देर तक झनझनाता है कनपटी के नीचे पड़े झापड़ की तरह सांस्कृतिक राष्ट्रवाद

0
210

देर तक झनझनाता है
कनपटी के नीचे पड़े
झापड़ की तरह
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद
बनियाइन के साथ साथ पसीने से लथपथ
मंगरू उतार देता है
तमीज भी
सभ्यता पसीना नहीं सुखाती
हमारे ही सीने पर चढकर बनाये गये
नियम कानून रीति रिवाज धार्मिक प्रथायें
हमारी ही छाती पर मूंग दलते हैं
हम से ही कतरा कर निकलते हैं
तुम्हारे सारे जुलूस
तुम्हारे नारों के लिये लिये कच्चा माल हैं साहिब
दुधमुंही पगडंडियों के किनारों पर उगी
नर्म दूब का डूबता है दिल
शाम अक्सर हलक के निवाले का सवाल लाती है
चार कोस तक यहां बुखार की दवा नहीं मिलती
चार दिन की दवाई में जेब बकरी की तरह मिमियाने लगती है
खाली खलत्ती को आप फैशन कहते हैं
या हो सकता है
कि आपकी निगाह वहां न हो
आपकी निगाह बूचड़खानों पर है
आपकी निगाह में हैं हमारे प्रेम गीत
आप चाहते हैं पढाई से वंचित
गोबर पाथती लड़कियों के सीने पर हमेशा रहे दुपट्टा
सारी एनिमिया ग्रस्त औरतें खींच लें घूंघट
सारे सवाल आत्म हत्या कर लें
आपके जवाब की तारीफ में हम
शोक में झुके झंडे की तरह झुक जायें .
प्रज्ञा सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here