिम्मत करके उसने मेहरारु से सारी बात बताते हुए मिन्नत किया कि इसकी कानो-कान खबर नही होनी चाहिए।
हफ्ता दिन बीतते बीतते बछिया का दाम लग गया। नाद, चरनी सूनी हो गयी और वो सार्वजनिक जमीन भी खाली हो गयी। अब इमिरितिया अपने पति से झगड़ा होने पर अपने मृतक ससुर का नाम लेकर कोसना भूल गयी है।

संतोष कुमार

शिवपुर, वाराणसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here